Uncategorized

‘दाढ़ी रखने के कारण नौकरी से निकाला

‘दाढ़ी रखने के कारण नौकरी से निकाला

  • 5 जून 2015

साझा कीजिए

मोहम्मद अली इस्माइल, कोलकाता, पश्चिम बंगालमोहम्मद अली इस्माइल एक कंपनी में जनरल मैनेजर (माइंस) के पद पर थे.

पश्चिम बंगाल में एक मुसलमान युवक ने आरोप लगाया है कि दाढ़ी रखने के कारण उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया.
वहीं कंपनी युवक को ‘फ्रॉड’ बता रही है. यह मामला गुरुवार को राज्य विधानसभा में भी गूँजा.
दक्षिण कोलकाता के रहने वाले मोहम्मद अली इस्माइल छह साल से आधुनिक ग्रुप आफ इंडस्ट्रीज में जनरल मैनेजर (माइंस) के पद पर काम कर रहे थे.
वो पिछले साल मई में हज करने मक्का-मदीना गए थे.
इस्माइल कहते हैं, “मैं हज से लौटने के बाद से ही दाढ़ी रखने लगा था. उसी वक़्त से मेरी सैलरी आधी कर दी गई थी. इस साल मार्च में बिना कोई कारण बताए मुझे नौकरी से निकाल दिया गया.”
लेकिन कंपनी इस्माइल के आरोपों को ग़लत बताती है.
कंपनी के प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल के भाई महेश अग्रवाल कहते हैं, “इस्माइल के तमाम आरोप झूठे हैं. उसने दफ़्तर में तोड़-फोड़ करने की धमकी दी थी. वो एक फ्रॉड हैं.”

थाने में एफ़आईआर

सीपीएमलेफ्ट फ्रंट के नेताओं ने मामले को विधान सभा में उठाया.

इस्माइल के अनुसार जब उन्होंने अपनी बक़ाया सैलरी के सिलसिले में कंपनी के प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल से मुलाक़ात की तो उन्होंने उन्हें ‘आतंकवादी’ कहते हुए दफ़्तर से बाहर निकलवा दिया.
इस्माइल का कहना है कि कंपनी के प्रबंध निदेशक के इस बर्ताव के बाद उन्होंने कोलकाता के बालीगंज थाने में एक एफआईआर भी दर्ज कराई, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.
गुरुवार को पश्चिम बंगाल में विधानसभा में भी इस मामले की गूँज सुनाई दी.
वाम मोर्चा के विधायकों ने विधानसभा में इस मुद्दे को उठाते हुए ‘कार्रवाई न करने वाले’ पुलिसवालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की.
विधानसभा में विपक्ष के नेता सूर्यकांत मिश्र ने बीबीसी से कहा, “दोषी पुलिस वालों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जानी चाहिए.”

भुगतान की पेशकश

इस्माइल के अनुसार विधानसभा में मामला उठने के बाद कंपनी ने उनको एसएमएस भेजकर उनकी बकाया राशि के भुगतान की पेशकश की है.
इस्माइल कहते हैं, “मैंने ऐसा करने से मना कर दिया. मैं अब अपना बकाया नहीं, बल्कि न्याय चाहता हूं.”
वो कंपनी से सार्वजनिक माफ़ीनामे और न्याय के लिए कोलकाता हाई कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाने पर विचार कर रहे हैं.
बालीगंज थाने के अधिकारियों ने इस मामले पर टिप्पणी करने से मना कर दिया है.
इस्माइल ने इस मामले में अल्पसंख्यक आयोग, मानवाधिकार आयोग और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से भी गुहार लगाई है.
(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप ह

Related posts

संविधान और सामाजिक न्याय के लिए वकीलों को एकजुट होना होगा – छत्तीसगढ़   आल इण्डिया लायर्स यूनियन . प्रदेश में अधिवक्ताओ के हितो और समस्याओ की विस्तार से चर्चा और महत्वपूर्ण निर्णय /राज्य स्तरीय कार्यकारिणी का नामांकन .

News Desk

नगरीय निकायों के गठन के खिलाफ सीपीआई Published: Wed, 15 Oct 2014 10:45 PM (IST) | Updated: Wed, 15 Oct 2014 10:45 PM (IST)By: Editorial Teamshare 0 और जानें : CPI against the formation of civic bodies | संबंधित खबरें नगरीय निकाय चुनाव : नेताओं में छिड़ा होर्डिंग्स वार नई तहसीलों के गठन को लेकर सुगबुगाहट जिले में 55 नई ग्राम पंचायतों का गठन असहमतियों में उलझा छत्‍तीसगढ़ कांग्रेस कार्यकारिणी का गठन नगरीय निकायों से अन्य विभाग के इंजीनियर हटाए जाएंगे जगदलपुर (ब्यूरो)। भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी ने प्रदेश के उन क्षेत्रों में जहां संविधान की पांचवी अनुसूची लागू है नगरीय निकायों के गठन का विरोध किया है। पार्टी का मानना है कि नगरीय निकायों का गठन संविधान की भावनाओं के अनुरूप नहीं है। पार्टी ने धान खरीदी के लिए प्रति एकड़ दस क्विंटल धान की सीमा तय करने का भी विरोध किया है। बुधवार को सीपीआई ने आठ सूत्रीय मांगो को लेकर संभाग स्तरीय धरना दिया। धरना-प्रदर्शन यहां कमिश्नर कार्यालय के सामने किया गया। जिसमें पूर्व विधायक मनीष कुंजाम के नेतृत्व में काफी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता शामिल हुए। तीन घंटा तक धरना देने के बाद पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री के नाम पर संबोधित एक ज्ञापन कमिश्नर आरपी जैन को सौंपा गया। ज्ञापन में प्रदेश के अनुसूचित क्षेत्रों में नगरीय निकायों का गठन बंद करने, धान खरीदी की सीमा खत्म करने, एनएमडीसी के परिक्षेत्रीय मद की राशि को बस्तर के बाहर खर्च करने पर रोक लगाने, स्कूलों में शिक्षकों की कमी दूर करने, मनरेगा के कार्यो की मजदूरी का समय पर भुगतान सुनिश्चित करने, आश्रम-छात्रावासों में सीटों की संख्या बढ़ाने, नक्सलियों के नाम पर निर्दोष ग्रामीणों को परेशान नहीं करने आदि मांगे प्रमुख हैं। धरना के बाद मीडिया से चर्चा में मनीष कुंजाम ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर जनता को दिग्भ्रमित करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों का धान खरीदने से भाग रही है। धरना में शेख वहीद कुरैशी, मंगलराम कश्यप, शेख नसीम कुरैशी, रामनाथ नाग, हिड़मोराम, रामधर बघेल, इंदरूराम, प्रहलाद पांडे, कुंदन पाटिल, विनय चक्रवती, बुधराम नाग, सुखराम बघेल, दीपक पांडे, श्रीमती हंगी, श्रीमती राजे, श्रीमती सन्नी आदि कई प्रमुख कार्यकर्ता शामिल थे। – See more at: http://naidunia.jagran.com/chhattisgarh/jagdalpur-cpi-against-the-formation-of-civic-bodies-205291#sthash.skfcpI3B.dpuf

cgbasketwp

21 श्रमिक मुक्त, दो गिरफ्तार

cgbasketwp