किसान आंदोलन पर्यावरण प्राकृतिक संसाधन मानव अधिकार राजनीति

अन्यायपूर्ण डूब के ख़िलाफ़ नर्मदा घाटी के संघर्षरत लोगों के समर्थन में सबकी आवाज़*

इंदौर /तीस जुलाई

हमसे थोड़ी ही दूर नर्मदा घाटी के इलाके में रहने वाले हजारों परिवार सरदार सरोवर बांध में पानी भरने से ‘लाई जा रही’ अन्यायपूर्ण डूब का सामना कर रहे हैं। बग़ैर उचित पुनर्वास का प्रबंध किए सरकार, बांध के गेट बंद करके उन्हें उनके घर, खेत, गांव से खदेड़ने या इन सब समेत डुबोने पर आमादा है। यह सारी अमानवीयता विकास  के नाम पर की जा रही है, और लोगों को चुटकुलों, देशभक्ति, दूसरे देश से खतरों आदि के नाम पर बरगलाया जा रहा है, और असंवेदनशील किया जा रहा है।

यहां तक कि महात्मा गांधी , कस्तूरबा गांधी और महादेव भाई देसाई की अस्थि अवशेषों के स्मारक को भी बख्शा नहीं गया। उन्हें रात के अंधेरे में उखाड़कर विस्थापित करने की निंदनीय कोशिश की गयी। जिन ग्रामीणों ने इसे रोकने की कोशिश की उन पर शासकीय कार्य में बाधा डालने के मुकदमें दर्ज़ कर दिए गए।

लेकिन इंसान  की सोचने और तर्क की क्षमता तथा प्रतिरोध को हमेशा नहीं भरमाया जा सकता है, और हर समय में कुछ लोग तो होते ही हैं जो चमकदार पर्दों के पीछे छिपी काली, अंधेरी साज़िशों को पहचान लेते हैं। हम आप सभी से यह आग्रह करते हैं कि इस अमानवीय, ग़ैर क़ानूनी डूब के ख़िलाफ़ संघर्षरत नर्मदा घाटी के विस्थापितों और अन्याय के ख़िलाफ़ लोगों के जायज़ हकों के लिए संघर्षरत-अनशनरत आंदोलनकारियों के समर्थन में बनायी जा रही मानव श्रृंखला में अपनी आवाज़ मिलाएँ और सोमवार, 31 जुलाई 2017 को दोपहर 3 बजे कमिश्नर कार्यालय के सामने, महात्मा गांधी मार्ग, इंदौर में बनायी जा रही मानव श्रृंखला में भागीदारी करें।

31 जुलाई 2017
समय: दोपहर 3 बजे से शाम 5 बजे तक
स्थान: कमिश्नर कार्यालय के सामने, महात्मा गांधी मार्ग, इंदौर.
*******
*इंदौर नर्मदा बचाओ आंदोलन समर्थक समूह*
संपर्क : रुद्रपाल यादव- 09827450208, कैलाश लिम्बोदिया- 09425345219, विनीत तिवारी- 09893192740, चिन्मय मिश्र- 09893278855

Related posts

सुकरात और बहुमत .

News Desk

फोर्स के जवानों ने एक नही सुना और सुख्खी को जिंन्दा फोलिथीन में बाध दिया। शायद पोड़ियम सुख्खी को झिल्ली में बांधने से सुख्खी साँस नही ले पायी और जान चली गयी ःः. गोड़ेलगुड़ा, कोर्रापाड़ पंचायत, पोलमपल्ली में हुई हत्या की रिपोर्ट .

News Desk

शानदार पहल : एक्सप्रेस – वे के रास्ते में बाधा बने पेड़ों को काटा नहीं , डब्ल्यूआरएस में किया शिफ्ट. रायपुर

News Desk