जल जंगल ज़मीन नीतियां

2. वन अधिनियम में संशोधन .जंगलों को एकल कृषी भूमियों में बदल देने और उधोगों को सोंप देने के लिये .बेहद खतरनाक .

मानवाधिकारों की मान्यता अब समाप्त हो जाएगी

मसौदे का उद्देश्य विभिन्न जंगलों को एकल कृषि भूमियों में बदल देने और उद्योगों को सुविधा प्रदन करना है । यह बेहद खतरनाक है ।

नीमा पाठक ब्रूम ( लेखिका पुणे स्थित सामाजिक एवं पर्यावरण संगठन , कल्पवृक्ष , के साथ जुड़ी हैं )

भारतीय वन अधिनियम , 1927 में प्रस्तावित संशोधन किसी वन अधिकारी की औपनिवेशिक भावना से ओत – प्रोत एक काल्पनिक उड़ान जैसा है । यह वन विभाग को अर्धन्यायिक शक्तियों से लैस करता है और जंगलों को कॉर्पोरेट हित में उजाड़ सकता है । संशोधन को अमल में लाने से पहले वनों की मौजूदा श्रेणियों की समीक्षा की जानी चाहिए और पूर्ववर्ती श्रेणियों ( आरक्षित , संरक्षित , और ग्राम वन ) को बदलकर उन श्रेणियों को शामिल करना चाहिए , जिनमें निवास स्थान और सामदायिक वन संसाधन अधिकारों को मान्यता प्रदान की गई है । इसके उलट , यह नया मसौदा आरक्षित जंगलों , पंचायत वनों और संयुक्त वन प्रबंधन समिति जैसे संस्थानों को ही सशक्त करता है ।

पंचायतों के प्रावधान ( अनुसूचित क्षेत्रों पर विस्तार ) अधिनियम ( पैसा ) , 1996 और वन अधिकार । अधिनियम , 2006 जैसे लोकतांत्रिक कानूनों के परस्पर विरोधी मौजूदा औपनिवेशिक प्रावधानों को समाप्त करने की बजाय प्रस्तावित मसौदे का मूल अभिप्राय वनवासियों को अपराधियों के रूप में । दर्शाकर उनके अधिकारों की मान्यता रद्द करना और उन्हें पूरी तरह नष्ट करना है । मसौदा यह भी सुनिश्चित करता है कि आगे भी कभी इन अधिकारों को उन इलाकों में मान्यता न प्राप्त हो , जहां अब तक इनको मान्य नहीं किया गया है ।

एफआरए और पेसा के अमल में आने के बाद से ग्राम सभाएं जंगलों के स्थायी प्रबंधन , जिसमें विनियमित फसल और गैर – इमारती लकड़ी वन उत्पाद के व्यापार शामिल हैं , के कार्य में संलग्न हो गई हैं । मसौदा इसे नजरअंदाज करता है ।

इस मसौदे का उद्देश्य विभिन्न जंगलों को एकल कृषि भूमियों में बदल देने और उद्योगों को सुविधा प्रदान करना है । यह बेहद खतरनाक है । इस संशोधन को वनाधिकार और पेसा के उन प्रावधानों , जिसके अंतर्गत वन व्यपवर्तन के लिए ग्राम सभाओं से पर्वसंचित सहमति की आवश्यकता होती है , की । कमजोर करने के लिए प्रायोजित अन्य कानूनी और नीतिगत बदलाव के सापेक्ष देखना विशेष तौर पर महत्वपूर्ण है । अगर यह नया कानून पारित हो जाता है , तो यह भारतीय वनों को न सिर्फ प्रभावित | करेगा बल्कि अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार और संरक्षण प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन भी करेगा ।

{ डाउन टू अर्थ हिंदी के म ई 2019 के अंक से आभार सहित. फील्ड में कार्य कर रहे सामाजिक कार्यकर्ताओं को और ज्यादा सक्षम बनाये रखने के लिये .)

Related posts

हसदेव अरण्य के जंगलों के विनाश के खिलाफ ग्रामीण एकजुट , पर्यावरण दिवस मनाकर जंगल – जमीन को बचाने का लिया संकल्प.

News Desk

जंतर मंतर से बंगाल के सुदूर गंगा तट तक गंगा प्रेमियों की एक आवाज! :  कुंभ से युवा संत आत्मबोधानंद मातृ सदन, हरिद्वार लौटे.

News Desk

बैगा जनजातीय जो पहले से संकटग्रस्त जनजातीय में आते है वो आज विस्थापन के चंगुल में फंस गए है.: गांव से सीधे रिपोर्ट :, तामेश्वर सिन्हा

News Desk