भृष्टाचार शिक्षा-स्वास्थय

स्कूल की छत से गिरा प्लास्टर : हादसे के दूसरे दिन भी नहीं पहुंचे अफसर , जर्जर भवन में ही लगीं कक्षाएं , जिम्मेदारों को बड़े हादसे का इंतज़ार.

दहशत : स्कूल की छत का प्लास्टर बच्चों पर गिरने के बाद से अभिभावक व बच्चे डरे हुए है .परसों इस सरकारी स्कूल के छज्जे का प्लास्टर टूट कर छात्राओं पर गिर पड़ा था ,जिससे दो छात्रा गंभीर और 7 अन्य बच्चे घायल हो गये थे

भास्कर ,बिलासपुर .

शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला करैहापारा ( केरापार ) में मंगलवार को हुए हादसे के बाद दूसरे दिन भी जर्जर बिल्डिंग में ही कक्षाएं लग रही हैं । बच्चों के साथ इतना बड़ा हादसा हुआ , लेकिन जिले से शिक्षा विभाग का कोई अफसर इसकी जानकारी लेने स्कूल तक नहीं आया है । बड़ी बात यह है कि स्कूल के जिस कमरे में मंगलवार को हादसा हुआ , उस कमरे की छत का प्लास्टर एक साल पहले भी गिर चुका है । हालांकि जब प्लास्टर गिरा था तब बच्चे कमरे से बाहर लंच कर रहे थे । तब भी भवन को ठीक कराने को लेकर कोई पहल जिम्मेदारों नहीं की । अगर स्कूल को ठीक नहीं कराया गया तो बड़ा हादसा हो सकता है । वहीं उस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि अगर भवन ठीक नहीं कराया तो हम अपने बच्चों को स्कूल भेजना बंद कर देंगे

स्कूल के सभी कमरों की दीवारें जर्जर , फिर हो सकता है । कोई बड़ा हादसाः

करेहापारा के मिडिल स्कूल की बिल्डिंग के सभी कमरे जर्जर हालत में हैं , जिसका प्लास्टर कभी भी फिर से गिर सकता है । स्कूल की छत पर लगा सरिया पूरी तरह गल चुका है , जिसे छोड़कर छत का प्लास्टर कभी भी किसी भी समय बच्चों के ऊपर गिर सकता है । जिसके चलते फिर से बड़ा हादसा होने की आशंका है । लेकिन मंगलवार को हुए हादसे के बाद भी जिम्मेदार अधिकारियों की निद्रा नहीं टूटी जिसके कारण बच्चे अपनी जान को जोखिम में डाल कर स्कूल के अन्य जर्जर कमरों में ही दूसरे दिन भी पढ़ाई करना पड़ रहा है ।

छत के ऊपर तराई के लिए बनी क्यारी 14 साल बाद नहीं हटाई

करेहापारा के केरापार में संचालित मिडिल एवं हाईस्कूल के बिल्डिंग का लोकार्पण क्षेत्र के विधायक पं . राजेन्द्र प्रसाद शुक्ल ने 24 नवम्बर 2005 को किया था , ऐसे में उक्त बिल्डिंग को बने करीब 14 साल हो गए , लेकिन छत के ऊपर पानी तराई ( क्युरिंग ) करने सीमेंट से बनाया गया क्यारी आज भी जस का तस है । जिसके कारण छत में बारिश का पानी भरता रह्म और बिल्डिंग खराब होती रही । जानकारों के मुताबिक अगर भवन निर्माण के 15 या 20 दिनों के बाद छत के ऊपर बनाए गए उक्त क्यारी को तोड़ दिया जाता तो बिल्डिंग का लेंटर इतना जल्दी जर्जर नहीं होता जो कि लापरवाही को दर्शाता है ।

जिम्मेदारी तय कर दोषियों पर कार्रवाई होः हरीश

मंगलवार को कक्षा में पढ़ र 15 वर्षीय छात्रा कु . नेहा धीवर पर प्लास्टर गिरने से सिर में गंभीर चोटें आई हैं , उसके सिर में 18 टांके लगे । वह बिलासपुर सिम्य में जिंदगी और मौत से जूझ रही । ऐसे में अब लोग पूछ रहे । इसका जिम्मेदार कौन ? दूसरी बालिका भारती साहू जो कि ह्मदसे बाद से बदहवास एवं सदमे जिसे लेकर आम आदमी पार्टी नेता हरीश चंदेल ने घटना के लिए जवाबदेही एवं जिम्मेदारी तय करने के साथ साथ दोषियों खिलाफ एफआईआर करने मांग की है ।

जनप्रतिनिधि और अफसर मिलने तक नहीं पहुंचे

घटना के बाद दूसरे दिन भास्कर की टीम पीडितों के घर पहुंचकर उनके परिजनों से मिली । जिसके तहत गंभीर रूप से घायल नेहा के पिता सुनील धीवर एवं उनकी माता सरोजनी धीवर और उनके बड़े । पिताजी कन्हैया धीवर एवं उनकी बड़ी मां चमेली बाई ने भास्कर की टीम को बताया कि इतना बड़ा हादसा हो के बावजूद कोई जनप्रतिनिधि उनका हालचाल जानने नहीं पहुंचा । उन्ोंने बताया दूसरे दिन आम आदमी पार्टी नेता हरीश चन्देल एवं रामाश्रय कश्यप व देवा कश्यप ने निवास स्थान पहुंचकर पीड़ित परिवार हाल जाना ।

स्कूल में बच्चों की संख्या बाकी दिनों से बहुत कम रही ।

करेहापारा के केरापार में संचालित मिडिल एवं ह्यईस्कूल में अध्ययनरत अधिकांश बच्चे मंगलवार को ए हादसे के बाद बुधवार को डर के मारे स्कूल नहीं पहुंचे अभिभावकों
स्कूल में प्लास्टर गिरने से बच्चों के घायल होने के बाद दूसरे दिन अपने बच्चों को स्कूल भेजने परहेज किया इससे स्कूल में बच्चों की संख्या वाकी दिनों की अपेक्षा कम रही ।
स्कूल में प्लास्टर गिरने से बच्चों के घायल होने के बाद दूसरे दिन अपने बच्चों को स्कूल भेजने परहेज किया । इससे स्कूल में बच्चों की संख्या वाकी दिनों की अपेक्षा कम रही

हरीश चंदेल ,आप नेता ने कहा कि रतनपुर नगर पालिका क्षेत्र के करैया पारा सरकारी हाई स्कूल में दोपहर अचानक छत गिरने से दो छात्राओं के सिर में गंभीर चोटें आई हैं जो कि बिलासपुर के सिम्स हॉस्पिटल में अभी तक भर्ती हैं एक छात्र जिसका नाम नेहा धीवर है उनके सिर में* *दर्जनभर टाका लगी है और दूसरे छात्र भारती साहू उनके सिर में चोट लगी है और वह पानी की उल्टी भी कर रही है इस गंभीर स्थिति में अभी तक प्रशासन ने वहां जानकारी लेने के लिए नहीं पहुंचा।

कल दोपहर 2:00 बजे स्कूल के प्राचार्य और प्रशासन अधिकारी से बात करेंगे कि पीड़ित छात्राओं को उचित मुआवजा मिले अगर प्रशासन से संतुष्ट जनक जवाब नहीं मिला तो प्रशासन अधिकारी के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराएंगे.

**

Related posts

छत्तीसगढ़ : एक दिन में 7 नए कोरोना पॉज़िटिव, कटघोरा में पूर्ण कर्फ्यू, सबकी होगी जाँच

News Desk

किस्मत में जो लिखा है वही होगा, केकड़ों की वजह से टूटा तिवेर बांध. : जल संरक्षण मंत्री बोले.

News Desk

कोई नारी टोनही नहीं: जादू टोने का अस्तित्व नहीं. डाॅ. दिनेश मिश्र,

News Desk