अभिव्यक्ति पुलिस बिलासपुर

रिश्वत की रेटलिस्ट ही जारी कर दे पुलिस: थाना भवन के लोकार्पण में मंच से गरजे विधायक शैलेश पांडे, गृहमंत्री को पसंद नहीं आई साफ़गोई

बिलासपुर। शहर के दो पुलिस थानों, सरकंडा और तारबहार को आज नए भवन की सौगात मिली है। नए भवन का वर्चुअल लोकार्पण गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने किया। समारोह में ज़िले के आला पुलिस अधिकारियों समेत बिलासपुर विधायक शैलेष पांडे भी मौजूद थे। इस तरह के कार्यक्रमों में मंच से वक्तव्य देने वाला व्यक्ति आमतौर पर तारीफों के फूल ही बिखेरता है लेकिन आज के इस कार्यक्रम में अमूमन मीठा बोलने वाले विधायक शैलेश पांडे ने बिलासपुर पुलिस को जमकर धोया।

पुलिस के ही मंच पर विधायक शैलेश पांडे ने मीडिया और गृहमंत्री के सामने खुलकर ये बात कही कि “बिलासपुर पुलिस इन दिनों इस कदर वसूली कर रही है कि जिससे पूरा शहर दहशत में है” उन्होंने कहा कि “पुलिस को नया भवन मिला है इससे मैं बहुत खुश हूं। इन्हें सारी सुविधाएं मिलनी चाहिए और सभी पुलिसकर्मियों का भरपूर कल्याण भी होना चाहिए, लेकिन माननीय मंत्री जी आपके निर्देश पर पुलिस विभाग को जो काम करना चाहिए, बिलासपुर पुलिस वो काम नहीं कर रही है इसका मुझे बहुत अफ़सोस है। मैं किसी प्रकार का माफिया नहीं चलाता हूं, कोयले की दलाली नहीं करता हूं, हुक्का बार नहीं चलाता हूं, कोई गुड़ाखू की फैक्ट्री नहीं चलाता हूं इसलिए मुझे आज ये बात कहने में कोई हिचकिचाहट नहीं है।”

वीडियो में देखिए विधायक शैलेश पांडे का वक्तव्य

 

उन्होंने कहा कि लॉक डाउन के समय एक चिप्स बेचने वाले मामूली से सीधे सरल व्यवसाई को थाने में लेजाकर हथकड़ी पहना दी गई और शहर में उसका जुलूस निकालने की धमकी देकर उससे 3000 रुपयों की वसूली कर ली गई। उस बेचारे व्यवसाई का अपराध सिर्फ़ इतना था कि बिकने के लिए आए सामान को वो रात में ट्रक से उतरवाकर अपनी दुकान में रखवा रहा था।”

विधायक महोदय ने कहा कि “ये मैं इसी थाने की बात कर रहा हूं। एक सब्ज़ी वाले से पुलिस की तकरार हो गई तो उससे 3000 हज़ार रुपए ले लिए गए और उससे कहा गया कि कल यहां सब्ज़ी भी छोड़कर जाना।”

विधायक महोदय ने बेहद गंभीरता से चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि अगर इस तरीके से पुलिस काम करेगी तो जनता में पुलिस के प्रति विश्वास कैसे बना रह पाएगा।

किस काम का कितना पैसा रेटलिस्ट ही जारी कर दे पुलिस

विधायक शैलेश पांडे ने तीखे आलोचनात्मक लहजे में कहा कि बिलासपुर पुलिस को एक रेटलिस्त ही जारी कर देनी चाहिए कि वो किस काम को करने का कितना पैसा लेती है।

गृहमंत्री ने हस्तक्षेप कर विधायक को रोका

विधायक महोदय की इस साफ़गोई से समारोह में मौजूद पुलिस अधिकारी स्तब्ध तो हो ही गए होंगे। कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने विधायक शैलेश पांडे को बीच में ही टोक दिया उन्होंने कहा कि “शैलेश जी थाना भवन का उद्घाटन है, थाना भवन के उद्घाटन में अपने आप को सीमित रख के बोलें तो ज़्यादा अच्छा होगा। जो आपको शिकायत है वो लिखित में दे दें मैं जांच करवा दूंगा”

विधायक शैलेश पांडे ने बिलासपुर पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाते हुए दो अलग अलग घटनाओं का ज़िक्र किया और पुलिस पर अवैध वसूली करने का आरोप लगाया।

ऐसा लगता है कि यदि गृहमंत्री न टोकते तो शायद विधायक महोदय कुछ और घटनाओं का भी ज़िक्र करते। ऐसा भी हो सकता है कि अपने प्रदेश की पुलिस का कच्चा चिट्ठा खुलता देख गृहमंत्री जी ने बीचबचाव किया और पुलिस की इज्ज़त बचाने की कोशिश की।

आपको याद दिला दें कि बिलासपुर पुलिस के कुछ अधिकारियों पर आदिवासी लड़की की किडनैपिंग से लेकर नाबालिग बच्चियों को लहूलुहान होते तक पीटने और बदनियती से महिला अधिवक्ता के कपड़े खीचने जैसे गंभीर आरोप लग चुके हैं लेकिन आज तक किसी भी पुलिस अधिकारी को कोई सज़ा नहीं हुई है। सिर्फ़ बिलासपुर ही नहीं प्रदेश के कई इलाकों में पुलिस पर गंभीर आरोप लगते रहे हैं। अम्बिकापुर के पंकज बेक का कस्टोडियल डेथ का मामला भी इनमें से एक है।

पुलिस पर लगे आरोपों को फ़ेहरिस्त लंबी है। विधायक को रोकते हुए गृहमंत्री द्वारा किया गया का बीचबचाव भी कार्रवाई की उम्मीद नहीं जगाता है।

Related posts

इंडक्शन कोर्स के लिए सिंगापुर जाएंगे ये पांच IPS अफसर..

News Desk

कल्पेश याज्ञनिक ने आत्महत्या की ? : सवाल_गहरे_हैं_चौतरफा_अंधेरे_हैं

News Desk

प्रधानमंत्री जी (शेक्शपियर का लिखा याद रखें)–अरब का सारा इत्र भी, आपके हाथों पर लगे खून को धो नहीं पाएगा. : सीताराम येचुरी .

News Desk