अदालत आदिवासी दलित फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट्स महिला सम्बन्धी मुद्दे राजनीति

fact-finding in Berla Gangrape Case_ english ,हिन्दी

Report of the fact-finding in Berla Gangrape Case: Chhattisgarh Mahila Mukti Morcha

**
1.10.2017
An incident of gang rape had taken place in Berla and a Chhattisgarh Mahila Mukti Morcha fact-finding team had gone to inquire into the incident. It was found that the Station-In-charge had resisted filing the FIR but had in turn threatened the victim that she should not get an FIR filed on gang rape but against one accused. The incident took place on the date of the festival of Raksha Bandhan and villagers belonging to 10 villages protested against this incident.
In a protest of Bargaon, Matiya, Moondpar, Devri, Singvar and political persons from Congress Party, BJP party persons and Congress party persons had an argument which quickly riveted into a fight. In the garb of this fight, the villagers who had come to protest against the rape, and were sitting at different sites were lathi-charged on by the police and BJP goons. On being subjected to this arbitrary lathi-charge, the villagers got angry and the women scolded the police.
In the commotion, the BJP goons beat up the S.I. However, the villagers are the ones who are being indicted. The police went to each village, forced their way inside the houses of the villagers and verbally abused the women in the middle of the night. They picked up men in the middle of the night. At this point, 85 men have been arrested and are in jail. 4 accused are also in jail. The primary accused Hori Lal has been threatening the villagers in judicial custody that he will commit another crime after being released from jail. While in jail, Hori Lal has been getting food from outside as he has the backing of some minister. The villagers are traumatised and terror reigns in the villages as the men of the villages have been arrested and booked under Sec. 307 IPC and the police has threatened the villagers that they have the photographs of the women who protested and these women will be arrested after Dusshehra.

One woman from the villager, Kanti Bai Goutineen had gone to visit the Collector and has made a representation that a woman from our village has been raped, other women are being threatened of arrests urging him to not do the same.
Inside the police station, in the presence of the Station-in-Charge, the mother of Horilal offered to the victim’s mother, a bribe of 2 lakhs to take back the case. She also offered to buy double the amount of jewellery that the accused(s) had stolen from the victim. The accused used to sell liquor and was hands-in-glove with the police. The villages around were also disturbed by the activities of accused Hori Lal. BJP has been openly supporting the accused. The uncle-in-law and brother-in-law of the victim are also in jail, so is the Sarpanch of Bargaon.
The Police has seized the mobile phones of the victim and her brothers who were with her as well as their motorcycle.
The victim is a woman of 35 years of age, has four children and belongs to Backward Caste. On the day of the incident, the victim had gone to Berla to meet her sister in the hospital and was coming back with her brother on a motorcycle. They had left Berla at 6:30 pm. On their way back, they were stopped in front of a farmhouse on the road and asked what they are doing there. They told him that they were going back to their village from Berla and that they were siblings. The accused called up his other friends asking them to come to the spot, as there is a sexual good here. The victim and her brother were forcibly hauled into the car. They were taken directly to the farmhouse. The accused told the victim to disrobe. When the victim did not comply, she was beaten up brutally by a belt, after which the accused stripped her, and raped her one by one. The brother of the victim was tied to a tree trunk by a rope. The victim told the factfinding team that she was forcefully made to drink alcohol until she was unconscious. They took videos of her and her brothers naked in the farmhouse and told her that they would delete the videos only if she gave them 10,000 rupees.
The incident took place from 8 pm to 1 am after which at 1:30 am, the victim and her brothers went to the Police Station where they filed a complaint. The Police threatened them repeatedly insis
ting that they will not make a case of gang rape and the victim afraid of the police got only one name registered in the FIR.
The fact finding team of the Mahila Mukti Morcha comprised of Urmila, Neera, Nikita, Savitri, Chunni and Kaladas Dehariya.

***

हिन्दी अनुवाद
**
1.10.2017
दुर्ग जिला के में सामूहिक बलत्कार की घटना हुई थी , उसकी जांच के लिये छत्तीसगढ़ महिला मुक्ति मोर्चा का एक दल बेरला गया था. जांच दल को पता चला कि जब पीडिता थाने में बलात्कार की रिपोर्ट लिखवाने गई, बेरला टी.आई.ने रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया और पीडिता को थाने में धमकाया कि उसे घटना को सामूहिक बलात्कार नहीं लिखाना होगा, अकेले का लिखाना होगा. घटना राखी त्योहार के दिन की है.
इस घटना का विरोध 10 गांव के लोगों ने किया था . बारगांव, मटीया, मुडपार, देवरी, सिंवार, कांग्रेस के पार्टी कार्यकर्ताओं का धरना चल रहा था. वहाँ भाजपा के लोग गये और दोनो पार्टियों के बीच कहा सुनी हो गई. कहा सुनी झगड़े में तब्दील हो गई. उसी कि आड़ लेकर बल्तकार का विरोध करने आए लोगों पर, जो अलग अलग जगह पर बैठे थे, पुलिस ने लाठी चार्ज करना शुरू कर दिया. भाजपा के गुंडे भी लाठी चार्ज करने वालों में शामिल थे. जबरन लाठी चार्ज होने पर ग्रामीण गुस्से में आये और महिलाओं ने पुलिस को खदेड़ा.
भाग धढ़ में टी.आई को भाजपा के गुंडों ने मारा लेकिन आरोप ग्रामीणो पर है. पुलिस ने गांव गांव में घर-घर में घुंस कर महिलाओं पर अभद्र गाली गलोच किया. आधी रात को परेशान किया है और रात को पुरुषों को उनके घरों से उठाया. अभी तक 85 लोग जेल में है. चार आरोपिगन भी जेल में है. मुख्य अभियुक्त होरी लाल है और वह जेल में बंद ग्रामीणो को धमकी दे रहा है कि छूटने के बाद दुबारा घटना करूंगा. जेल में होरी लाल को विशेष खाना बाहर से मंगा कर दिया जाता है क्योंकि वो किसी मंत्री के ताकत पर यह सब करता है. गावों में अभी दहशत का माहौल है ,धारा 307 लगा है ग्रामीणो के उपर जेल में पुरूष लोग बंद है और पुलिस ने धमकी दी है कि जितने महिलाओं का फोटो हमारे पास है उन सब महिलाओं को दशहरा के बाद उठाया जायेगा .
ग्राम के एक महिला कांती बाई गौटनीन ने कलेक्टर से जाकर गोहार लगाई कि हमारे लड़की के उपर बल्तकार हुआ है और हमारे महिलाओं को गिरफ्तार करने का धमकी दे रहा है कलेक्टर साहब एसा मत करिये .
थाने के अन्दर टि.आई. के सामने होरी लाल की माँ ने पीडिता की माँ से बोला कि वह केस वापस ले ले. इसके बदले में पीडिता को दो लाख की राशि देने का कहा और बलात्कार के समय पीडिता का जो गहना लूटा गया था उसका दोगुना गहना खरीद कर देने का कहा. अभियुक्त अवैध शराब बेंचता था जिसका पुलिस संरक्षण था. होरी लाल के करतुत से आस पास गांव के लोग परेशान थे. भाजपा का खुलेआम उसका समर्थन दे रहा है . पीडिता के काका ससुर और देवर को भी जेल में ऱखे हैं. बारगांव के सरपंच को भी जेल में बंद रखा है .
पीडिता और पीडिता के सांथ में जो उनके भाई थे उनके मोबाइल और मोटरसाइकिल को पुलिस ने जब्त कर लिया है.
पिडीता का उम्र 35 है, उसके 4 बच्चे हैं और वह पिछड़ी जाती से है. पिडीता घटना के दिन बेरला हास्पिटल अपने बहन को देखने गई थी. बेरला से मोटर साईकिल में भाई के साथ 6.30 बजे घर के लिए निकली थी. बारगांव वाले रास्ता में फार्म हाउस में एक पुरुष ने रोककर उनको पुछा की वे वहाँ पर क्या कर रहे है. पीडिता और उसके भाइयों ने उस से कहा कि वे गाँव वापस जा रहे है और भाई बहन है. तब पुरुष ने अपने और साथियों को बुलाया यह कहकर कि, “इधर आओ, माल है”. उन सबने जबरन पीडिता और उसके एक भाई को गाडी में डाला और उनको फार्म हाउस में अंदर ले गए. बलात्कारी पीडिता को कपडे उतारने के लिए बोला. जब पीडिता ने अपने कपडे नहीं उतारे तो बेल्ट से उसको बहुत मारा. फिर आरोपिगन ने पीडिता के कपडे उतारे और उसको पकड़ कर बारी बारी से बल्तकार किया. पिडीता के भाई को रस्सी से पेड में बाध दिया. पिडीता ने बताया कि उसे जबरदस्ती दारु पिला कर बेहोश कर दिया. उसके भाइयों को भी बहुत मारा. फार्म हाउस में तीनो के निर्वस्त्र विडियो बनाकर बोले कि 10.000 दो तो ये विडियो डिलीट कर देंगे.
8 बजे से शाम से घटना शुरू हुआ, रात 1 बजे तक चला. फिर रात को 1.30 बजे पीडिता और उसके भाई बेरला थाना गये रिपोर्ट लिखवाने के लिए. पुलिस ने बार बार धमकी दी कि सामूहिक बलात्कार हम नहीं लिखेंगे. पीडिता की पूरी बात पुलिस ने रिपोर्ट में नहीं लिखी. और सामूहिक बलात्कार की धारा प्रथम सूची रिपोर्ट में नहीं लिखी गई है.
महिला मुक्ति मोर्चा के जांच दल मैं उर्मिला ,नीरा ,निकिता , चुन्नी, सावित्री और कलादास डेहरिया शामिल थे .

**

 

 

 

 

 

 

 

Related posts

सामाजिक न्याय के नायक लालू प्रसाद का जेल से सबके नाम खत.

News Desk

कोरबा : पुनर्वास गाँव गंगानगर के विस्थापितों का ज्ञापन कलेक्टर ने लेने से किया इंकार .

News Desk

रायगढ़ : पत्रकार पर हमले के विरोध में पत्रकार सुरक्षा समिति ने किया अनिश्चितकालीन धरने का ऐलान

News Desk