क्राईम ट्रेंडिंग पुलिस बिलासपुर भृष्टाचार

भूगोल बार के संचालक अंकित अग्रवाल ने प्रिंस भाटिया पर लगाए गंभीर आरोप, एसपी को दिया आवेदन

प्रदेश की न्यायधानी बिलासपुर में कुछ दिनों पहले चकरभाठा क्षेत्र में पकड़े गए मादक द्रव्य सामग्री का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा हूं। आरोपी योगेश द्विवेदी को जब से प्रतिबंधित नशीली दवा के साथ पुलिस ने गिरफ्तार किया है तब से आए दिन नई नई बातें सामने आ रही हैं। एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप और छींटाकशी दौर शुरू हो गया है।

भूगोल बार के संचालक अंकित अग्रवाल ने बीते दिनों पुलिस अधीक्षक को कई बड़े नामों का उल्लेख करते हुए एक आवेदन सौंपा है। आवेदन में कारोबारी प्रिंस भाटिया समेत कई नामों का उल्लेख किया गया है। अंकित अग्रवाल ने सीधे तौर पर ये आरोप लगाया है कि उनके व्यवसायिक प्रतिस्पर्धी उन्हें बदनाम करने और उनके द्वारा संचालित भूगोल बार की प्रतिष्ठा का हनन करने के उद्देश्य से कई तरह की अफ़वाह और भ्रांतियां फैलाई जा रही हैं।

पुलिस अधीक्षक को दिए आवेदन में अंकित अग्रवाल ने ये भी लिखा है कि वे अब मदिरा व्यवसाय में हैं इसलिए मदिरा व्यवसाय में एकछत्र राज्य करने वाले व्यवसायी के द्वारा उनके खिलाफ षड्यंत्र रचा जा रहा है। अग्रवाल ने शहर में संचालित कई बार व क्लबों पर नियमों का पालन न करने और तमाम तरह की अवैध गतिविधियों को संचालित करने, यहां तक कि देह व्यापार करवाने के आरोप भी अपने आवेदन में लगाए हैं।

अंकित अग्रवाल ने मीडिया में प्रसारित भूगोल के मैनेजर योगेश द्विवेदी के उस वीडियो की भी फोरेंसिक जांच की मांग की है जिसमें द्विवेदी ये कहते नज़र आ रहे हैं कि अंकित अग्रवाल के कहने पर ही भूगोल में ड्रग्स का कारोबार किया जाता है। अग्रवाल ने कहा है कि वो वीडियो एडिटेड है इसलिए उसकी फोरेंसिक जांच की जानी चाहिए। अंकित अग्रवाल ने कहा है कि उनके व्यवसायिक प्रतिस्पर्धि द्वारा उनके बार भूगोल की बढ़ती लोकप्रियता को देखकर घबरा गए हैं और व्यापार को नुकसान पहुंचाने के लिए परदे के पीछे रहकर खेल खेल रहे हैं। अंकित अग्रवाल ने इस संबंध में कई लोगों को वकील के माध्यम से नोटिस भी जारी किया गया है।

Related posts

किस्मत में जो लिखा है वही होगा, केकड़ों की वजह से टूटा तिवेर बांध. : जल संरक्षण मंत्री बोले.

News Desk

बिलासपुर में मुख्यमंत्री का पुतला दहन

News Desk

गंगा बहती हो क्यूँ ?  नदियों का वैतरणी बनना और लाशों के अधिकार का प्रश्न