Tag : मसाला चाय

कला साहित्य एवं संस्कृति

16. आज के मसाला चाय कार्यक्रम में हरिशंकर परसाई की दो व्यंग्य रचनाएं हमने पढ़ी हैं “यस सार” और “अश्लील” – अनुज.

News Desk
आज के मसाला चाय कार्यक्रम में हरिशंकर परसाई की दो व्यंग्य रचनाएं हमने पढ़ी हैं “यस सार” और “अश्लील” सरकारी कामकाज के ढीलेपन और समाज...
कला साहित्य एवं संस्कृति सांप्रदायिकता

15.मसाला चाय में आज सुनिए सआदत हसन मंटो की कहानी “टोबा टेक सिंह” अनुज .

Anuj Shrivastava
मंटो ने ताउम्र मजहबी कट्टरता के खिलाफ लिखा, मजहबी दंगे की वीभत्सता को अपनी कहानियों में यूं पेश किया कि आप सन्न रह जाए. उनके...
कला साहित्य एवं संस्कृति

14. आज मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए नजीर अकबराबादी की कविता “आदमीनामा” अनुज.

News Desk
उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान की ‘नज़ीर ग्रंथावली’ में ज़िक्र है कि नज़ीर सरल स्वभाव के थे. जब घर से निकलते तो अक्सर लोग रास्ता रोककर...
कला साहित्य एवं संस्कृति

13.मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनते हैं यशपाल की कहानी “फूलो का कुर्ता” अनुज

Anuj Shrivastava
मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनते हैं यशपाल की कहानी “फूलो का कुर्ता” कथाकार यशपाल का बचपन ऐसे दौर से गुजरा, जब बरसात या धूप...
कला साहित्य एवं संस्कृति

12.आज मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए रमाशंकर यादव “विद्रोही” की कविता “धर्म”

Anuj Shrivastava
आज मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए रमाशंकर यादव “विद्रोही” की कविता “धर्म” दिलीप मंडल लिखते हैं, “प्रोफ़ेसरों. रमाशंकर यादव नाम का वह मासूम लड़का सुल्तानपुर,...
कला साहित्य एवं संस्कृति

11.मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनिए छत्तीसगढ़ के मशहूर साहित्यकार विनोद कुमार शुक्ल की कविताएँ. अनुज

Anuj Shrivastava
मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनिए छत्तीसगढ़ के मशहूर साहित्यकार विनोद कुमार शुक्ल की कविताएँ. पंक्ति के आख़िरी व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पहुचाने की...
कला साहित्य एवं संस्कृति

9. आज के मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए देवीप्रसाद मिश्र की दो कविताएं “गोरक्षा ग्रास समिति” और “स्मार्ट सिटी”: अनुज

Anuj Shrivastava
आज के मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए देवीप्रसाद मिश्र की दो कविताएं “गोरक्षा ग्रास समिति” और “स्मार्ट सिटी” ये दोनों ही कविताएँ आज की राजनीतिक...
कला साहित्य एवं संस्कृति

8.आज के मसाला चाय कार्यक्रम में एक ख़त पढ़ते हैं..अनुज

Anuj Shrivastava
कुछ बातें ऐसी होती हैं जो हम अंदर ही अंदर महसूस करते हैं कई बार पर सामने कभी बोल नहीं पाते. ऐसी ही एक बात...
कला साहित्य एवं संस्कृति

8. मसाला चाय में आज सुनिये हरिशंकर परसाई का सशक्त व्यंग “कंधे श्रवण कुमार के” अनुज की आवाज़ .

Anuj Shrivastava
सही गलत की पहचान करने और प्रश्न पूछने की आदत को कैसे हमारी रूढ़िवादी पीढ़ी ने ही हमसे छीना है, संस्कारों के नाम पर कैसे...
कला साहित्य एवं संस्कृति

7. मसाला चाय के इस अंक में सुनिए मशहूर शायर इब्न-ए-इंशा की कुछ रचनाएं. अनुज

Anuj Shrivastava
राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित ‘इब्ने इंशा की प्रतिनिधि कविताएं’ पुस्तक की भूमिका में अब्दुल बिस्मिल्लाह लिखते हैं, “जीवन दर्शन और जीवन सौंदर्य के सामंजस्य से...