Uncategorized

संपत्ति विवाद में सगे भाई पर फरसा चलाने वाला कांग्रेस नेता लगभग एक महीना बाद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर

विधायक और शहर के एक बड़े पुलिस अधिकारी से सम्बंध की दिखाता था दादागिरी

बिलासपुर। अमेरी में रहने वाले 38 वर्षीय कपिल त्रिपाठी पर बीती 3 मई को उनके ही सगे बड़े भाई संजू उर्फ़ प्राणनाथ त्रिपाठी ने फरसे से जानलेवा हमला कर दिया था। कपिल ने बताया कि उनके बड़े भाई संजू त्रिपाठी ने डरा धमका कर, जान से मारने की धमकी देकर कई लोगों की जमीनों पर कब्ज़ा कर उन्हें अपने नाम करवा लिया है और अब उसकी नज़र अपने ही पिता की संपत्ति पर है।

मेरे पास ऐसा लिक्विड है जिससे लाश की हड्डियाँ भी गल जाती हैं

कपिल ने बताया कि संपत्ति के लालच ने अब संजू त्रिपाठी को दरिंदा बना दिया है। कपिल बताते हैं कि तीन तारीख़ की ही सुबह संजू, पिता को कहीं दूर जंगल में ले गया और गालियाँ देते हुए कहा कि “तुझे यहीं मार के गाड़ दूंगा। मेरे पर ऐसा लिक्विड है जिससे लाश की हड्डियाँ तक गल जाती हैं। तू ग़ायब हो जाएगा और किसी को कुछ पता भी नहीं चलेगा”

3 मई की दोपहर कुदुदण्ड वाले अपने मकान में बड़े बेटे संजू त्रिपाठी से गन्दी गन्दी गालियाँ सुनने और छोटे बेटे पर फरसा चलता देख पिता जयनारायण त्रिपाठी बेहद दुखी और डरे हुए हैं। फोन पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि “अब ये कोई सामान्य पारिवारिक झगडा नहीं रह गया है। संजू ने सारी हदें पार कर दी हैं अब वो पूरी तरह एक खतरनाक अपराधी बन चुका है। अब हर किसी को उससे जान का खतरा है। जो आदमी अपने बाप की हड्डियाँ गला देने की बात कर सकता है, जो आदमी अपने भाई के सिर पर फरसा मार सकता है वो इस पूरे समाज के लिए खतरा है। अब जेल ही उसकी सही जगह है।” ये कहते हुए वो रोने लगे। उन्होंने आगे कहा कि संजू त्रिपाठी ने उनके साथ आज तक जितनी भी बार मारपीट की और धमकियाँ दी हैं, सबकुछ वो पुलिस को बताना चाहते हैं लेकिन डरते हैं कि बिलासपुर आने पर उनकी हत्या न हो जाए।

विधायक और शहर के एक बड़े पुलिस अधिकारी से सम्बंध की दिखाता था दादागिरी

बेटे के द्वारा हत्या कर दिए जाने का ये डर यूँ ही नही है। कपिल त्रिपाठी और पिता जयनारायण त्रिपाठी दोनो ने हमें बताया कि आरोपी संजू त्रिपाठी हमेशा ही अपनी ऊँची पहुँच की धौंस देता था कहता था कि विधायक भी मुझे भैया बोलता है। इतना कहकर वो विधायक महोदय से हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्डिंग सुनवाता था।

लोग बताते हैं कि शहरी क्षेत्र के एक बड़े पुलिस अधिकारी के साथ पारिवारिक सम्बंध होने की बात कहकर भी वो लोगों को डराता धमकाता था।

सिर और पूरे शरीर में लगी गंभीर चोट के निशान दिखाते हुए पीड़ित कपिल त्रिपाठी ने बताया कि संजू त्रिपाठी के द्वारा किए गए और भी कई गंभीर और घिनौने अपराधों का सामने आना अभी बाकी है लोग डरे हुए हैं इसलिए सामने नही आ रहे। क्योंकि लोगों को लगा है कि पुलिस और नेता दोनों उसी का पक्ष लेंगे। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग पुलिस और राजनीति दोनों को बदनाम करते हैं पुलिस को इस मामले में विशेष रूचि लेते हुए जल्द से जल्द उसे गिरफ़्तर करना चाहिए ताकि अन्य पीड़ित भी सामने आ सकें।

FIR के बाद अब जोड़ी गई है धारा 307

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (शहर) उमेश कश्यप ने बताया कि अपराध की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने संजू त्रिपाठी पर इस मामले में अब धारा 307 भी जोड़ ली है। संजू अभी फ़रार है लेकिन उसकी तलाश जारी है वो जल्द ही पुलिस की गिरफ़्त में होगा।

रासुका जैसी गंभीर धाराओं में जा चुका है जेल

साल 2012 में तात्कालीन ज़िला दंडाधिकारी (बिलासपुर) ठाकुर राम सिंह ने आदेश जारी किया था कि सार्वजनिक सुरक्षा के अनुरक्षण के प्रतिकूल किसी भी रीति से कार्य करने से रोकने के अभिप्राय से संजू उर्फ़ प्राणनाथ त्रिपाठी को राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 की धारा 3(2) के के अधीन निरुद्ध करना आवश्यक है।

आरोपी संजू त्रिपाठी पर अबतक अलग अलग धाराओं में 30 से ज़्यादा अपराध दर्ज किए जा चुके हैं।

Related posts

राज्योत्सव के आयोजन के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित *** 1 नवंम्बर 2016 छत्तीसगढ़ निर्माण दिवस बस्तर बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति की ओर से आज “छत्तीसगढ़ राज्योत्सव किसका उत्सव” विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया गया । राज्य की बदहाल स्थिति विशेषकर किसानो, मजदूरो, आदिवासियों, दलितों,अल्पसंख्यको पर अत्याचार व उत्पीड़न की गम्भीर स्थिति पर चर्चा करते हुए प्रतिभागियों ने सर्वसम्मति से राज्योत्सव के आयोजन के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया । सीपीएम के राज्य सचिव संजय पराते ने कहा कि उत्सव राज्य के बहुसंख्य लोगो का होना चाहिए लेकिन यहाँ के दलित आदिवासी उत्पीड़ित है, कुपोषित है । यह राज्य के लोगों का नहीं बल्कि कारपोरेट और दलालों का उत्सव है । दलित मुक्ति मोर्चा के गोल्डी जॉर्ज ने प्रश्न किया कि दलितों, आदिवासियों की लाश पर उत्सव क्यों ? अल्पसंख्यक संस्थाओं पर हमला हो रहा है । चर्च पर हमले हो रहे है लेकिन राज्य सरकार चुप है । सीपीआई एमएल रेड स्टार के सचिव सौरा यादव ने राज्य के मजदूरों की बदहाल स्थिति की चर्चा की । पूर्व विधायक वीरेंद्र पांडे ने कहा कि यह छत्तीसगढ़ राज्य के लोगो का नही राजा का उत्सव है । राज्योत्सव के लिये ग्राम के मूलभूत बजट से सरपंचो को ग्रामीणों को लाने की जिम्मेदारी दी गई । शिक्षकों की स्थिति बेहद खराब है, शिक्षककर्मी आन्दोलनरत है । यह आम जनता का घाघ जनता का उत्सव है । विकास की नई परिभाषा गढ़ी जाये, मानवता के विकास की आवश्यकता है । छत्तीसगढ़ विकास का पैमाना जीडीपी नही आनन्द का पैमाना हो । श्री पांडे ने राज्य में बस्तर पुलिस द्वारा पुतला जलाये जाने की उन्होंने निंदा की और कहा की यह प्रदेश में लोकतन्त्र के खत्म होने का खतरा मंडरा रहा है । सीपीआई एमएल के सचिव बिजेंद्र तिवारी ने कहा कि मजदूरों को अपना वाजिब अधिकार नही मिल रहा है । युवा छात्र विवेक ने बताया कि युवाओं पर सांस्कृतिक प्रदूषण हो रहा है । युवाओ की सोच में बदलाव जरुरी है । नदी घाटी मोर्चा के गौतम बंद्योपाध्याय ने कड़वा सच से अवगत कराया कि छत्तीसगढ़ में किसानो से मजदूरों बनने वालों की संख्या बढ़ रही है । प्रति व्यक्ति आय बढ़ी लेकिन गरीबी कम नही हुई । राज्य की शिक्षा व्यवस्था कृषि व्यवस्था ध्वस्त हो गई है । जयप्रकाश नायर ने कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति नष्ट हो रही है । लोक कर्मी निसार अली ने छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक विरासत और चर्चा की एवम् लोकगीत प्रस्तुत किया । उन्होंने देश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हो रहे हमले की चर्चा की । उन्होंने मनीष कुंजाम की पत्रवार्ता में हमले की निंदा की । प्रदेश का पीड़ित व्यक्ति सहयोग की प्रतीक्षा कर रहा है । बस्तर में साहित्यिक चर्चा नही कर पा रहे है । परिचर्चा के समापन पर सर्वसम्मति से तय किया गया कि बस्तर में आदिवासियों के पुलसिया दमन के खिलाफ भाजपा सरकार के इस्तीफा की मांग को लेकर 3 नवम्बर को धरना दिया जायेगा । डॉ संकेत ठाकुर संयोजक सदस्य बस्तर बचाओ संयुक्त संघर्षसमिति

cgbasketwp

आदिवासियों की जमीन लेने में राज्य सरकार बेरहम

cgbasketwp

How villagers in conflict zones are terrorised into fake surrenders

cgbasketwp