आदिवासी महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार राजनीति

सलवा जुडुम के समय अपने घरों और गांवों से भगाये गये परिवारों को वापस लायेगी सरकार .तेलंगाना से वापस आयेंगे परिवार .उनकी जमीन सुरक्षित हैं.

2.03.2019/ रायपुर

छत्त्तीसगढ सरकार ने घोषणा की है कि सलवा जुडुम के समय बस्तर से हजारो परिवार अपना गांव और जमीन छोडकर तेलंगाना जाने को मजबूर हो गये थे ,उन्हें वापस लाकर उनकी जमीन पर बसाया जायेगा.
उद्योग मंत्री और वरिष्ठ आदिवासी नेता कवासी लखमा ने कहा कि वे एसे परिवारों के संपर्क में है और खुद उनसे मिले भी है .उन्होंने कहा कि उन परिवारों की जमीन सुरक्षित है , वो जमीन और घर उन परिवारों को जरूर मिलेगी .जब वे विपक्ष में थे तब ऐसी मांग करते रहे हैं .कवास लखमा ने कहा कि वे मुख्यमंत्री से मांग करेंगे कि मंत्रियों की समिति तेलंगाना जाकर वहाँ के मुख्यमंत्री से मिलकर बस्तर के आदिवासियों को मूल सुविधा उपलब्ध करायें जो अभी उन्हें नहीं मिलती हैं.

जैसा कि सब जानते है कि सलवा जुडूम के समय पुलिस और सुरक्षा बलों ने रणनीति के तहत करीब 600 गांव खाली करा दिये थे.गांव के गांव जला दिये गये ,हत्यायें .बलात्कार और लुटपाट के कारण हजारों लोग या तो केम्पों में डाल दिये गये या आंन्ध्रप्रदेश पलायन कर गये.एसपीओ और सुरक्षा बलों ने राज्य तथा केन्द्र सरकार की योजना के तहत अत्याचार की इंतहा की जिसके खिलाफ पूरे देश में भयंकर विरोध हुआ और सुप्रीम कोर्ट ने भी इसमें दखल दिया.

कवासी लखमा ने यह भी कहा कि जंगल की जमीन पर उध्योग नही लगने दिये जायेंगे .आदिवासीयों के लिये उध्योग बडा नहीं है उसके लिये जल जंगल जमीन अपने जीवन में महत्व रखता है .यह उनके लिये मां बाप से बढकर है.

**

Related posts

कोरबा विधान सभा क्षेत्र में माकपा ने कांग्रेस पार्टी का समर्थन का निर्णय लिया ःः माकपा जिला सचिव  कोरबा .

News Desk

जहर बुझी फुहारें! Megha Prakash

cgbasketwp

BHU में छत्राओं पे हुए लाठीचार्ज और 1100 छात्रों पे FIR के खिलाफ विरोध प्रदर्शन….बिलासपुर में कल .

News Desk