Uncategorized

ग्रीनपार्क लूट मामला: 18 तोला सोना और 57 तोला चांदी समेत लुटेरे गिरफ़्तार

बिलासपुर: शहर के पॉश इलाकों में शामिल सिविल लाईन थानाक्षेत्र में आने वाली ग्रीनपार्क कॉलोनी में 15 दिसंबर की शाम तकीबन 7:15 बजे कपड़ा व्यापारी मनोहर आडवाणी के घर पर उनकी दुकान के पूर्व कर्मचारी ने एक अन्य साथी के साथ मिलकर लाखों की लूट को अंजाम दिया था। आज पुलिस ने प्रेसवार्ता की और मामले की विस्तृत जानकारी प्रेस के साथ साझा की।

घटना की रात पूछताछ के दौरान व्यवसायी मनोहर आडवाणी ने बताया था कि शाम लगभग 6 बजे वे सब्ज़ी लेने घर से निकले। उनकी पत्नी घर पर अकेली थीं। पुलिस ने बताया कि एक साल पहले तक उनकी दुकान में काम करने वाले कर्मचारी टिकरापारा निवासी रवि भोसले (पिता अखिल भोसले उम्र 20वर्ष) ने इस मौके का फायदा उठाया और कोई के बॉम्बे आवास निवासी दीपक यादव के साथ घात लगाकर घर मे घुस गया।

दोनों चोरों ने चहरे पर मास्क लगाया हुआ था। दीवाल फांद कर ये दोनों घर मे घुसे और बुज़ुर्ग महिला के हाथ पैर बांध दिए और उनके साथ मारपीट की। महिला के पहने हुए गहने छीनने की हाथापाई के दौरान महिला ने इनमें से एक का चेहरा देख लिया था।

रवि भोसले आडवाणी परिवार की दुकान करबला स्थित आर आर कलेक्शन में जब काम करता था तब घर पर उसका आना जाना था इसलिए उसे घर के अंदर की जानकारी थी। महिला को ज़ख़्मी करने के बाद दोनों चोर अलमारी में रखे 18 तोला सोने और 57 तोला चांदी के गहने और 14 हज़ार नकद लेकर फ़रार हो गए।

शाम 8 बजे बेटा विनोद घर पहुचा तो उसने मां को घायल अवस्था मे पाया. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस के आला अधिकारियों ने तुरंत ही घटना स्थल का मुआयना किया और जांच शुरू कर दी। रात में ही घटनास्थल पर महापौर समेत दूसरे राजनीतिक लोग पहुचे थे. जांच करने के लिए कई थानों के TI और उप पुलिस अधीक्षक तत्काल मौके पर पहुच गए थे.

मामले की जांच के लिए पुलिस ने आठ अलग अलग टीमें बनाई थीं। घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीव कैमरों के वीडियो देखे गए। दस हज़ार से अधिक नंबरों की टीडीआर के ज़रिए 50 से अधिक नंबरों की सीडीआर के ज़रिए जांच की गई। फोरेंसिक एक्सस्पर्ट, फिंगरप्रिंट एक्सस्पर्ट, खोजी डॉग की भी जांच में सहायता ली गई। 60 से अधिक लोगों के कथन दर्ज किए गए। चोरी और लूट के पुराने मामलों से संबंधित 100 से अधिक लोगों से पूछताछ की गई।

घटना के समय घर के सामने खड़ी स्कूटी भी संदेह के घेरे में थी। लेकिन पूछताछ में पता चला कि दोनों चोर पैदल ही गोल बाज़ार भारती नगर व्यापार विहार से होते हुए ग्रीन पार्क आए थे।

पुलिस ने होटलों लॉज आदि में भी बाहर से आने जाने वाले लोगों की जांच की। चारों तरफ से 10 दिनों तक पुलिस जांच में जुटी रही और अंत मे सफलता हासिल की।

इस मामले को सुलझाने में सफलता हासिल करने वाली टीमों को प्रत्साहन देने के लिए DGP और IG ने नकद ईनाम देने की घोषणा की है।

Related posts

पानी की डगर-जीवन की नइया, संघर्ष के बहाव में खुद ही खेवइया

cgbasketwp

TISS Students Struggle: Solidarity statement from Soni Sori from Bastar: ?

News Desk

डॉ रामविलास शर्मा: आलोचना के कुछ बिंदु

News Desk