अभिव्यक्ति आंदोलन कला साहित्य एवं संस्कृति धर्मनिरपेक्षता

हैदराबाद: सांस्कृतिक संगठनों ने मनाया फ़ासीवाद विरोधी प्रतिरोध दिवस

फासीवादी ताकतों का सांस्कृतिक प्रतिरोध करने के लिए 22 सितंबर को प्रगतिशील सांस्कृतिक संगठनों द्वारा सुन्दरैय्या विज्ञान केंद्र हैदराबाद में एकजुटता प्रदर्शित की गई.

साम्राज्यवाद के संरक्षण में फासीवादी ताक़तें पूरे देश मे समाज,संस्कृति और इतिहास को विकृत और साम्प्रदायिक बनाने के लिए दमन का बुलडोजर चला रही हैं. ये संघी कॉरपोरेट फ़ासिस्ट, देशः की बहुलतावादी गंगा जमुनी तहज़ीब को एक ओर खत्म करने पर तुली है तो दूसरी ओर देश मे साम्राज्यवादी कॉरपोरेट लूट को सर्वोच्च स्तर पर लाकर आम जनता को बर्बाद कर रही है।ऐसे माहौल में कॉरपोरेट मनुवादी संस्कृति का जहर न फैले इसके लिए वक़्त की पुकार है कि तमाम प्रगतिशील और जनवादी सांस्कृतिक संगठन मिलकर फासीवादी संस्कृति का प्रतिरोध करें और वैकल्पिक जन संस्कृति का निर्माण करें। बिना यह कार्य किए साम्राज्यवाद की दलाल फासीवादी संस्कृति को पराजित नही किया जा सकेगा और जनता के मन मे क्रांतिकारी आशावाद पैदा नही किया जा सकेगा।
इसी उददेश्य से पहले 2 बैठकों के बाद यह तय किया गया था कि जनता के दुश्मन ताक़तों की संस्कृति को मुंहतोड़ जवाब देने और अपनी एकजुटता का इजहार करने के लिए 22 सितंबर को फ़ासीवाद विरोधी सांस्कृतिक प्रतिरोध दिवस मनाया जाय।


कार्यक्रम की शुरुआत निशांत नाट्य मंच के शम्सुल इस्लाम और अरूणोदय की अनुराधा ने किया।दिल्ली,महाराष्ट्र, तमिलनाडु, केरल,तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, छत्तीसगढ़ व बंगाल के सांस्कृतिक संगठनों ने क्रांतिकारी जनगीत,बैले,डांस ड्रामा,नुक्कड़ नाटक,लोकनृत्य आदि विधाओं के जरिए फ़ासीवाद के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की।जिसमे प्रजा नाट्य मंडली,वेणु के नेतृत्व वाली अरूणोदय, कृष्णा के नेतृत्व वाली अरुणोदय, क्रांतिकारी सांस्कृतिक मंच(असीम गिरी,प्रवीण लड़कर, तुहिन,रवि पालुर और साथी),पाला, सांस्कृतिक उद्योग,लालन तथा एआईएम कल्चरल विंग शामिल थे।कार्यक्रम में बड़ी संख्या में संस्कृतिकर्मियों की भागीदारी थी।संस्कृति कर्मियों ने कार्यक्रम में फ़ासीवादी संस्कृति के आक्रमण का सामना प्रगतिशील सांस्कृतिक संगठनो को मिलकर करने की मांग उठाई

Related posts

ईश्वर का बहिष्कार _राधामोहन गोकुलजी- दस्तक के लिए प्रस्तुति अमिताभ मिश्र

News Desk

भिलाई जनसंहार.

News Desk

तमोर पिंगला में अवैद्ध कटाई का मामला, ग्रामीणों ने किया चक्का जाम और कार्यालय का घेराव

News Desk