कला साहित्य एवं संस्कृति

मेधा पाटेकर – कवि एकान्त श्रीवास्तव

मेधापाटेकर

# एकांत श्रीवास्तव
**
समुद्र है तो बादल है
बादल है तो पानी हैं
पानी है तो नदी है ,
नदी है तो बची हुई है , मेधापाटेकर
*
नदी है तो घर हैं
उनके किनारे बसे हुए
घर हैं तो गाँव हैं ,
गाँव है मगर डूबान पर
डुबान में एक द्वीप है
स्वप्न का झिलमिल , मेधापाटेकर
**
वह जंगल की हरियाली है
चिडियों का गीत
फूलों के रंग और गंध के लिये लडती
जडोँ की अदम्य इच्छा हैं वह , मेधापाटेकर
**
वह नर्मदा की आँख है
जल से भरी हुई ,
जहाँ कश्तियाँ डूबने से बची हुई है
सत्ता के सीने में तनी हुई बंदूक है
धरती की मांग का
दिप दिप सिन्दुर है , मेधापाटेकर.
**

कविता एकांत श्रीवास्तव
पाठ किया आज शाकिर अली ने

Related posts

बिलासपुर : मंगल से महात्मा का प्रभावशाली प्रदर्शन ., खालिस नृत्य नाटिका.अग्रज की प्रस्तुति .

Anuj Shrivastava

कलम के सिपाही गणेश शंकर विद्यार्थी : साम्प्रदायिक दंगे काे राेकने में शहादत-25 मार्च

News Desk

गलती केवल फातमी जी की नहीं ,पितृसत्ता के खिलाफ आवाज उठाने का एक अनुभव : सीमा आजा़द

News Desk