Tag : पुनीत शर्मा

अभिव्यक्ति आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ धर्मनिरपेक्षता राजकीय हिंसा राजनीति सांप्रदायिकता हिंसा

तुम कौन हो बे : पुनीत शर्मा की कविता

Anuj Shrivastava
हिंदुस्तान से मेरा सीधा रिश्ता है,  तुम कौन हो बे क्यूँ बतलाऊँ तुमको कितना गहरा है, . तुम कौन हो बे तुम चीखो तुम ही...
कला साहित्य एवं संस्कृति कविताएँ

मसाला चाय 1 . पुनीत शर्मा की कविता “अगस्त में तो बच्चे मरते ही हैं ” का पाठ अनुज से .

Anuj Shrivastava
अनुज श्रीवास्तव ने मुबंई में.मसाला चाय की श्रंखला प्रारंभ की थी जिसमें वे देश के लब्धप्रतिष्ठित साहित्यकार ,कवि और लेखकों की कहानी, कविता का पाठ...