भारत जोड़ो संविधान बचाओ समाजवादी विचार यात्रा : हम न्यूक्लियरिज़्म और फासिज़्म दोनों के खिलाफ़ हैं

Category : विज्ञान

कला साहित्य एवं संस्कृति दस्तावेज़ विज्ञान

एक पुरातत्ववेत्ता की डायरी

Anuj Shrivastava
नई सीरीज़ सीजीबास्केट के पाठकों के लिए आज से एक नई सीरीज़ प्रस्तुत कर रहे हैं “एक पुरातत्ववेत्ता की डायरी” जानकारियों मे दर्शन समेटे ये...
विज्ञान शिक्षा-स्वास्थय

प्राणी शास्त्र विभाग GGU ने मनाया स्तन कैंसर जागरूकता माह

Anuj Shrivastava
बिलासपुर. स्तन का कैंसर आज सभी प्रकार के कैंसरों में प्रमुख रूप से पाया जाता है और भारतवर्ष में इस कैंसर से पीड़ित लोगों की...
विज्ञान शिक्षा-स्वास्थय

24.जहाँ विज्ञान खत्म होता है , क्या वहाँ से अध्यात्म शुरू होता है ? संदर्भ , नरेन्द्र दाभोलकर .

News Desk
डा. नरेंद्र दाभोलकर इस सवाल का जवाब तर्कों के आधार पर देते हुए कहते हैं । आदि आत्मन इति आत्मन . आत्मा का विचार करना...
विज्ञान शिक्षा-स्वास्थय

चोरों ने तोड़े आठ मंदिरों के ताले ,चुरायी भगवान की आंखें,वस्त्र और घंटी.

News Desk
तखतपुर / भास्कर पुलिस अपनी गश्त में कितनी चुस्त है इसकी पोल चोरों ने एक साथ दर्जन भर मंदिरों के ताले तोड़कर साबित कर दिया...
विज्ञान

12 जुलाई : विस्सारियन ग्रिगोरियेविच बेलिंस्की का जन्म.

News Desk
प्रोम्थियस प्रताप सिंह विस्सारियन ग्रिगोरियेविच बेलिंस्की का जन्म 12 जुलाई 1811 को एक देहाती डॉक्टर के घर हुआ था। बचपन का अधिकतर समय पेंजा गुबर्निया...
विज्ञान शिक्षा-स्वास्थय

14 . समाज सुधारकों का समाज पर कैसा प्रभाव पड़ता है ? : धर्म और जाति संबंधी दृष्टिकोण पर पुनर्विचार संदर्भ नरेन्द्र दाभोलकर.

News Desk
दृष्टिकोण के विकास में समाजसुधारकों की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका रही है । वर्तमान संदर्भो में इस प्रभाव पर टिप्पणी करते हुए डॉ . नरेन्द्र दाभोलकर...
कला साहित्य एवं संस्कृति विज्ञान शिक्षा-स्वास्थय सांप्रदायिकता

आठवाँ सवाल :.क्या फलित ज्योतिष को शास्त्र की मान्यता प्राप्त है ? संदर्भ , धर्म और जाति संबंधी दृष्टिकोण पर पुनर्विचार संदर्भ नरेन्द्र दाभोलकर.

News Desk
इसके जवाब में दाभोलकर कहते हैं – ‘ देखिए , कोई भी चीज़ शास्त्र है , यह कैसे सिद्ध हो सकता है ? इसके लिए...
कला साहित्य एवं संस्कृति नीतियां विज्ञान शिक्षा-स्वास्थय

हमारी पीढी बहुत कुछ जानने से वचिंत रह गई .

News Desk
जंगल कथा से कबीर संजय चालीस पार कर चुकी हमारी पीढ़ी के लोग निश्चित तौर पर ऐसा बहुत कुछ जानते हैं, जिनसे हमसे आगे की...
कला साहित्य एवं संस्कृति विज्ञान

कल बहुत देर हो जाएगी टूमारो विल बी टू लेट.

News Desk
कबीर संजय इस दुनिया में लगभग सात अरब लोग रहते हैं। गोरे, काले, पीले, गेहुएं। ईसाई, मुसलमान, बौद्ध, हिन्दू। लेकिन, हैरत की बात है कि...