भृष्टाचार राजनीति

सुपर सीएम अमन सिंह का नाम उछला भाजपा मीटिंग में. , अमन सिंह जैसे भ्रष्ट अफसरों का साथ लेकर चल रहे थे रमन सिंह : राजकुमार सोनी

20.01.2019 

राजकुमार सोनी : अपना मोर्चा के लिये .

रायपुर. खुद को देश का सबसे पॉवरफुल नौकरशाह साबित कर छत्तीसगढ़ को लूटने के खेल में लगे आजमगढ़ के मूल निवासी अमन सिंह का नाम अब भाजपा की समीक्षा बैठकों में उछलने लगा है. शनिवार को कांकेर के कमल सदन में भाजपा की शर्मनाक हार के कारणों की पड़ताल को लेकर कांकेर, भानुप्रतापपुर और अंतागढ़ के पदाधिकारियों की बैठक आयोजित थी.

इस बैठक में वरिष्ठ नेता बालमुकुंद शर्मा ने खुले तौर पर कहा कि लोगों को मुख्यमंत्री से केवल इस बात की ही नाराजगी थी कि वे अमन सिंह जैसे भ्रष्ट अफसरों का साथ लेकर चल रहे थे. जनता के बीच यह संदेश चला गया था कि प्रदेश में रमन सिंह की नहीं ब्लकि अमन सिंह की सरकार चल रही है. बालमुकुंद का कहना था कि वैसे तो प्रदेश में 27 राजस्व और संगठन के कुल 29 जिले हैं, लेकिन सभी जिला संगठनों को पंगु बना दिया गया था. जो काम पार्टी के जिलाध्यक्ष को करना चाहिए था वह काम जिले के कलक्टर और एसपी करते थे. जब कभी भी भाजपा का कोई कार्यक्रम होता था तो कलक्टर और एसपी ही तय करते थे कि मंच पर कौन नेता बैठेगा और कौन नहीं.

ओपी गुप्ता से कहा- चल जाएगा जूता

बालमुकुंद ने बैठक में बताया कि जब आचार संहिता नहीं लगी थीं तब जिले के कलक्टर और एसपी लोगों को डंडे से हांककर सभा स्थल तक ले जाते थे. आचार संहिता लगने के बाद भानुप्रतापपुर के ग्राम हल्बा में मुख्यमंत्री डाक्टर रमन सिंह आए थे तब उतनी भीड़ नहीं थीं. वहां तीन सौ लोगों की उपस्थिति देखकर रमन सिंह के निज सहायक ओपी गुप्ता कार्यकर्ताओं पर भड़क गए. उन्होंने साफ तौर पर कहा कि भीड़ जुटाने के लिए हलधर साहू को पांच लाख रुपए दिए गए थे. उनकी बात सुनकर हल्बा ग्राम के स्थानीय नेता तैश खा गए. विवाद के दौरान एक कार्यकर्ता ने ओपी गुप्ता से यहां तक कह दिया था- अगर वे जल्द ही इलाके को छोड़कर नहीं गए तो जूता चल जाएगा.

नौकरशाही जिम्मेदार

बैठक में कांकेर भाजपा के महामंत्री आलोक ठाकुर ने कहा कि रमन सिंह की सरकार प्रारंभ में अच्छा काम कर रही थी, लेकिन बाद में नौकरशाहों के भरोसे चलने लगी. छोटे से छोटा अफसर कार्यकर्ताओं के साथ दादागिरी करता था. भाजपा नेता राजेंद्र राठौर का कहना था कि कार्यकर्ताओं के बीच यह भावना घर कर गई थीं कि अगर चौथी बार सरकार आएगी तो अफसर कार्यकर्ताओं को घर से खींच-खींचकर मारेंगे. भाजपा के पूर्व महामंत्री राजकिशोर ने बैठक में बताया कि उनकी बहु सरकारी नौकरी करती है. एक रोज उसका तबादला कांकेर से मानपुर-मोहला कर दिया गया. उन्होंने बताया कि वे अपनी बहु का तबादला रुकवाने के लिए विधायक-सांसद सबके पास हाथ जोड़ते रहे, लेकिन किसी ने कोई काम नहीं किया. बाद में राजनांदगांव के  एक कांग्रेस नेता को 40 हजार रुपए दिए तो काम हो गया. बैठक में कांकेर जिले के प्रभारी सुनील सोनी खास तौर पर मौजूद थे. उन्होंने लोकसभा की जीत के लिए कमर कसने की बात कहीं तो पदाधिकारियों ने कहा कि गुंडरदेही, बालोद, डौंडीलोहारा, केशकाल, सिहावा-नगरी, कांकेर, भानुप्रतापपुर और अंतागढ़ सहित कुल आठ विधानसभा में भाजपा  दो लाख 38 हजार वोटों से हारी है. कार्यकर्ता कितनी भी ताकत लगा लेंगे तब भी जीत मुश्किल होगी.

सुपर सीएम की शिकायत

भाजपा के वरिष्ठ नेता रमेश बैस काफी पहले अमन सिंह को सुपर सीएम की उपाधि दे चुके हैं. पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को की गई एक शिकायत में अमन सिंह को आड़े हाथों लिया था. अभी हाल के दिनों में उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भारतीय पुलिस सेवा के विवादित अफसर मुकेश गुप्ता के खिलाफ जो शिकायत सौंपी है उसमें भी अमन सिंह के कारनामों का जिक्र किया है. नियंत्रक महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट सामने आने के बाद नई सरकार भी सुपर कम्प्यूटर घोटाले को सुपर सीएम का कारनामा मान रही है. देश और प्रदेश के कई सामाजिक कार्यकर्ता उनकी घोषित-अघोषित संपत्ति की जानकारी एकत्रित करने में जुटे हुए हैं. बहराल सुपर सीएम इसलिए भी निशाने पर हैं क्योंकि भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के अलावा उन्होंने अफसरों- पत्रकारों के एक बड़े वर्ग से नाराजगी मोल ले रखी हैं. छत्तीसगढ़ के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी अफसर को पार्टी की करारी हार और राज्य को बरबाद करने के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार माना जा रहा है.

**

Related posts

गांधीवादी तरीके से करेंगे सत्याग्रह : मिनिमाता बस्ती बचाओ संघर्ष समिति तालापारा

भिलाई नगर निगम में अप्रैल 2017 से मई 2019 तक निगम प्रशासन स्वास्थ्य विभाग दावरा चलाए गये सफाई कार्य में कामगारों के पी एफ, इ एस आई. में बड़ी भष्टाचार

News Desk

गंगानगर से कलेक्ट्रेड तक पदयात्रा ! मांग नहीं मानी तो रायपुर तक पदयात्रा कर घेरेंगे मुख्यमंत्री निवास .:  पीड़ित विस्थापित किसान महासम्मेलन का एलान

News Desk