कला साहित्य एवं संस्कृति

6.बैंक ने दिया बेबी को लोन.एक पुरातत्ववेत्ता की डायरी.शरद कोकास

मित्रों , अब तक आपने पढ़ा की प्राचीन भारतीय इतिहास संस्कृति एवं पुरातत्व अध्ययन शाला विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के 6 छात्र शरद ,रविन्द्र, अशोक, किशोर ,राममिलन और अजय दंगवाडा नामक जगह पर पुरातात्विक उत्खनन के लिए गए हैं और उन लोगों के बीच रोज तंबू में बातचीत होती है । इस बातचीत में अब तक शामिल विषय है ग्रीक माइथोलॉजी के हरकुलिस और हमारे यहां के हनुमानजी, मिस्र के पिरामिड, स्पार्टा और ट्राई के बीच हेलन के लिए होने वाला युद्ध ,पुरातत्व की कुछ बातें, पंच मार्क सिक्के और उनका महत्व । छात्रों के गुरु हैं विश्व प्रसिद्ध भीमबेटका गुफाओं के खोजकर्ता डॉक्टर वी श्री वाकणकर और प्रोफेसर डॉ सुरेंद्र कुमार आर्य। इन छात्रों को इस उत्खनन शिविर में बहुत मजा आ रहा है और आज वे मेसोपोटामिया यानी सुमेरिया की यात्रा करने वाले हैं और पढ़ने वाले हैं वहां के राजा हम्मूराबी के बारे में । यह वही जगह है जहां बेबीलोन के प्रसिद्ध हैंगिंग गार्डन थे ।लीजिए आगे पढ़िए

6⃣ भाग छह 6⃣

6- बैंक ने दिया बेबी को लोन

कुदाल की हुंकार थम चुकी थी , घमेलों का झनझनाना भी  रुक गया था ,मिटटी छानने वाली छन्नी भी अपनी खिसियानी हँसी बंद कर चुकी थी । मजदूर एक पांत  बनाकर चम्बल की और रवाना हो गए थे जिसे पारकर उन्हें अपने गाँव जाना था  । शाम होने लगी थी और अँधेरा अपने दूतों को इस दुनिया में भेजकर अपने आगमन के लिए उचित वातावरण की तलाश में था । इधर सूरज भी लौट जाने की बहुत जल्दी मचा रहा था  । ऐसा लग रहा था  जैसे उसे एक साईट पर अपना काम ख़त्म कर दूसरी साईट पर जाना हो । वैसे होता भी यही है, हमारे यहाँ सूरज डूब जाता है लेकिन कहीं न कहीं तो वह आसमान में अपने आसन पर विराजमान होता ही है । 

सूरज जब अपने औज़ार समेटकर चला गया अँधेरा अपनी ड्यूटी पर हाज़िर हो गया ।  हमेशा की तरह पंछी अपने घरौंदों में लौटने लगे  और जंगल के बीच स्थित दंगवाड़ा की इस पुरातात्विक साईट पर धीरे धीरे ख़ामोशी अपना बिस्तर बिछाकर नींद की राह तकने लगी । हम लोगों ने भी साईट से अपने औज़ार उठाये और कैम्प में लौट आये । हाथ-पाँव और चेहरे पर धूल की परत जमी हुई थी और उसे विदा करना ज़रूरी था सो तम्बू से तौलिया और साबुन लिया और चल दिए चम्बल के घाट पर । ठन्डे पानी से हाथ मुंह धोने के बाद हमने एक दूसरे के चेहरे को देखकर धूल साफ़ हो जाने की पुष्टि की और कैम्प में वापस आ गये । 

हम लोग जंगल में खुले आसमान के नीचे थे सो हमें कुछ ठण्ड सी महसूस हो रही थी । दिनभर मेहनत की थी इसलिए पेट भी खाली हो गया था । हम लोग भाटीजी की भोजनशाला में चूल्हे के पास आग तापते हुए बैठ गए और बातों के साथ साथ खुशबुओं से पेट भरने की कोशिश करने लगे । भाटी जी ने हम लोगों की हालत देखकर शीघ्र ही भोजन तैयार कर दिया, गोभी की रसेदार सब्ज़ी, दाल और रोटी । गरमागरम भोजन से पेट भरने के बाद जब सारा लहू भोजन को हज़म करने के लिए आमाशय की ओर दौड़ गया था तब ठण्ड और ज़्यादा तेज़ लगने लगी । हमें तम्बू में बिछे बिस्तर की याद आई जहाँ नर्म - गर्म रज़ाइयाँ हमारा इंतज़ार कर रही थीं । 

तम्बू के बाहर ठंडी हवाएँ थीं और भीतर हम हल्की हल्की सी कँपकँपाहट के बीच अपने आपको वर्तमान में सुरक्षित महसूस करते हुए अतीत की गलियों में भटकने की तैयारी में थे । आज की रात हम लोगों को मेसोपोटेमिया या प्राचीन सुमेरिया की सैर के लिए  जाना था । हम लोग रज़ाई ओढकर बैठ गए  । प्राचीन विश्व का एक नक्शा जिसे मैं उज्जैन से आते हुए अपने साथ लेता आया था मैंने अपने सामने फैला लिया । नक्शे के साथ इतिहास पढ़ना मुझे हमेशा से अच्छा लगता है ऐसा लगता है जैसे हम साथ साथ उस जगह की सैर कर रहे हों । इस तरह यह मेरे अभ्यास में शामिल है ।

नक़्शे में एक स्थान पर उँगली रखते हुए रवीन्द्र से मैंने कहा “यह पश्चिम एशिया का क्षेत्र है । पृथ्वी के जिन भूभागों में प्राचीन सभ्यता का अविर्भाव सबसे पहले हुआ उनमें पश्चिम एशिया भी है । इसके पूर्व में ईरान का पठार है और पश्चिम में भूमध्य सागर और काला सागर । यह सम्पूर्ण क्षेत्र रेगिस्तान और शुष्क मैदानी क्षेत्र है लेकिन बीच बीच में कई उपजाऊ क्षेत्र भी हैं, नदियाँ हैं, हरियाली है और घाटियाँ भी हैं  । वर्तमान में जहाँ इराक और कुवैत है यही क्षेत्र प्राचीन समय में मेसोपोटेमिया कहलाता था । यहीं दज़ला और फरात नदियाँ बहती हैं, दज़ला का  वर्तमान नाम टिग्रीस है और फरात का नाम यूफ्रेटिस है । इन नदियों का उद्गम काकेशिया के दक्षिण में स्थित पहाड़ों से हुआ है और अंत फारस की खाड़ी में होता है । इनके मध्य व निचले भागों में स्थित प्रदेश को प्राचीन निवासियों ने “ मेसोपोटेमिया “ अर्थात नदियों के बीच का प्रदेश या दोआब कहा ।

"आज लेकिन इराक और कुवैत तो तेल के लिए जाना जाता है ?" अशोक का प्रश्न जायज था । " हाँ "मैंने कहा । "लेकिन उस समय न तो तेल की खोज हुई थी न तेल से चलने वाले इंजन की । उस समय तो यह क्षेत्र अपनी हरियाली के लिए मशहूर था जो इन नदियों में बाढ़ की वज़ह से होती थी । यहाँ वसंत के मौसम में पहाड़ों पर बर्फ पिघलने की वज़ह से बाढ़ आती थी उसके बाद सब और हरियाली छा जाती थी । लेकिन यहाँ का तापमान फिर पचास डिग्री के आसपास हो जाता था इसलिए वह सूख भी जाती थी । यहाँ कोई भी खनिज नहीं पाया जाता था लेकिन अपनी मिटटी की वज़ह से यह प्रदेश काफी उपजाऊ था । 

"यहीं पर कहीं बेबीलोन शहर भी था ना जिसके हैंगिंग गार्डन बहुत प्रसिद्ध थे ?"रवींद्र ने सवाल किया । " हाँ " मैंने कहा "यहीं फरात नदी के किनारे जहाँ दज़ला फ़रात के बहुत क़रीब आ जाती है बेबीलोन नामक एक प्रसिद्ध शहर था जिसे बाबुल भी कहते हैं । बेबीलोन काफी समृद्ध शहर रहा है । नदियों के मार्ग से यहाँ बजरों और नावों पर व्यापारियों द्वारा अनेक तरह का माल लाया जाता था । यहाँ की भूमि बहुत उपजाऊ थी सो यहाँ खजूर गेहूँ,जौ आदि का काफी उत्पादन होता था जिनका अन्य सामानों से विनिमय किया जाता था । यहाँ की चिकनी मिटटी से घड़े, संदूक और ईटें भी बनाई जाती थीं । मेसोपोटामिया के सड़क मार्ग भी बेबीलोन से होकर गुजरते थे । यहाँ उन्नीसवीं शताब्दी में उत्खनन हुआ जिससे अनेक प्राचीन सभ्यताओं का पता चला ।"

भैया राममिलन काफी देर से चुप बैठे थे और नक़्शे पर नज़र गड़ाए भूगोल पर मेरा व्याख्यान  सुन रहे थे । अचानक मैंने उनकी ओर देखा तो वे बोल उठे “ का हो, ई  बेबीलोन नाम कहाँ से आया ? इहाँ  बैंक ने कौनो  बेबी- वेबी को लोन दिया था का ? मैंने हथेली से अपना माथा पीटते हुए कहा “ भैया इस बेबीलोन का अंग्रेजी के बेबी और लोन से कोई सम्बन्ध नहीं है । “ भैया राममिलनवा पर लेकिन कोई असर नहीं पड़ा वे अपनी रौ में बोले..” भैया ऐसा है कि ई बड़े लोग बहुत चालाक होवत हैं,  ई लोग बेबी क्या अपन कुत्ता बिल्ली के नाम से भी लोन ले लेवत हैं और फिर सब कुछ हजम कर के भागी जात हैं ।“  

राममिलन भैया ने बात तो बिलकुल सही कही थी लेकिन चर्चा बेबीलोन  पर चल रही थी इसलिए मैंने उन्हें उंगली से चुप रहने का इशारा किया और आगे बात बढाई ”भाईसाहब, बेबीलोन शब्द बेविल या बेविलिम से बना है जिसका अर्थ होता है देवताओं का द्वार, वैसे यह ग्रीक शब्द है । बेबीलोन शहर की स्थापना सरगोन  के राजा द्वारा तेईस सौ चौंतीस ईसापूर्व में की गई थी । उस समय प्राप्त मिटटी की एक मुद्रा से इसका पता चलता है लेकिन इसका वास्तविक इतिहास राजा हम्मुराबी के काल से प्रारंभ होता है जिसका काल सत्रह सौ ब्यानबे से सत्रह सौ पचास ईसा पूर्व माना जाता है  । हम्मुराबी  काफी बलशाली राजा था और उसने एक उत्कृष्ट सेना का निर्माण किया था अपनी ताकत के बल पर उसने पूरे मेसोपोटामिया पर कब्ज़ा कर लिया था । लेकिन इतिहास में हम्मुराबी अपनी कानून संहिता के लिए प्रसिद्ध है । उसने शहर के बीचोबीच एक काले पत्थर पर अपनी प्रजा के लिए कुछ क़ानून खुदवाए थे जिनका पालन करना पूरी प्रजा के लिए अनिवार्य था । 

"क्या लिखा था भाई उसमें  ? " अजय नाक तक रज़ाई ओढ़े रज़ाई के भीतर घुसा हुआ था उसने तत्काल अपनी गर्दन बाहर निकाली और पूछा । " अरे इस विधि-संहिता में बहुत भयंकर बातें लिखी थीं जैसे कि किस अपराध के लिए क्या दण्ड दिया जाना चाहिए ।" मैंने कहा  । " रुको रुको मैं बताता हूँ " रवीन्द्र अचानक उठकर खड़ा हो गया अपने कानों पर लपेटा हुआ मफ़लर खोलकर उसे पगड़ी की तरह सर पर बांधा और नाटकीय अंदाज़ में कहने लगा " सुनो, सुनो, सुनो.. समस्त प्रजाजन ध्यान से सुनो..मैं हम्मुराबी देवताओं द्वारा नियुक्त शासक, सभी राजाओं में प्रथम और फरात के तटवर्ती सभी ग्रामों, नगरों का विजेता हूँ । मैंने समस्त देश को सत्य और न्याय की शिक्षा दी है और लोगों को समृद्धि प्रदान की है  । "इसमें भयंकर जैसी क्या बात क्या है ?" अजय ने ऊबकर कहा और वापस रजाई के भीतर गर्दन छुपा ली  । 

"तू ना यार एक्टिंग भी नहीं करने देता है ।" रवीन्द्र ने किंचित नाराज़ होते हुए कहा । " सुनो तो उस विधि संहिता में आगे क्या लिखा था मैं बताता हूँ । उसमें लिखा था, आज से मेरे राज्य में जो मंदिर अथवा राजा की संपत्ति चुराएगा उसे प्राणदंड मिलेगा, जो दास  अथवा दासी चुराएगा उसे भी प्राणदंड मिलेगा ,जो भागे हुए दास को शरण देगा उसे भी प्राणदंड मिलेगा । " मतलब  हर बात के लिए प्राणदंड ? " अजय ने पूछा । " नहीं ,कुछ हल्की सजायें  भी है भाई ।" रवींद्र कहने लगा " जैसे, जो शरीर पर गोदा हुआ दास का निशान मिटाएगा उसकी उँगलियाँ काट दी जाएँगी, जो पराये  दास  की हत्या करेगा उसे बदले में दास  देना पड़ेगा, बैल के बदले में बैल देना पड़ेगा, जो अपने से उच्च वर्ग के सभ्रांत पुरोहित आदि को थप्पड़ मारेगा उसे बैल के चमड़े से साठ  कोड़े लगाये जायेंगे, कर्जदार की पत्नी, पुत्र या पुत्री को तीन वर्ष तक दास बनकर रहना होगा । मैं हम्मुराबी ,न्यायप्रिय राजा हूँ और ये विधान मुझे सूर्यदेव शम्स ने प्रदान किये हैं । मेरे शब्द उदात्त हैं और मेरे कार्य अनुपम हैं ..."

अबकी बार अजय ने रवीन्द्र को एप्रिशिएट करते हुए ताली बजाई । "मगर यह बहुत बाद की बात है ।" मैंने कहा "उससे पहले यहाँ भीषण बारिश होती थी जिसकी वज़ह से नदियों में बाढ़ आती थी  यह बाढ़ अपने साथ मिटटी की गाद लेकर आती थी  जो बहुत उपजाऊ होती थी  । सातवीं- छठवीं सहस्त्राब्दी  ईसापूर्व तक यहाँ के निवासी कुदाल से खेती करने के अलावा भेड़ बकरियाँ व गाय पालने लग गए  थे । वे दलदल में उगने वाले सरकंडों से और मिट्टी से अपने घर बनाते थे ।“ “ और खाना खाकर आराम से सो जाते थे । “अजय जोशी ने एक लम्बी उबासी लेते हुए कहा और माथे तक रज़ाई खींचकर लम्बा हो गया ।

“नहीं भाई इतना सुख कहाँ था ।“ मैंने कहा “यहाँ की नदियों में हर साल भीषण बाढ़ आती थी और उनकी सारी मेहनत पर पानी फिर जाता था, झोपड़ियाँ बह जाती थीं, आदमी और मवेशी नष्ट हो जाते थे, दलदली बुखार, बिच्छू, कीड़े-मकोड़ों से लोग त्रस्त रहते थे, जंगली शेर और सुअर हमला कर देते थे ..” “ एक मिनट भाईसाहब,  शेर तो जंगली ही होते हैं ना ? ” राममिलन भैया ने बहुत देर बाद मुँह खोला था । “ हाँ भाई उस समय भी जंगली थे और आज भी जंगली ही हैं, सुअरों की बात मैं नहीं कर रहा हूँ ।” राममिलन भैया ने एक्सपर्ट कमेंट किया । “ सुअर तो सब शहर में बस गए  हैं और अब चुनाव भी लड़ने लगे हैं ।" 

मैंने बात आगे बढ़ाई “ लेकिन तीसरी सहस्त्राब्दि  ईसा पूर्व तक मेसोपोटेमिया के  इन लोगों ने अनेक कठिनाइयों पर विजय पा ली थी । दलदल सुखाने और सिंचाई के लिए  यहाँ नहरें खोदी गईं, खेतों में गेहूँ और जौ की फसलें उगाई जाने लगीं । कृषकों ने हल का अविष्कार भी कर लिया था । खजूर यहाँ बहुतायत में होता था जिसके फलों से आटा व गुड़ तैयार किया जाता था । पेड़ की छाल के रेशों से रस्सी बुनी जाती थी ,चरागाहों में घुंघराले बालों वाली भेड़ें नर्म नर्म घास चरती थीं । नगरों में शिल्पी, बढ़ई आदि कारीगर रहा करते थे और ऊन, खजूर, अनाज आदि का व्यापार भी अच्छा था । “

"यार अब समझ में आया कि अरब देशों के लोग खजूर को इतना पसंद क्यों करते हैं ।" अजय ने कहा "और यह भी समझ में आ गया कि मुसलमान लोग रमज़ान के महीने में रोजा खोलने के लिए खजूर का इस्तेमाल क्यों करते हैं । "हाँ यह सही है ।" मैंने कहा "जिस क्षेत्र में किसी धर्म का उदय होता है उस क्षेत्र का खान-पान, रीति रिवाज़, रहन - सहन सब कुछ उस धर्म में शामिल हो जाता है ,फिर उस धर्म के लोग दुनिया के किसी भी क्षेत्र में रहें वे उन्ही रीति -रिवाजों का पालन करते हैं । लेकिन यह बात जो मैं बता रहा हूँ यह इस्लाम के अविर्भाव से हजारों साल पहले की है ।"

“मतलब यह कि मेसोपोटेमिया वासियों को सुखी होने में तीन-चार हज़ार साल लग गए  ? ” रवीन्द्र ने मेरी बात को गिर से पटरी पर लाते हुए कहा । “हाँ” मैंने बताया, "लेकिन इस तरह सुखी होने की प्रक्रिया में कुछ लोग तो सम्पन्न हो गए और शेष वैसे ही विपन्न रहे । दरअसल अधिकता ही इस भेद को जन्म देती है । उस समय दक्षिण मेसोपोटामिया की उर्वर ज़मीन में एक दाने से सौ दाने पैदा होते थे और खजूर का एक पेड़ वर्ष में पचास  किलो से भी अधिक खजूर देता था । इसका अर्थ यह हुआ कि उन लोगों के पास आवश्यकता से अधिक अन्न हो गया लेकिन इसके मालिक सब नहीं हुए ।" 

"हमारे यहाँ भी तो यही हाल है भाई " अशोक ने कहा । "हमारे यहाँ भी किसान इतना अनाज पैदा करता है लेकिन सब बड़े बड़े लोगों के गोदामों में जमा हो जाता है किसान के पास तो बमुश्किल अपने खाने लायक अनाज बचा रहता है ।" " तुम ठीक कह रहे हो " मैंने कहा " लेकिन इसकी वज़ह से यह हुआ कि कुछ संभ्रांत और पुरोहित किस्म के लोगों ने ज़मीनों पर कब्ज़ा कर लिया और शेष लोग जिनमें  युद्धबंदी भी थे उनके दास हो गए । गरीबों के पास अपनी भूमि नहीं थी वे ज़मींदारों के यहाँ काम करने लगे  । इस तरह दक्षिण मेसोपोटामिया में कृषि, पशुपालन और शिल्प का विकास तो हुआ ही साथ साथ  दासों , सामुदायिक किसानों और संपन्न दास स्वामियों के वर्ग भी बन गए । बहुत से शिल्पी और किसान धनी लोगों के कर्जदार बनते गए ।" 

"मतलब यह सिर्फ हमारे देश में ही नहीं हो रहा बल्कि पूरी दुनिया में सदियों से चला आ रहा है ।" अशोक ने कहा और रज़ाई के भीतर मुँह घुसा लिया । मैंने देखा कि सबको नींद सी आ रही है । अशोक की बात ख़त्म होते ही रवींद्र ने आज की रात्रिकालीन सभा की समाप्ति की घोषणा करते हुए पहला फरमान जारी किया .."अभी भी कहाँ कुछ बदला है न बदलने वाला है चलो अब सब लोग सो जाओ ।" 
शरद कोकास

◼◼◼◼◼◼

Related posts

पुरातात्विक अध्यन ःः  ईंंट   निर्मित शिव मंदिर : भोरमदेव मंदिर प्रांगण ःः  अजय चंन्द्रवंशी कवर्धा 

News Desk

प्रियंका की कलाकार बनने की कहानी उन्ही की जुबानी

News Desk

⚫ ” प्रभाकर ” चौबे जी को याद करते हुये /  पॉलिटिक्स क्लियर थी पार्टनर !   –  नथमल शर्मा 

News Desk