मानव अधिकार राजकीय हिंसा

हिरेली की मुठभेड़ फर्जी ,गुड्डी को दौड़ा दौड़ा कर मारा पुलिस ने.पुलिस ने जारी की दर्ज मामलों की सूची .

लिंंगाराम कोडोपी का फेसबुक नोट

ग्राम हिरोली की यह घटना फर्जी हैं। गुड्डी नक्सली नहीं था और न ही नक्सल संगठन से जुड़ा हुआ था। पैसे व इनाम , प्रमोशन के लालच में पुलिस प्रशासन ने इस घटना को माओवादी मुठभेड़ बता रही हैं।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गुड्डी तलाब में मजदूरी कर रहा था, जिला दन्तेवाड़ा की D.R.G. पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर मारा है।

पुलिस ने यह जारी किया है जिसमे उसके बारे में दर्ज केस का विवरण हैं ््

Related posts

सोनी सोरी को मिला अंतराष्ट्रीय मानव अधिकार सम्मान व‍र्ष 2018 का ‘फ्रंट लाइन डिफेंडर्स अवार्ड फॉर ह्यूमन राइट्स डिफेंडर्स ऐट रिस्क’ (Front Line Defenders Award for Human Rights Defenders at Risk) का पुरस्कार .

News Desk

जब चाहे तब आप बलात्कार कर सकते हैं, नक्सल के नाम पर कई दिनों तक रख कर थाने में रात दिन अनाचार कर सकते हैं : छतीसगढ़ पुलिस पर आरोप

News Desk

सब करने के बाद अब सरकार सोनी सोरी को बर्खास्त करने की तैयारी में

News Desk