आदिवासी औद्योगिकीकरण किसान आंदोलन पर्यावरण मजदूर महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार

परसा ओपन कास्ट : जनसुनवाई का भारी विरोध : ग्रामीणों ने सौंपा ज्ञापन ,निरस्त करें .

9.10.2017

परसा ओपन कास्ट खदान और पिटहैड कोल वाशरी की पर्यावरणीय स्वीकृति के लिए राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड के प्रस्ताव पर 29 अक्टुम्बर को उदयपुर तहसील के ग्राम वासेन में जन सुनवाई की जा रही है.इस सुनवाई के प्रभावित किसानों और आदिवासियों द्वारा विरोध किया जा रहा है.
ग्रामीणों ने पर्यावरण विभाग और कलेक्टर को दिये ज्ञापन में कहा है कि , ई आई ए नोटिफिकेशन में पर्यावर्णीय स्वीकृति से पहले परियोजना स्थल पर या निकटम स्थल में जनसुनवाई आयोजित की जानी चाहिये .जिससे की प्रभावित लोग अपनी बात आसानी से कह सके.इस परियोजना में प्रभावित गांव फतेहपुर ,हरिहर पुर , सल्हि और घटबर्रा और शिवनगर है,जबकि जनसुनवाई बासेन में है.
प्रभावित गांव से बासेन जाने के लिए रास्ता ठीक नही है, आने जाने के लिए सिर्फ एक रास्ता है जो खदान से होकर जाता है.यह ग्रामीणों के लिए आसान नही है.
प्रस्तावित खदान का विस्तार सरगुजा जिले के साथ सूरजपुर जिले तक है ,ऐसी स्थिति में दोनो जिलों में यह सुनवाई होंनी चाहिए थी .
इसलिए सुनवाई के नोटिफिकेशन ही गलत है ,इसे तुरन्त रद्द किया जाये
छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला,हसदेव अरण्य बचाओ संघर्ष समिति के उमेश्वर सिंह आर्मो ,जनपद सदस्य बाल साय कोर्राम ,ग्राम पंचायत सल्हि की सरपंच रुनिया बाई ,जयनंदन पोर्ते ,रामलाल कोरियम, तथा हरिहर पुर ,शिवनगर ,फतेहपुर और घटबर्रा के ग्रामीण शामिल थे .

Related posts

सुधा की बेटी ने लिखा सार्वजनिक पत्र : मम्मा कहती थी कि बेटा मुझे ऐसे ही ग़रीबों के बीच में रह कर काम करना अच्छा लगता है. बाक़ी जब तुम बड़ी हो जाओगी तुम अपने हिसाब से रहना. : मायशा नेहरा .

News Desk

आत्महत्या के किसानो के साथ अपमानजनक व्यवहार किया कृषि मन्त्री ने .

News Desk

नक्सल मामले में बस्तर की जेलों में बंद हैं डेढ़ हजार से ज्यादा आदिवासी : बंदी आदिवासियों के मामलों पर पुनर्विचार को बनेगी कमेटी. छत्तीसगढ़

News Desk