आंदोलन जल जंगल ज़मीन पर्यावरण राजनीति

सेव नेचर मार्च, युवाओं ने लगाए हसदेव अरण्य बचाओ के नारे

शुक्रवार को पर्यावरण संरक्षण के तहत को फ्राइडेस फ़ॉर फ्यूचर छत्तीसगढ़ के तत्वावधान में विभिन्न संगठनों ने क्लाइमेट स्ट्राइक में हिस्सा लेते हुए तेलीबांधा तालाब से अम्बेडकर चौक तक सेव नेचर मार्च निकाला.

ग्रेटा थनबर्ग के नेतृत्व में आज दुनियाभर के 165 देशों के 3365 शहरों में क्लाइमेट स्ट्राइक एक साथ की गई. यह अपने आप में एक विश्व रिकॉर्ड है जब पूरी दुनिया में एक साथ पर्यावरण बचाने करोड़ो लोग सड़कों पर उतरे हों.

फ्राइडेस फ़ॉर फ्यूचर छत्तीसगढ़ के अन्यतम शुक्ला ने जानकारी दी कि आज की क्लाइमेट स्ट्राइक में हसदेव अरण्य को बचाने के लिये विशेष रूप से शहर के युवाओं ने सरगुजा में संघर्षरत ग्रामीणों के आंदोलन का समर्थन किया गया.

आज की स्ट्राइक में लीड फॉउंडेशन, सेव हसदेव कमेटी, गेड आउट, इको कांसस क्लब एनआईटी रायपुर, कुशाभाऊ ठाकरे यूनिवर्सिटी, महानदी बचाओ, नेचर क्लब, आदि संगठनों ने हिस्सा लिया.

मार्च के अम्बेडकर चौक में युवाओं ने अपने हाथों तख्तियां लेकर प्रदर्शन किया जिसमें अनेक नारे लिखे हुए थे, जैसे खुद को बदलो, प्रकृति नहीं; एक्ट नाउ सेव हसदेव, चेंज दी पॉलिटिक्स नॉट द क्लाइमेट, धरती हमारी मां है आदि.

Related posts

मजदूर दिवस पर शरद कोकास की तीन कविताएँ : हमारे हाथ अभी बाकी हैं

News Desk

लागत तो दूर, महंगाई की भी भरपाई नहीं करता समर्थन मूल्य : किसान सभा छत्तीसगढ़ .

News Desk

जन सुनवाई में जनता से खतरा क्यों? : उत्तराखंड शासन प्रशासन ने दिखा दिया कि बांध कंपनियां लोगों के अधिकारों और पर्यावरण से ज्यादा महत्वपूर्ण हैं.

News Desk