आंदोलन दलित मानव अधिकार राजनीति

भिलाई  के   मुर्गा चौक में सफाई कर्मीयों का  आई आर के सामने प्रदर्शन .

 

12.10.2017

सफाई कर्मियों  के ठेका श्रमीकों को अह्वान किया गया कि समय के पुकार है कि हम सब कर्मी एक होकर आवाज़ उठाएं वही वक्ताओ ने कहा कि नियमित कर्मचारी के बराबर उत्पादन में भागीदारी ठेका श्रमीकों का है परन्तु ठेका श्रमीकों को कुछ भी सुविधा नही मिलता पि एफ ई एस आई का कोई ठीकाना नही है 10 साल 20 साल से मजदूर काम कर रहे हैं लेकिन विडम्बना की बात है सार्वजनिक उपक्रम भिलाई इस्पात संयंत्र में सबसे अधीक भ्रष्टाचार शोषण और लुट 101 प्रतिशत जारी है, ठेकेदार एसोसीएसन बनाकर प्रबंधक को धमकाते है केन्द्र कि सरकार मजदूरों को मिले श्रम कानुन को भी समाप्त कर रहे हैं धीरे धीरे बि एस पी को निजीकरण के ओर ले जाया जा रहा है भिलाई इस्पात संयंत्र में सबसे अधीक ठेका श्रमीक काम करते हैं लेकिन सबको ट्रेम्परेरी गेट पास बनाकर कभी भी निकाल देने में होसीयार है धिरे धिरे स्थाई श्रमीकों को भर्ती बंद किया जा रहा है और पुरा उत्पादन ठेका श्रमीकों के भरोसे करने का तैयारी है क्योंकि कम वेतन देकर बेतहासा मुनाफ़ा कमाने का साजिश जिसे ही कहते हैं पुंजिवाद सरकार बेसर्मी के सांथ बोनस त्योहार मना रही हैं

***

कलादास डेहरिया की रिपोर्ट

Related posts

रायपुर के निवासियों से एक अपील रुचिर गर्गः जिसकी रगों में दौड़ता है रायपुर

News Desk

धमतरी में एक और किसान के आत्महत्या की खबर हैं

News Desk

अंधविश्वास के कारण नरबलि की घटना डॉ. दिनेश मिश्र : ‘अंधविश्वास से बचें’ — डॉ दिनेश मिश्र ने कहा कि पलारी के ग्राम अमेरा में हुई नरबलि की घटना अंधविश्वास का परिणाम है . बैगा की सलाह पर भूत भगाने के लिए बलि देने की घटना अत्यंत दुखद है।

News Desk