छत्तीसगढ़ बिलासपुर राजनीति विज्ञप्ति शिक्षा-स्वास्थय

बिलासपुर विश्वविद्यालय ने मानी NSUI की 4 सूत्रीय मांगे रंजीत सिंह ने कहा छात्रहित में सदैव लड़ेंगे

बिलासपुर। पिछले दिनों 4 सूत्री मांगों को लेकर एनएसयूआई कार्यकारी ज़िला अध्यक्ष रंजीत सिंह ने अटल बिहारी विश्वविद्यालय के कुलपति को ज्ञापन सौंपा था इसके अलावा रंजीत सिंह के नेतृत्व की एनएसयूआई की टीम ने कोरोना काल में छात्रों की वर्तमान परिस्थिति से यूनिवर्सिटी को अवगत भी कराया था और इसके साथ मांग की थी कि परीक्षा शुल्क के नाम पर यूनिवर्सिटी ने जो पैसा लिया था वह पैसे के अतिरिक्त छात्रों को परीक्षा संबंधी सामग्री खुद खरीदनी पड़ रही है जिससे छात्रों पर अतिरिक्त भार पड़ रहा है जिसे अटल बिहारी वाजपेई विश्वविद्यालय ने वाजिब मानते हुए नियमित महाविद्यालयीन, भूतपूर्व परीक्षार्थी के 300 रुपए पूर्व परीक्षार्थी के 150 रुपए एटीकेटी परीक्षार्थियों के 100 रुपए तक वापस करने का निर्णय लिया है इसके अलावा विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षा आवेदन में विलंब शुल्क के नाम पर छात्र-छात्राओं से 500 रुपये लिया गया था जिसके बाद विश्वविद्यालय प्रबंधन ने विलंब शुल्क के 200 रूपए कम करने का निर्णय लिया है।

इसके अलावा एनएसयूआई ने ग्रामीण अंचलों में निवासरत छात्रों की तकलीफ को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय प्रबंधन से उत्तर पुस्तिका जमा करने के लिए 20 दिन की अवधि की मांग की थी जिस पर विश्वविद्यालय ने छात्रों को राहत देते हुए 15 दिवस के भीतर जमा करने की अवधी प्रदान की है।

रंजीत सिंह ने यूनिवर्सिटी द्वारा लिए गए फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि एनएसयूआई छात्रहित के लिए सदैव तत्पर रही है और इस कोरोना काल में जिस तरह छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ा है उसे लेकर ही वह यूनिवर्सिटी कुलपति के समक्ष प्रस्तुत ही थे।

NSUI ने कोरोना काल के इस विपरीत समय में छात्र हित में लिए गए विश्वविद्यालय के निर्णय पर कुलपति समेत पूरे प्रबंधन का धन्यवाद किया है। ज्ञापन सौंपने के वक्त , जिलाध्यक्ष यूथ कांग्रेस भवेंद्र गंगोत्री, NSUI कार्य. ज़िला अध्यक्ष रंजीत सिंह, विकास ठाकुर शहर अध्यक्ष एनएसयूआई, रंजेश सिंह जिलामहासचिव एनएसयूआई , सिधार्थ तिवारी, नवीन कुमार, योगेश तिवारी,आर्यन मुखर्जी, कुलदीप सोनी, विकास कश्यप मौजूद थे।

Bilaspur University accepted the 4-point demands of NSUI

Related posts

बिलासपुर : आम हडताल के समर्थन मे वाम दलों ने नेहरू चौक पर दिया धरना और किया प्रदर्शन .शहर रहा पूरी तरह बंद .आम हडताल और भारत बंद को अभूतपूर्व समर्थन .

News Desk

त्रस्त जनता ने “आप” को माना है सबसे बेहतर विकल्प – नम्रता सोनी

News Desk

रोहित वेमुला का आख़िरी खत : शरद कोकास की कविता

Anuj Shrivastava