छत्तीसगढ़ वंचित समूह

कोरबा : कोल खनन से विस्थापित परिवारों के लिए माकपा के आंदोलन के बाद अब सक्रीय हो रहा है SECL

पुनर्वास ग्राम गंगानगर में पचरी निर्माण कार्य शुरू, माकपा पार्षद राजकुमारी कंवर ने किया भूमिपूजन, निस्तारी समस्या होगी दूर, माकपा ने कहा : जनता के संघर्षों की जीत

कोरबा। कोरबा निगम क्षेत्र के मोंगरा वार्ड अंतर्गत गंगागनगर के पुनर्वासित परिवारों की निस्तारी की समस्या को दूर करने के लिए आज एसईसीएल द्वारा मडवाढ़ोढा पुल के पास पचरी निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। माकपा पार्षद राजकुमारी कंवर और ग्रामवासियों द्वारा पचरी निर्माण कार्य शुरू करने से पूर्व भूमिपूजन किया गया। इस अवसर पर माकपा जिला सचिव प्रशांत झा, किसान सभा के अध्यक्ष जवाहर सिंह कंवर व अन्य माकपा कार्यकर्ता रामेश्वर सिंह कंवर, हीरा सिंह कंवर, सत्यनारायण सिंह, महिपाल सिंह कंवर, संजय यादव, नंदलाल कंवर आदि भी मौजूद थे। माकपा नेताओं ने इसे आम जनता के संघर्षों की जीत बताया है।

उल्लेखनीय है कि कोल खनन के लिए अधिग्रहण के बाद घाटमुड़ा से विस्थापित परिवारों को 40 वर्ष पूर्व यहां बसाया गया था। इन चालीस सालों से ग्रामीणजन इस गांव की बुनियादी मानवीय सुविधाओं — स्कूल, अस्पताल, बिजली, पानी, गौठान, मनोरंजन गृह, श्मशान घाट, पार्क, स्ट्रीट लाईट आदि के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इन सुविधाओं का विस्तार करने की जिम्मेदारी एसईसीएल की है, लेकिन इस ओर उसने कभी ध्यान नही दिया।

एसईसीएल की इस उदासीनता के खिलाफ माकपा के नेतृत्व में ग्रामीण जन लगातार आंदोलन कर रहे हैं। अपनी मांगों को लेकर उन्होंने गेवरा एसईसीएल कार्यालय का घेराव भी किया था। इसके बाद महाप्रबंधक एस के मोहंती गंगानगर पहुंचे थे और गांव का भ्रमण कर तत्काल समस्याओं को हल करने के निर्देश अधिकारियों को दिए थे।

माकपा व छत्तीसगढ़ किसान सभा ने एसईसीएल प्रबंधन की इस सकारात्मक पहलकदमी का स्वागत किया है। उन्होंने नए स्कूल भवन के निर्माण, तालाब पर पचरी निर्माण व सड़क मरम्मत करने के साथ ही इस गांव के बेरोजगारों को वैकल्पिक रोजगार देने की मांग भी प्रबंधन के समक्ष रखी है।

Related posts

छत्तीसगढ़ : खस्ताहाल मंडियों में बारिश से बर्बाद हो रहा है धान

News Desk

बिलासपुर: महिला थाना में फिजिकल डिस्टेंसिग की उड़ाई जा रहीं धज्जियां

News Desk

पत्रकार मनीष सोनी पर लगी गए ग़ैर ज़रूरी धाराएं हटाई जाएं: छत्तीसगढ़ प्रदेश सर्व विशेष पिछड़ी जनजाति समाज कल्याण समिति

News Desk