Author : Anuj Shrivastava

412 Posts - 3 Comments
कला साहित्य एवं संस्कृति

12.आज मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए रमाशंकर यादव “विद्रोही” की कविता “धर्म”

Anuj Shrivastava
आज मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए रमाशंकर यादव “विद्रोही” की कविता “धर्म” दिलीप मंडल लिखते हैं, “प्रोफ़ेसरों. रमाशंकर यादव नाम का वह मासूम लड़का सुल्तानपुर,...
कला साहित्य एवं संस्कृति जल जंगल ज़मीन पर्यावरण

अरपा पर नवल शर्मा का कविता पाठ सुनेंगे , तो सुनिये.

Anuj Shrivastava
नवल शर्मा . हिंदी का विद्यार्थी . बिलासपुर ने गढ़ा – यहीं बढ़ा . छत्तीसगढ़ की माटी मालिक मैं कमिया हथगढ़िया. नवल शर्मा जी से...
कला साहित्य एवं संस्कृति

11.मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनिए छत्तीसगढ़ के मशहूर साहित्यकार विनोद कुमार शुक्ल की कविताएँ. अनुज

Anuj Shrivastava
मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनिए छत्तीसगढ़ के मशहूर साहित्यकार विनोद कुमार शुक्ल की कविताएँ. पंक्ति के आख़िरी व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पहुचाने की...
कला साहित्य एवं संस्कृति

9. आज के मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए देवीप्रसाद मिश्र की दो कविताएं “गोरक्षा ग्रास समिति” और “स्मार्ट सिटी”: अनुज

Anuj Shrivastava
आज के मसाला चाय कार्यक्रम में सुनिए देवीप्रसाद मिश्र की दो कविताएं “गोरक्षा ग्रास समिति” और “स्मार्ट सिटी” ये दोनों ही कविताएँ आज की राजनीतिक...
कला साहित्य एवं संस्कृति

8.आज के मसाला चाय कार्यक्रम में एक ख़त पढ़ते हैं..अनुज

Anuj Shrivastava
कुछ बातें ऐसी होती हैं जो हम अंदर ही अंदर महसूस करते हैं कई बार पर सामने कभी बोल नहीं पाते. ऐसी ही एक बात...
कला साहित्य एवं संस्कृति

8. मसाला चाय में आज सुनिये हरिशंकर परसाई का सशक्त व्यंग “कंधे श्रवण कुमार के” अनुज की आवाज़ .

Anuj Shrivastava
सही गलत की पहचान करने और प्रश्न पूछने की आदत को कैसे हमारी रूढ़िवादी पीढ़ी ने ही हमसे छीना है, संस्कारों के नाम पर कैसे...
कला साहित्य एवं संस्कृति

7. मसाला चाय के इस अंक में सुनिए मशहूर शायर इब्न-ए-इंशा की कुछ रचनाएं. अनुज

Anuj Shrivastava
राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित ‘इब्ने इंशा की प्रतिनिधि कविताएं’ पुस्तक की भूमिका में अब्दुल बिस्मिल्लाह लिखते हैं, “जीवन दर्शन और जीवन सौंदर्य के सामंजस्य से...
जल जंगल ज़मीन पर्यावरण

अरपा को बहने दो . रूब़रू में चर्चा , नवल शर्मा और प्रथमेश मिश्रा से.

Anuj Shrivastava
एक समय बिलासपुर की जीवनरेखा कही जाने वाली अरपा नदी, जो शहर के बीच से गुज़रती हुई पूरे शहर को तर करती थी, अब एल...
कला साहित्य एवं संस्कृति

6. आज मसाला चाय में सुनिए हरिशंकर परसाई की व्यंग्य रचना “दलाली “

Anuj Shrivastava
परसाई हिन्दी के पहले ऐसे रचनाकार हैं¸ जिन्होंने व्यंग्य को विधा का दरजा दिलाया और उसे हल्के–फुल्के मनोरंजन की परंपरागत परिधि से उबारकर समाज के...
कला साहित्य एवं संस्कृति

5. मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनिए शरद जोशी की कहानी “आम आदमी की पहचान “

Anuj Shrivastava
मसाला चाय कार्यक्रम में आज सुनिए शरद जोशी की कहानी “आम आदमी की पहचान ”  सरकारी दफ्तरों में होने वाले भ्रष्टाचार के एक किस्से को...