Uncategorized

नारायण चौहान साहब ने छत्तीसगढ़ के भयानक माहौल में रहते हुए भी सच की लड़ाई जारी रखी है .

नारायण चौहान

उजड़े हुए जंगलों को फिर से हरा भरा करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार को सैंकडों करोड़ रूपये दिए गए .

छत्तीसगढ़ सरकार के नेताओं और अधिकारियों ने उस पैसे से सैंकडों सालों से अपने गाँव बसा कर रहने वाले आदिवासियों को उजाड़ा और 

सरकार ने नए जंगल काटे और उन आदिवासियों को वहाँ ला कर पटक दिया .

नए गाँव में न फसल होती है , घर गिर गए हैं ,न स्कूल न अस्पताल ,न रिश्तेदार , जिंदगी मुश्किल है

सरकार ने जंगल लगाने के लिए मिले पैसों से कारें खरीदी

बंगले बनवाए

जबकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाये गए नियमों में इन सब के लिए मनाही थी

इस पर महालेखाकार ने अपनी आपत्तियां भी उठाई

पर उसकी परवाह किसे है

रमन सिंह फिर चुनाव जीत गये है

और उनके गुरु मोदी अब प्रधान मंत्री है

नारायण चौहान साहब ने छत्तीसगढ़ के भयानक माहौल में रहते हुए भी सच की लड़ाई जारी रखी है .

नारायण चौहान साहब ने इस सब के खिलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में सरकार के खिलाफ़ मुकदमा दायर कर दिया है .

नारायण चौहान साहब के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हो चुके हैं .

वो कहीं छुपे हुए हैं .

राष्ट्र निर्माण जारी है

http://tehelkahindi.com/campa-funds-scam/

Related posts

काम के पहले ही निकले थे 40 लाख ,फर्जीवाड़े का हुआ था खुलासा

cgbasketwp

बंगाल में सेना तैनात-ममता Friday, December 2, 2016 सीजी खबर कोलकाता | संवाददाता: क्या बंगाल में सेना तैनात कर दी गई है? कम से कम पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तो यही दावा किया है. हालांकि सेना ने कहा कि वह पूरे पूर्वोतर में गाड़ियों की जांच कर रही है. लेकिन इन दोनों बयानों के बीच तेजी से अफवाह फैली कि पूर्वोत्तर में सेना को युद्ध की तैयारी के समय जितने वाहनों की जरुरत होगी, यह जांच उसी तैयारी का हिस्सा है. गुरुवार की रात ममता बनर्जी ने ट्वीट करके आरोप लगाया कि बंगाल राज्य सचिवालय के बाहर सेना तैनात कर दी गई है. उन्होंने कहा कि पुलिस के विरोध के बावजूद अति सुरक्षित इलाक़े में सेना भेजना दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं सचिवालय में ही हूं और नज़र रख रही हूँ अपने लोकतंत्र की रक्षा करने के लिए. ममता बनर्जी ने कहा कि जब तक सचिवालय से सेना नहीं हटा ली जाती मैं लोकतंत्र की रक्षा के लिए सचिवालय में ही रहूंगी. हालांकि इसके उलट सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया कि पूरे पूर्वोतर में सेना बड़ी गाड़ियों की जांच कर रही है. सेना के पूर्वी कमान ने ट्वीट कर के यह जानकारी दी कि उत्तर पूर्व के सभी राज्यों में सेना टोल नाकों पर गाड़ियों की पूछताछ की रूटीन कार्रवाई कर रही है. इस बयान के अनुसार असम में 18 जगहों पर, अरुणाचल में 13, पश्चिम बंगाल में 19, मणिपुर में 6, मेघालय में 5 और त्रिपुरा और मिज़ोरम में एक-एक जगहों पर सेना गाड़ियों की जांच कर रही है. सेना ने दावा किया कि सेना की ये कार्रवाई एक रूटीन गतिविधि है और पश्चिम बंगाल की पुलिस की जानकारी में इसे किया जा रहा है. लेकिन सेना के इस बयान के बाद ममता बनर्जी ने फिर दावा किया कि सेना ग़लत बयानी कर रही है. ममता ने फिर से ट्वीट करते हुये कहा कि ईस्टर्न कमांड ने पूरी तरह ग़लत और ध्यान बंटाने वाले तथ्य दिए हैं. हम आपका पूरा सम्मान करते हैं, लेकिन कृपया लोगों को गुमराह न करें. ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी, अलीपुरद्वार, दार्जीलिंग, बैरकपुर, उत्तरी 24 परगना, हावड़ा, हुगली, मुर्शिदाबाद और बर्दवान ज़िलों में भी सेना तैनात की गई है. ***

cgbasketwp

छत्तीसगढ़ में मानवतस्करी की रिपोर्ट का तीसरा अंक , भारत दर्शन और शादी की आड़ में बेटियों की तस्करी

cgbasketwp