Uncategorized

नजीब की मां हिरासत से छूटे -बीबीसी

नजीब की मां हिरासत से छूटे

  • 6 नवंबर 2016

नजीब की मांImage copyrightMOHD RAGHIBImage captionनजीब की मां फ़ातिमा नफ़ीस को भी हिरासत में लिया गया था

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के लापता छात्र नजीब अहमद को खोजने के लिए दिल्ली में विरोध प्रदर्शन कर रहे कई छात्रों को दिल्ली पुलिस ने जंतर-मंतर से हिरासत में लिया और फिर कुछ घंटे बाद रिहा कर दिया.
हिरासत में लिए गए लोग रविवार दोपहर में इडिया गेट पर एक मार्च के लिए एकत्र हो रहे थे. इनके साथ नजीब की मां फ़ातिमा नफ़ीस भी थीं. उन्हें भी हिरासत में लिया गया और फिर छोड़ दिया गया.
लापता छात्र नजीब की मां ने फ़ोन पर बीबीसी के दिलनवाज़ पाशा को बताया, “मुझे घसीट कर ले जाया गया, मेरे हाथ-पैर में दर्द है. मैं हाई ब्लड प्रेशन की मरीज़ हूँ और मेरी हालत ठीक नहीं है. मैं तो यही कह रही हूँ कि मेरा बेटा मुझे ला दो, मैं ये नहीं पूछने वाली कि वो कहां था, उसे कहां रखा गया . मैं बस उसे लेकर चली जाऊंगी.”
दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया, “नजीब की मां समेत कई लोगों को हिरासत में लिया गया. नई दिल्ली के इस इलाक़े में धारा 144 लागू है और जो लोग जंतर-मंतर पर अनुमति लेकर प्रदर्शन करने पहुँचते हैं उन्हें भी सीधे वहीं पहुँचने की इजाज़त है. ये लोग जंतर-मंतर से इंडिया गेट जा रहे थे, जहाँ इन्हें जाने की अनुमति नहीं थी.”
दिल्ली पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियां 23 दिन से लापता नजीब अहमद का पता नहीं लगा पाई हैं. वहीं छात्र इस मामले में कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.
इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल रविवार को राष्ट्रपति से मिलने पहुंचे. उन्होंने कहा, “राष्ट्रपति ने नजीब के मामले का संज्ञान लेने का भरोसा दिलाया. उन्होंने कहा है कि वो गृह मंत्रालय से इस बारे में रिपोर्ट मांगेंगे.”
छात्रों के हिरासत में लिए जाने के बाद केजरीवाल ने सवाल उठाया है कि दिल्ली पुलिस ने नजीब की मां को क्यों हिरासत में लिया है? बाद में उन्होंने ट्वीट किया कि नजीब की मां को छोड़ दिया गया है और वो सुरक्षित घर पहुँच गई हैं.
(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटरपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Related posts

दंतेवाड़ा में प्रस्तावित रैली को पुलिस ने गांव में ही रोका , आखिर और क्या बचा है इनके पास जनतांत्रिक अधिकार

cgbasketwp

cgbasketwp

I gave police free hand to fight Maoists: Aarti Dhar

cgbasketwp