महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार विज्ञान

सामाजिक बहिष्कार की प्रताड़ित बिसाहिन बाई की आत्मदाह के बाद आज अस्पताल में मौत .: अपराधियो के खिलाफ आज़तक कोई कार्यवाही नहीं.

19.11.2017 रायपुर

आज सबेरे इस महिला की मेकाहारा में मृत्यु हो गयी है ,9 नवंबर से आज तक सिर्फ जांच जारीहै, कोई भीआरोपी गिरफ्तार नही हुआ अत्यंत दुखद ,अंतिम संस्कार गांव में हो गया है । सामाजिक कुरीतियों और प्रताड़ना के कारण एक और बिसाहिन बाई का  बलिदान.

**
ग्राम खैरखुट थाना धरसींवा से एक सामाजिक कुरीतियों के कारण बहिष्कार से  प्रताड़ित परिवार की महिला बिसाहिन बाई साहू नेआत्मदाह कर लिया है और वह 89 प्रतिशत जलने के कारण गंभीर अवस्था में अस्पताल में भर्ती है ।प्रताड़ित परिवारके सदस्यों ने समिति को इस मामले की जानकारी दी, डॉ मिश्र ने उक्त महिला और उसके परिजनों से मुलाकात की ।समिति ने इस मामले में शीघ्र कार्यवाही की मांग की है ।डॉ दिनेश मिश्र ने बताया कि उन्हें उक्त महिला के परिजनों ने जानकारी दी है बिसाहिन बाई साहू नामक महिला व उसके परिवारको उसके पुत्र दशरथ साहू द्वारा अपनीजाति से बाहरकी लड़की से विवाह करने के कारण समाज से बहिष्कृत कर दिया गया ,तथा उसको समाजमें वापस लेने के लिए 50,000 रुपये मांगे गए ,फिर जब उक्त परिवार ने उतने रुपये देने में असमर्थता जताई तब फिर पुनः 2 नवंबर तथा 4 नवंबर को समाज की बैठक रात 11.00 बजे बुलाई गयी जिसमे उन्हें सार्वजनिक रूप से अपमानित ,किया गया सामाजिक बहिष्कार के साथ ,जादू टोना करने का आरोप लगाया गया ,।

उसके बाद भी उपरोक्त परिवार ने थाने सहित विभिन्न स्थानों में जाकर शिकायत भी की, और कोई कार्यवाही न होने पर 9 नवंबर को हताश हो कर आत्महत्या करने के लिये मिट्टी का तेल छिड़क कर आग लगा ली। तब वह मेकाहारा के 17 नम्वर वार्ड में बेड नम्बर 10 मे भर्ती थी ,वह 89 प्रतिशत जल चुकी है और अत्यंत गंभीर है ,उसने अपने बयान में भी समाज के पदाधिकारियों के नाम बताए है

इतने दिनों बाद भीआज तक इस मामले में कोई कार्यवाही नही हुई है ,बल्कि गांव में अभी भी सामाजिक बैठकें कर प्रताड़ित परिवार पर ही दबाव डाला जा रहा है ।।

डॉ दिनेश मिश्र ने शासन से मांग की थी  इस मामले में निष्पक्ष जांच कर त्वरित कार्यवाही कर ,आरोपियों को दंडित किया जाए ।

आज सबेरे इस महिला की मेकाहारा में मृत्यु हो गयी है ,9 नवंबर से आज तक सिर्फ जांच जारीहै, कोई भीआरोपी गिरफ्तार नही हुआ अत्यंत दुखद ,अंतिम संस्कार गांव में हो गया है । सामाजिक कुरीतियों और प्रताड़ना के कारण एक और बिसाहिन बाई का  बलिदान.

**

 

**

डॉ दिनेश मिश्र अध्यक्ष अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति

Related posts

Covid-19 : बिलासपुर रेलवे स्टेशन में मजदूरों की भूपेश बघेल को खरीखोटी, देखिए Cgbasket की वीडियो रिपोर्ट

News Desk

किसी व्यक्ति को सरकार द्वारा केवल इस संदेह के आधार पर प्रताड़ित नहीं किया जा सकता कि उसने माओवादी विचारधारा अपना ली है.: केरल हाईकोर्ट.

News Desk

Release of report by PUDR A Pre-Decided Case: A Critique of the Maruti judgment of 2017 March 2018

News Desk