क्राईम दलित पुलिस बिलासपुर मानव अधिकार वंचित समूह

भोजपुरी टोल प्लाज़ा में कर्मचारियों को जातिगत गालियों के साथ पिस्तौल दिखाकर जान से मारने की धमकी, 17 दिनों में भी FIR दर्ज नहीं कर पाई पुलिस

बिलासपुर। भोजपुरी टोल प्लाज़ा मे कार्य करने वाले तकरीबन 55 कर्मचारी बिलासपुर अजाक थाने मे आज सुबह 10 बजे से धरने पर बैठे हैं।

प्रार्थि कर्मचारी राहुल का आरोप है कि प्लाज़ा की मैनेजर सुषमा रावत के द्वारा इन्हें जातिगत रूप से प्रताड़ित किया जाता था। राहुल ने बताया कि सुषमा रावत इनसे ये कहकर पैर दबवती थी थे कि तुमलोग नीच जाती के हो।

इन कर्मचारियों ने बताया कि इन्हें आरो का फ़िल्टर्ड पानी पीने पर थप्पड़ मारा गया था।

कर्मचारियों ने बताया कि इन अत्याचारों का विरोध करने पर भोजपुरी टोल प्लाज़ा के अधिकारी प्रेम प्रकाश पाण्डे ने इन्हें जातिगत गालियाँ देते हुए पिस्तौल दिखाकर जान से मारने की धमकी दी।

लाल घेरे में टेबल पर रखी पिस्तौल

लगभग 55 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया है। ये कर्मचारी भोजपुरी टोल प्लाज़ा के अधिकारी प्रेम प्रकाश पाण्डे और मैनेजर सुष्मा रावत पर मारपीट करने, गालियाँ देने, बंदूक दिखाकर धमकी देने, जान से मारने की धमकी देने और जातिगत गालियाँ देने के मामले में FIR कारवाने की मांग कर रहे हैं।

FIR की मांग करते हुए इन कर्मचारियों को आज 17 दिन पूरे हो गए हैं लेकिन इनकी FIR दर्ज नहीं की गई है।

अजाक थाने में प्रदर्शन कर रहे प्लाज़ा के पूर्व कर्मचारियों ने बताया कि उन्होंने घटनास्थल के संबंधित थाना हिर्रि में पैर दबवाने और बंदूक दिखाकर धमकाने के वीडियो फुटेज भी उपलब्ध कराए हैं लेकिन फिर भी पुलिस अबतक यही कह रही है कि पहले पुलिस जाँच करेगी फिर FIR करेगी।

धरनारत ये सभी कर्मचारी बिलासपुर पुलिस के इस अति सुस्त रवैये से ख़ासे नाराज़ आए। कर्मचारियों ने कहा कि पुलिस टोलप्लाज़ा के रसूखदार मालिकों के दबाव में है इसलिए ही 17 दिनों में जाँच तक नहीं कर पाई है।

प्रार्थियों से चचर्चा करते पुलिस अधिकारी

CSP स्नेहिल साहू ने अजाक थाने पहुँचकर मामले को संभालने की कोशिश कि उन्होंने प्रार्थियों से जाँच के लिए कुछ दिनों का और समय माँगा। स्नेहिल साहू कर्मचारियों को हिर्रि थाने जाकर मारपीट की FIR दर्ज कराने को कहा है और FIR दर्ज हो जाने का आश्वासन दिया है।

कर्मचारी अब भी अजाक थाने में मौजूद हैं उनका कहना है कि जबतक FIR दर्ज नहीं हो जाती तबतक वे अपना धरना जारी रखेंगे।

मामले की विस्तृत जानकारी के लिए सीजीबास्केट समाचार से जुड़े रहिए।

Related posts

बस्तर : सुरक्षा बल के जवानों की बर्बरता, 16 आदिवासियों के घरों को किया आग के हवाले

cgbasketwp

मध्य प्रदेश के 45,00,000 कुपोषि‍त बच्चों की तस्वीर -Kundan Pandey

cgbasketwp

Report : HUMAN RIGHTS DAY – 2017 Chhattisgarh Observes it by Remembering Kannabiran’s Contribution

News Desk