कला साहित्य एवं संस्कृति नक्सल मानव अधिकार

माओवादी ऐसे हार नहीं मानेंगे-विश्वरंजन





माओवादी ऐसे हार नहीं मानेंगे-विश्वरंजन

रायपुर | डेस्क : छत्तीसगढ़ के पूर्व डीजीपी विश्वरंजन का मानना है कि माओवाद पर काबू पाने के लिये लंबी रणनीति बनाये जाने की ज़रुरत है. विश्वरंजन मानते हैं कि किसी इलाके से अगर माओवादी थोड़े समय के हट भी जायें तो यह उनकी रणनीति का ही हिस्सा होता है. वे दुबारा उसी इलाके में पूरी तैयारी और रणनीति के साथ लौट सकते हैं. वे ऐसे हार नहीं मानने वाले हैं. उनके लिये दीर्घकालीन नीति बनानी होगी.
विश्वरंजन ने एक ख़ास बातचीत में कहा कि माओवादियों को जिस तरीके का प्रशिक्षण दिया जाता है, वह सेना के प्रशिक्षण की तरह है. लेकिन हमारी सीआरपीएफ जैसी फोर्स को लड़ने के लिये तो प्रशिक्षित किया जाता है लेकिन माओवादियों से लड़ने का प्रशिक्षण उन्हें भी नहीं दिया जाता. उन्हें विशेष तौर पर प्रशिक्षित करने की ज़रुरत है.


पूर्व डीजीपी ने कहा कि माओवादियों को इस तरह की लड़ाई में स्ट्रैटज़ी और टैक्टिस का पूरा प्रशिक्षण होता है. वे देश के किसी भी हिस्से में हुये पुलिस मुठभेड़ का पूरी गहराई के साथ विश्लेषण करते हैं, उस पर अपने साथियों से चर्चा करते हैं और फिर उसके सकारात्मक-नकारात्मक पहलू पर विचार करते हुये अपनी अगली रणनीति को तय करते हैं. पुलिस में इसका घोर अभाव है.
उन्होंने कहा कि माओवादियों से लड़ने की रणनीति बने, उनके हमलों को लेकर प्रशिक्षण दिया जाये तो बहुत ही सफलतापूर्वक ऑपरेशन किये जा सकते हैं.
विश्वरंजन ने कहा कि बस्तर में सेना को तैनात करने की ज़रुरत नहीं है. ऐसा नहीं है कि बस्तर के सारे आदिवासी माओवादी हैं. मेरा मानना है कि जो लड़ाई पुलिस लड़ सकती है, उसके बजाये सेना को उस लड़ाई में शामिल करना कोई बेहतर रणनीति नहीं होगी.
माओवादियों के पीछे हटने के दावे पर उन्होंने कहा कि माओवादी अपनी लड़ाई को हमेशा दीर्घकालीन युद्ध कहते हैं. उनके दस्तावेज़ बताते हैं कि वे ऐसी दीर्घकालीन लड़ाई में पीछे हटने को एक सामान्य प्रक्रिया मानते हैं. यह संभव है कि माओवादियों को सरकार ने बैकफूट पर डाल दिया हो. लेकिन इसका मतलब यह कभी नहीं लगाया जाना चाहिये कि ऐसा करने से माओवादी हार मान लेंगे. उनका विश्वास है कि आगे-पीछे आने-जाने की प्रक्रिया में भी अंततः वे अपनी लड़ाई में जीत हासिल ज़रुर करेंगे.
विश्वरंजन ने कहा कि जब भी माओवादी बैकफूट पर जाते हैं तो वो उस अवसर का उपयोग रणनीतियों को समझने, उसमें फेरबदल करने और आगे की लड़ाई की तैयारी में लगाते हैं. वे इतनी आसानी से चुप बैठने वाले नहीं हैं. माओवादियों के खिलाफ अगर लड़ना है तो सरकार को दीर्घ कालीन रणनीति बनानी होगी.

Related posts

तमनार ब्लाक रायगढ़ में अनिश्चितकालीन अनशन का आज छटवां दिन , कोसमपाली सरसमाल में चल रहा है चक्का जाम . पुराने समझोते को भी पूरा करने की मांग

News Desk

पाकिस्तान की मशहूर शायरा फहमीदा रियाज़ को बहुत याद करते हुए ःः सीमा आज़ाद

News Desk

झूठे आरोप के तहत गिरफ्तार किये गये सुधा भारद्वाज सहित मानव अधिकार कार्यकर्ताओं को रिहा करने, मानव अधिकारों का हनन , जनआंदोलन पर बढ़ते दमन एवं अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने के खिलाफ एक दिवसीय सम्मेलन , भिलाई .:पीयूसीएल दुर्ग .

News Desk