आंदोलन मजदूर

NSPCL : मज़दूर बीरबल की काम करते समय मौत के बाद उनके परिजनों को नोकरी देने की मजदूर यूनियन की मांग./ भिलाई

मजदूर नेता कलादास डेहरिया ने बताया कि दिनांक 31/11/2017 को nspcl के आपरेशन विभाग मे सोमनी के रहने वाले मजदुर 42 वर्षिय बीरबल की मौत हो गई । 28/10/2017 को सेकंड पाली मे गया था शाम4 बजे अटेक आया फिर कंपनी के एम्बुलेंस मे भिलाई 3 कठोतीया डॉक्टर के पास ले गये फिर वहां से चन्दू लाल चंद्राकर अस्पताल ले गये , 28 को ही 10 बजे रात को आईसीयू मे ले गये 29 और 30 को आई सी यु मे ही था 31 को सुबह 6 बजे मौत का सुचना मिला ,एन एस पी सी प्रबंधक पी के मुखोपध्याय और 5 अधिकारी अस्पताल पहुंच गए और कहने लगे बिरबल का दाह संस्कार करिये फिर इनके पत्नि को काम देंगे, पूरा कार्यक्रम के बाद सोमनी पार्षद के सांथ डीजी एम मुखोपाध्याय ,अब्दुल वसीम कंपनी हेड पातरा जी के पास जाकर बीरबल के पत्नि ने गोहार लगाई तो सभी अधिकारी बोले काम नही है, कहकर मुकर गये जबकी कहा गया था कि हाऊस किपींग मे काम देंगे , बल्कि पीड़ित परिवार को प्रबंधक धमका रहा है तुम लोग नेतागिरी कर रहे हो ,बिरबल जिस आपरेसन विभाग में काम करता था वहां कोयला का भयानक डस्ट उडता है जिससे सांस लेना मुशकील हो जाता है, मास्क लगाने के बाद भी डस्ट गले के अन्दर चला जाता है यह बीमार होने का बडा कारण हो सकता है ,

एन एस पी एल प्रबंधक इस पर गंभीर नही दिखता ,प्रबंधक पी डीता गोपी यादव को भिलाई इस्पात संयंत्र मे किसी ठेकेदार के अंदर काम दिला देने का बात कहता है जबकी बिरबल यादव एन एस पी सी एल मे काम करता था तो उनके पत्नि को एन एस पी सी एल मे ही काम मिलना चाहिए .

जन आधारीत पावर प्लांट मजदूर यूनियन आफीस मे आकर मृतक के पत्नि गोपी यादव ने सारा घटना को बताई ,यूनियन माग करता है कि गोपी बाई यादव को एन एस पी सी एल तत्काल काम पर रखे ताकी दो बेटीयां कुमारी दिव्या कुमारी रशमी यादव को पढाई करा सके भरण पोषण कर सके प्रबंधक मामले को लिपापोती न करे

**

मजदूर नेता कला दास डेहरिया की रिपोर्ट

Related posts

छत्तीसगढ़ पुलिस : तृतीत वर्ग के पुलिसकर्मियों ने खोला छग सरकारके खिलाफ मोर्चा, दस मांगों को लेकरमुख्यमंत्री को भेजा पत्र :- जावेद अख्तर

News Desk

” जन अधिकारों को कुचलने के सभी प्रयास सरकार बंद करे एवं जन समुदायों के पारंपरागत अधिकारों की रक्षा एवं सम्मान करे”आदिवासियों पर बढ़ते अत्याचार के खिलाफ तीन दिवसीय सम्मेलन शुरू.: छतीसगढ़

News Desk

तथाकथित गुरुओं द्वारा जमीन पर जबरन कब्जा .: जीएसएम

News Desk