Uncategorized

बेघर आदिवासियों की जाँच करेगी मानवाधिकार टीम ; महासमुंद

बेघर आदिवासियों की जाँच करेगी मानवाधिकार टीम ; महासमुंद  
485 दिनों से एक आदिवासी परिवार को बेदखल किए जाने की ग्राउंड रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी। हमें इस पूरे मामले की सूचना पत्रिका समूह के सहयोगी प्रकाशन डेली न्यूज के माध्यम से मिली है-रायपुर. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने पत्रिका के 14 जून के अंक में ‘धरने में जन्मे आंदोलन, संग्राम और क्रांति शीर्षक से प्रकाशित 
खबर को संज्ञान में लेते हुए मामले की जांच करने का फैसला किया है। इसमें छत्तीसगढ़ के महासमुंद जिले� कलेक्टर के कार्यालय के बाहर पिछले 485 दिनों से एक आदिवासी परिवार को बेदखल किए जाने की ग्राउंड रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी।
मामले की जांच के लिए एनएचआरसी की टीम इस महीने के अंत तक छत्तीसगढ़ आएगी। पत्रिका ने इस खबर को अपने सभी संस्करणों में प्रमुखता से उठाया था। पत्रिका से बातचीत में एनएचआरसी के विशेष पर्यवेक्षक प्रो. एस. नारायण ने कहा, यह संगीन मामला है। हमें इस पूरे मामले की सूचना पत्रिका समूह के सहयोगी प्रकाशन डेली न्यूज के माध्यम से मिली है। आयोग ने इस मामले की गंभीरता को देखते हुए मेरे नेतृत्व में अपनी टीम को महासमुंद भेजने का फैसला किया है। वहां हम पीडि़त परिवार के अलावा स्वयंसेवी� संगठनों से भी बातचीत करेंगे।

Related posts

संप्रेक्षण गृह में मासूम की मौत : जांच प्रभावित करने आईएएस अफसरों के फोन आ रहे

Anuj Shrivastava

रिलायंस जियो कम्पनी ने डकार लिया छ ग के वेंडरों करोड़ो की रूपये की रकम

cgbasketwp

बस्तर और दुसरे आदिवासी क्षेत्र में पीढ़ी हो रही है बोनी और कजोर।

cgbasketwp