महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार

सोनी सोढ़ी : किसकी शिकायत पर ग्रामीणों को माओवादी बताकर उठाया जाता है.

एसपी : छह ग्रामीणों को अगवा करने की नहीं मिली है शिकायत , पुष्टि भी नहीं कर सकते.

जगदलपुर . दंतेवाड़ा में गुमियापाल के करीब से माओवादियों ने छह ग्रामीणों को अगवा कर लिया है । हालांकि मंगलवार को दो लोगों को छोड़ने की बाता सामने आई । लेकिन इस सबंध में दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव का कहना है कि सूचना उनको भी मिली है । लेकिन अब तक शिकायत नहीं हुई है , इसलिए पुष्टि नहीं की जा सकती । वहीं दूसरी तरफ सोनी सोढ़ी ने आरोप लगाया है कि बेकसूर आदिवासियों या ग्रामीणों का मामला है इसलिए पुलिस इस पर संजीदा नहीं दिख रही है । उन्होंने उदाहारण दिया कि जब एलेक्स पॉल मेनन को अगवा किया गया था तो किसने शिकायत की थी या फिर गांव के

लोगों को जब माओवादी बताकर पुलिस उठाती है तब किसने शिकायत की होती है । दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव का कहना है कि सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों से उन्हें सूचना मिली है कि माओवादियों ने ग्रामीणों को अगवा कर लिया है । लेकिन अभी तक उनके पास कोई शिकायत नहीं आई है । जबकि 24 घंटे हो गए है । हालांकि इंटेलिस व मुखबिरों को सक्रिय कर दिया गया है । लगातार

जानकारी ली जा रही है । पुख्ता जानकारी होने के बाद आगे का फैसला लिया जाएगा । गांव के लोग हाल ही में फर्जी ग्राम सभा मामले में खुलकर बात करते हैं , उन्होंने खुद यहां बयान दर्ज करने वाले लोगों को सुरक्षा देने की बात कही थी । ऐसे में यदिइस तरह की घटना होती तो गांव के लोग जरूर शिकायत करते । गौरतलब है कि माओवादियों ने दो ग्रामीणों को छोड़ने की बात मंगलवार की रात आ रही थी ।

जानकारी थी । इसे लेकर उन्होंने पहल भी की थी । लेकिन वे मौके तक नहीं पहुंच पाई । लेकिन पुलिस का रवैया बेहद शर्मनाक है । पुलिस कह रही है कि उनके पास शिकायत नहीं आई है । उन्होंने सवाल उठाया कि माओवादियों से डरे हए ग्रामीण आखिर कैसे पुलिस तक पहुंचेंगे । पुलिस को चाहिए की वह ग्रामीणों तक पहंचे और सच्चाई पता लगाए । गरीब आदिवासियों का मामला है इसलिए पुलिस तेजी नहीं दिखा रही HN आखिर किसी जवान को माओवादी अगवा कर लेते तो पुलिस महकमा किसकी शिकायत पर उन्हें ढूंढने लगते हैं । उन्होंने कहा कि यदि पुलिस कार्रवाई नहीं करती है ।


पत्रिका न्यूज नेटवर्क patrika

Related posts

सीबीआई जज की मौत को लेकर उठे सवाल, रवीश कुमार के साथ प्राइम टाइम* _पत्रकार इस रिपोर्ट को छोड़कर बाकी सारी रिपोर्ट धुंआधार तरीके से ट्वीट कर रहे हैं ताकि बर्फ की इस सिल्ली पर जितनी जल्दी हो सके, धूल जम जाए._

News Desk

पुलिस प्रशासन या नक्सल संगठन.आदिवासीयों के लिये मददगार या विरोधी ..

News Desk

समाज में ऐसी नफ़रतों को रोकने के लिए ऐसे जातिवादियों को कड़ी से कड़ी सज़ा दे ताकि कोई और रोहित वेमुला, डॉ पायल तड़वी सांस्थानिक हत्या का शिकार न हो : हेमलता महिश्वर

News Desk