औद्योगिकीकरण किसान आंदोलन जल जंगल ज़मीन पर्यावरण

भूमि अधिग्रहण के खिलाफ अड़े किसान :  रायगढ़ कसडोल .

4 .11.2017 

*अंकुर तिवारी की रिपोर्ट*

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में कसडोल और आसपास के गांवों के नागरिकों ने एक बैठक कर एलान किया है कि सरकार जब तक उनकी जमीन की कीमत नियमतः 4 गुना नहीं देगी, सरकार को किसान एक इंच भी जमीन नहीं देंगे।

तहसीलदार के गोली चलवा देने की धमकी के बाद ग्रामीणों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। और अब गुस्साए गांववासियों ने अपनी जमीन के बदले चौगुना मुआवजा मांगा है।

तिलाईपाली से लारा जाने वाली एनटीपीसी की रेल लाइन में किसानों की ज़मीन का अधिग्रहण किया गया है। किसानों का कहना है कि प्रशासन ने कई लोगों को बगैर मुआवजा दिए काम शुरू कर दिया है।

 

प्रभावित परिवारों ने जब तहसीलदार से शिकायत की तो उन्होंने गोली चलवाने की धमकी दी। तहसीलदार की धमकी से डरे ग्रामीणों का कहना है कि अगर सरकारी दर पर जमीन का अधिग्रहण किया जाता है तब वे अपनी जमीन देंगे वरना नियमों की अनदेखी कर सरकार एक इंच भी जमीन नहीं ले सकती है। ग्रामीणों ने पूछा कि नियमानुसार चार गुना दर लिखा गया है तो प्रभावितों को उसका लाभ क्यों नहीं दिया जा रहा है।

तमनार विकासखंड के करीब 16 गांव के लोग आज की बैठक में मौजूद रहे। जिसमें कसडोल, गोढ़ी, मौहापाली, भैंसगढ़ी, बड़गांव, जरेकेला, बासन पाली और चिर्रा गुड़ा समेत दूसरे गांवों के किसान शामिल हुए।

**

अंकुर तिवारी की विशेष रिपोर्ट

Related posts

चितालता_शहादत_और_सरगुजा_का_जीतागया_भूमि संघर्ष.

News Desk

भाजपा सरकार के विरुद्ध किसानों में भयंकर आक्रोश -आप की संकल्प यात्रा

News Desk

हसदेव अरण्य खनन परियोजना के ख़िलाफ़ आंदोलन को CBA का समर्थन

Anuj Shrivastava