Tag : pratirodh ki kavita

Uncategorized अभिव्यक्ति आंदोलन कविताएँ महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार

कविता : बोलती हुई लड़की

News Desk
वे डरते हैं… वे डरते हैं बोलती हुई लड़की सेवे डरते हैं ज़बान लड़ाने वाली लड़की से वे डरते हैं इस बात सेकि कहीं वो...
अभिव्यक्ति आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ धर्मनिरपेक्षता राजकीय हिंसा राजनीति सांप्रदायिकता हिंसा

तुम कौन हो बे : पुनीत शर्मा की कविता

Anuj Shrivastava
हिंदुस्तान से मेरा सीधा रिश्ता है,  तुम कौन हो बे क्यूँ बतलाऊँ तुमको कितना गहरा है, . तुम कौन हो बे तुम चीखो तुम ही...