Uncategorized

हक पर डाका , 10 किलो के बजाय 7 किलो चावल ही दे रहे हैं राशन दुकान संचालक

तीन किलो की कटौती , चावल की कालाबाजारी

सरकार की योजना पर बट्टा , पत्रिका पड़ताल में खुलासा

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क रायपुर . सरकारी राशन दुकानों से सस्ते दर पर राशन लेने वाले परिवारों को अगस्त से एक सदस्य के हिसाब से एक रुपए में 10 किलोग्राम चावल देने का निर्देश जारी किया गया था । इसी तरह 2 सदस्य वाले परिवार को भी प्रति सदस्य 10 किलोग्राम के हिसाब से 20 किलोग्राम प्रतिमाह चावल दिया जाना है । इस योजना के व्यापक प्रचार – प्रसार नहीं होने के कारण जिले के राशन दुकान संचालकों द्वारा अभी भी 7 किलो ही चावल वितरित किया जा रहा है । बाकी के 3 किलो प्रति सदस्य के हिसाब से चावल की कालाबाजारी की जा ही है । पत्रिका को मिले वीडियो के मुताबिक दुकान आईडी क्रमांक 442002082 में पहले तो 7 किलो प्रति सदस्य के आधार पर वितरण किया जा रहा था । बकायदा दो सदस्यों को 14 किलो चावल का वितरण भी कर दिया गया था । जब पत्रिका को वीडियो मिलने की जानकारी दुकान संचालक को लगी तो उसने घबरा कर राशनकार्डधारी को दूसरे दिन वापस बुलाकर कार्ड में 6 किलो अतिरिक्त चावल दिया । अभनपुर के भटगाव एंड्रा , खट्टी , लमकेनी , परसुडीह , राशन दुकान में पुराने अनुपात में वितरण किया जा रहा है ।

पहले 7 किलो हो रहा था वितरण

अगस्त माह पहले तक सरकारी राशन दुकानों में हर कार्ड पर प्रत्येक सदस्य 7 किलोग्राम के हिसाब से हितग्राहियों को चावल दिया जा रहा था । परिवार के 5 सदस्यों की संख्या तक यह मात्रा इसी अनुपात में बढ़ती थी , लेकिन सदस्य संख्या 5 से ज्यादा होने पर केवल 35 किलोग्राम चावल दिया जाता था । अब प्रति सदस्य 10 किलो वितरण के आधार पर मुख्यालय से आवंटन जारी किया गया है ।

इन्हें किया जाना है वितरण

नए नियम के मुताबिक 1 सदस्य वाले परिवार को 10 किलो , दो सदस्यों को 20 किलो , 3 से 5 सदस्य वाले राशनकार्ड पर हितग्राहियों को एकमुश्त 35 किलो चावल दिया जाना है । वहीं 5 से अधिक सदस्य वाले राशनकार्ड पर 7 किलो प्रति सदस्य प्रति माह के हिसाब से खाद्यान्न दिया जाएगा । चावल की कीमत 1 रुपए प्रति किलो की दर तय की गई है ।

परिवारों का होचका है चिन्हांकन

नए निर्देश के मुताबिक परिवारों के सदस्य के हिसाब से राशन कार्डों का चिन्हांकन शुरू कर दिया गया है । कलक्टर ने जिले के सभी उचित मूल्य दुकान संचालकों को संशोधित पात्रता अनुसार खाद्यान्न वितरण करने के निर्देश दिए हैं । संशोधन के हिसाब से खाद्यान्न वितरण के संबंध में निर्देश आया है । इस आधार पर परिवारों को चिन्हित किया जा रहा है । अगस्त सभी परिवारों को नए निर्देश के मुताबिक राशन दिया जाना है । दुकानों को इसी के हिसाब से खाद्यान्न आवंटित किया गया ।

अनुराग सिंह भदौरिया , जिला खाद्य नियंत्रक , रायपुर

Related posts

एक सैनिक का पत्र भारतीय सैना के सैनाध्यक्ष विपिन रावत के नाम ….

cgbasketwp

बस्तर क्षेत्र में सुरक्षा बलों द्वारा आदिवासी महिलाओं के उत्पीड़न की घटना ने सरकार के आदिवासी उत्थान के तमाम दावो की पोल खोल दी है .

cgbasketwp

बांध से बाधित आम जिंदगी -भीष्म कुमार चौहान

cgbasketwp