आदिवासी जल जंगल ज़मीन प्राकृतिक संसाधन मानव अधिकार राजनीति

हम किसी भी कीमत पर अभ्यारण्य से बाहर नही जाना चाहते _बारनवापारा अभ्यारण्य के 24 गांव के ग्रामीण –

 

22.10.2017

बारनवापारा अभ्यारण्य के 24 गांव के ग्रामीणों ने ग्राम बार मे आमसभा आयोजित कर विस्थापन का विरोध करते हुए मूलभूत सुविधाओं और सुगम आवागमन हेतु व्यापक आंदोलन के लिए निर्णय लिया।

बलौदाबाजार जिले के बारनवापारा अभ्यारण्य में रहने वाले 22 गांव के सैकड़ो ग्रामीणों ने ग्राम बार मे विशाल सभा आयोजित कर वन विभाग की मनमानी का विरोध किया। ज्ञात हो की बारनवापारा अभ्यारण्य से 6 गांव को विस्थापित करने की प्राक्रिया वन विभाग द्वारा चलाई जा रही हैं। सभा मे मौजूद ग्रामीणों ने कहा कि हम किसी भी कीमत पर अभ्यारण्य से बाहर नही जाना चाहते हैं। पूर्व में वन विभाग ने 3 गांव रामपुर, लाटादादर और नयापारा को विस्थापित किया हैं परंतु वो गांव आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं, यहां तक कि खेती की जमीन भी उपजाऊ नही हैं। वर्तमान में वन विभाग पुनः वन्य प्राणी संरक्षण के नाम पर गांव का विस्थापन करने की कोशिश कर रहा हैं।

ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए कहा कि वन विभाग अभ्यारण्य के अंदर कोई विकास कार्य नही होने दे रहा हैं यहाँ तक कि ग्रामीणों के आवागमन में भी नाके लगाकर परेशानी पैदा की जा रही हैं जिससे ग्रामीण स्वयं गांव छोड़ने के लिए मजबूर हो जाये । सभा मे रायपुर से पहुचे छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक ने कहा कि वनाधिकार मान्यता कानून 2006 में स्पष्ट प्रावधान हैं कि जब तक व्यक्तिगत और सामुदायिक वनाधिकारों की मान्यता की प्राक्रिया की समाप्ति और ग्रामसभा लिखित में सहमति प्रदान नही करती किसी भी व्यक्ति को उसकी वन जमीन से बेदखल नही किया जा सकता हैं । इसके साथ ही अभ्यारण्य और राष्ट्रीय उद्यानों से विस्थापन के पूर्व क्रिटिकल वाइल्ड लाइफ क्षेत्र का निर्धारण करने की नियत कानूनी प्राक्रिया हैं, परंतु छत्तीसगढ़ में वनाधिकार मान्यता कानून की धज्जियां उड़ाते हुए लोगों को जबरन विस्थापित किया जा रहा हैं । सभा मे सी पी एम के राज्य सचिव संजय पराते ने कहा की कारपोरेट मुनाफे के लिए पूरे छत्तीसगढ़ में अलग अलग परियोजनाओं के नाम पर आदिवासियों को उजाड़ा जा रहा हैं । सरकार स्वयं लोकतंत्र और संविधान का पालन नही कर रही हैं। दलित आदिवासी मंच की राजिम केतवास ने कहा कि सरकार एक तरफ जंगल बचाने की बात करती हैं वही दूसरी और अभ्यारण्य क्षेत्र से लगे हुए 1300 हेक्टेयर समृद्ध वन क्षेत्र को वेदांता कंपनी को सोना उत्खनन हेतु दे रही हैं यह जंगल और वन्यप्राणियों के संरक्षण के नाम पर सरकार का दोहरा मापदंड हैं। सभा उपरांत अभ्यारण्य क्षेत्र के आन्दोलन हेतु समिति का गठन किया गया एवं वन विभाग को ज्ञापन सौंपा गया

***

देवेंद्र बघेल
दलित आदिवासी मंच
पिथोरा

Related posts

विधायक बांधी ने उद्योग मंत्री के सामने अपनी ही सरकार की मिली भगत को किया उजागर

News Desk

दुनिया की कुल ज़रूरत से ज़्यादा बिजली बना सकता है सूरज

PUCL Welcomes Notice Issued by SC on Continuing Prosecutions u/s 66A IT Act despite the provision having been struck down by SC as Unconstitutional in 2015.

News Desk