Tag : Poetry

कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ

मोहब्बत तो इन्सान की फ़ितरत है

News Desk
नन्द कश्यप की कविता मोहब्बत तो इन्सान की फितरत हैवर्ना वह जन्नत से धरती पर धकेला न जाता न जाने कितने फिरोन, राजा, महाराजानफ़रत की...
अभिव्यक्ति आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ धर्मनिरपेक्षता राजकीय हिंसा राजनीति सांप्रदायिकता हिंसा

तुम कौन हो बे : पुनीत शर्मा की कविता

Anuj Shrivastava
हिंदुस्तान से मेरा सीधा रिश्ता है,  तुम कौन हो बे क्यूँ बतलाऊँ तुमको कितना गहरा है, . तुम कौन हो बे तुम चीखो तुम ही...
कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ

बायोडाटा लिखना: विस्वावा शिम्बोर्स्का

Anuj Shrivastava
बायोडाटा में अपने सारे प्रेमों में से सिर्फ विवाह का ज़िक्र करो…आपने कभी न कभी अपना बायोडाटा भरा ही होगा, नाम, जाति, शिक्षा, निवास, रुचियाँ....