किसान आंदोलन छत्तीसगढ़ रायपुर

कृषि न्यूज पोर्टल agriconnect.live और 100 किसान समाधान सुविधा केंद्र का शुभारंभ 14 को, कृषि मंत्री रविंद्र चौबे करेंगे शुभारंभ

रायपुर। किसानों के गौरव को पुनः स्थापित करने के लिए समर्पित कृषि न्यूज पोर्टल- एग्रीकनेक्ट डॉट लाइव agriconnect.live और किसान समाधान एवं सुविधा केंद्र का 14 अगस्त को शुभारंभ होने जा रहा है। छत्तीसगढ़ के किसानों की प्रथम उत्पादक संस्था एग्रीकान की स्थापना की 15वीं वर्षगांठ के अवसर पर इस पोर्टल का विधिवत लोकार्पण कृषि मंत्री रविंद्र चौबे के मुख्य आतिथ्य में उनके निवास से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से होगा।

कोविड की गाइडलाइन के चलते प्रदेश के 100 स्थानों से किसान समाधान सूचना केंद्र का भी विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सीधा शुभारंभ कृषि मंत्री की ओर से अब किया जाएगा।

एग्रीकान के अध्यक्ष कृषि वैज्ञानिक डॉ संकेत ठाकुर और उनकी टीम की ओर से किसानों को सीधा समाधान देने के उद्देश्य से ही इस एग्रीकनेक्ट डॉट लाइव को शुरू किया जा रहा है। इसमें प्रदेशभर के किसानों को अपनी तमाम समस्याओं का सीधा समाधान मिलेगा। इस हेतु प्रदेश के कृषि वैज्ञानिक एवम विशेषज्ञों के सलाहकार मंडल का गठन किया गया है। सलाहकार मण्डल में इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ गजेंद्र चंद्राकर, पूर्व वैज्ञानिक डॉ अशोक मिश्रा, रजनीश अवस्थी, केके श्रीवास्तव, मानस बेनर्जी, दुर्गा शंकर परगनिहा, विकास लुनावत रविकांत अग्रवाल, मनीष शर्मा, सहित अनेक कृषि विशेषज्ञ अपनी स्वेच्छिक सेवाएं देंगे।

कृषि कनेक्ट के माध्यम से ताजा कृषि समाचारों, नवाचारों, किसानों का समस्याओं का समाधान, उद्यमी किसानों से चर्चा, जैविक खेती का प्रशिक्षण और हाईटेक फार्मिंग के लिए तमाम सूचनाएं दी जाएंगी। साथ ही कृषि आदान बीज, खाद, दवा, यंत्र आदि की डायरेक्टरी के साथ-साथ कृषि उपज के खरीददारों एवम कृषक उत्पादक संगठनों एफपीओ की सूची भी उपलब्ध होगी।

किसान समाधान ग्रुप के माध्यम से प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों के अलावा ब्लॉक मुख्यालय में भी किसान सीधे इससे जुड़ेंगे।

Related posts

बोनस तिहार पर तत्काल रोक लगाते हुए आत्महत्या से किसानों को बचाने के लिए कर्ज माफी की जाए :

News Desk

20 नवंबर, 2017 उदारीकरण, निजीकरण, वैश्वीकरण की पहचान, महंगी लागत-घटता दाम, कर्जदार किसान-भूखा इंसान ,किसान मुक्ति संसद

News Desk

आने वाले दिन आपके लिये और भी खतनाक होंगे क्यों कि सरकारे आपको ख़तम करके विकास करना चाहती हैं

News Desk