मानव अधिकार राजकीय हिंसा

हिरोली : गुड्डी आम ग्रामीण था जिसे पुलिस ने नक्सली कह कर हत्या की है . सोनी और लिंगा का आरोप .

26-5-2019 के दिन को ग्राम पंचायत हिरोली, जिला दंतेवाड़ा, थाना किरंदुल के एक खेती किसानी करने वाले ग्रामीण गुड्डी राम कुंजाम पिता हूँगा उम्र लगभग 35 वर्ष की मुठभेड़ की आड़ में पुलिस और सुरक्षा बल ने ग़ैरक़ानूनी हत्या कर दी। गौर तलब है कि इस घटना को किरंदुल और दंतेवाड़ा की पुलिस एक बड़ी जीत के रूप में दिखाने पर अड़े है और दंतेवाड़ा के पूर्व विधायक स्व- भीमा मंडावी के हत्या में गुड्डी राम को भी शामिल बताया। इसके इलावा गुड्डी राम को एक हार्डकोर नक्सली दिखाकर, 20 मुकदमे में नामजद उसपर सरकारी 1 लाख का इनाम भी घोषित दिखा रहे है।

हिरोली ग्राम के लोगो का कहना है की पुलिस सरासर झूठ बोल रही है। उनके अनुसार मृतक गुड्डी एक आम ग्रामीण था जो सरपंचपारा में अपने 2 पत्नी और 4 बच्चों के साथ रहता था। दूसरी पत्नी अभी 5 माह गर्भवती है।भीमा मंडावी के हत्या के दिन गांव में अंगदेव की पूजा का मेला लगा हुआ था जिसमें सभी गांववालो ने उसको देखा था ।

गांववालो के अनुसार वह अपने बच्चों को कपड़े खरीदवाने के लिए गांव के आगे सड़क का पंचायती काम जो गुरुवार से शुरू हुआ था, उसमे काम करना शुरू किया।

घटना दिनांक को मृतक गुड्डी वही पर काम कर रहा था जब चार साईकल में सवार चार फ़ोर्स वाले आये। उन्होंने साधारण वेश भूषा पहनी थी और चहरे पर गमछा बंधा था। उन्होंने मृतक गुड्डी को भगा भगा कर जंगल की ओर ले जाकर उसको गोली से मारकर उसकी हत्या कर दी। घटना के समय पर घटनास्थल पर 15 और लोग शामिल थे।

मृतक गुड्डी गांव में ग्राम पंचायत का अध्यक्ष था। वह गांव में लोगो के साथ रहकर उनकी समस्यओं का समाधान करने की कोशिस बड़े ही शांतिपूर्ण तरीके से करता था। उसके लिए न्याय मांगने के लिए आज पूरा ग्राम पंचायत किरंदुल थाना पहुंचा है और FIR दर्ज कराने हेतु एक अर्जी दी।

जब किरंदुल थाना ने आवेदन लेने से इनकार कर दिया तो गांव वालो ने पुलिस अध्यक्ष अभिषेक पल्लव को अर्जी दी।

  • सोनी सोरी
    लिंगाराम कोडोपी

27.05.2019

Related posts

बडी संख्या में पुलिस के साथ प्रशासनिक अधिकारी पहुचे धरना स्थल पर . * गारे 4/2,3 के प्रभावित ग्रामीणों के आमरण अनशन और चक्काजाम का आठवाँ दिन .बढ़ रहा है लगातार समर्थन .

News Desk

माओवादी ऐसे हार नहीं मानेंगे-विश्वरंजन

cgbasketwp

इरोम ने चार शब्दों में लिखा लोकतंत्र का शोकगीत, ‘थैंक्स फॉर 90 वोट्स’

cgbasketwp