आदिवासी मानव अधिकार राजकीय हिंसा

अरनपुर में सुरक्षाबलो ने फिर किया हमला , खेत में फसल की रक्षा करते तीन लोगो को पकड़ ले गई दो को छोड़ा .एक गिरफ्तार. **

अरनपुर में सुरक्षाबलो ने फिर किया हमला , खेत में फसल की रक्षा करते तीन लोगो को पकड़ ले गई दो को छोड़ा .एक गिरफ्तार.
**
दंतेवाडा के कुअकोंडा थाने अरनपुर के ग्राम निलावाय में 7 अप्रेल की रात लगभग एक बजे 200 सुरक्षा कर्मी घुस गए , खेत में अपनी फसल की रखवाली कर रहे लोगो को उठाया और 6 लोगो के हाथ बांध दिए बीस लोग रात में अपनी फसल की रखवाली कर रहे थे ,उनसे कहा की खुले में क्यो सो रहे हो तुम सब नक्सली हो .
उनमे से तीन , बडी मरकाम उम्र 15 साल ,दुलाराम उम्र 20 साल और नंदा मांडवी उम्र 26 साल को अपने साथ ले गए , बांकी बच्चे और महिलाओ को घर भगा दिया .
रात में करीब के जंगल में उन तीनो को फ़ोर्स के साथ रखा, दुसरे दिन बुरगुम ग्राम के पास पहाड़ी पर इन्हें रखा गया और तीन दिन लगातार गावं गावं घुमाते हुए 9 अप्रेल को गादीरास थाने ले गये,
थाने में किसी अधिकारी ने बड़ी मरकाम उम्र 18 साल को छोड़ दियां और शेष दो दुलाराम और नन्दराम मांडवी को इनके सामने ही सुकमा गाड़ी से ले गए ,तब से इन दोनों के कोई पता नहीं पड़ा . परिवार के लोग दर दर भटकते रहे लेकिन दोनों के बारे में कोई कुछ बताने को तैयार नहीं था ,
अभी अभी खबर मिली की दुलाराम को गिरफ्तार करके सुकमा जेल में रखा गया है, बाद में मालूम पड़ा की नन्द राम को भी छोड़ दिया ,लेकिन दुलाराम को जन मिलिसिया सदस्य बता कर किसी पुराने केस में गिरफ्तार कर लिया .
पुलिस के लिये यह सामान्य सा नियम है की जब वो किसी को गिरफ्तार करे या रोक रखे तो 24 घंटे के अन्दर परिवार के लोगो को सूचित करे और सम्बंधित न्यायलय में पेश करें /
लेकिन बस्तर में जब चाहे सुरक्षा बल के लोग जिसे चाहे पकड़ ले जाते है और न न्यायलय मे पेश करते है और न परिवार के लोगो को सूचित करते हैं ,.

Related posts

किसानों के नाम लिखी कृषिमंत्री की बेशर्म चिट्ठी का जवाब : बादल सरोज

? मज़दूर दिवस के दिन : आज सारी दुनिया के मेहनतकशों के सामने दो प्रमुख चुनौतियां हैं एक कृत्रिम बुद्धि (Artificial intelligence) की और दूसरी व्यापक पैमाने पर विघटनकारी सांस्कृतिक हमले : नंद कश्यप 

News Desk

झूठे आरोप के तहत गिरफ्तार किये गये सुधा भारद्वाज सहित मानव अधिकार कार्यकर्ताओं को रिहा करने, मानव अधिकारों का हनन , जनआंदोलन पर बढ़ते दमन एवं अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने के खिलाफ एक दिवसीय सम्मेलन , भिलाई .:पीयूसीएल दुर्ग .

News Desk