अदालत आंदोलन औद्योगिकीकरण किसान आंदोलन जल जंगल ज़मीन पर्यावरण प्राकृतिक संसाधन मानव अधिकार राजनीति

सर्वोच्च न्यायालय को लिखा पत्र : रामबांधा तालाब ग्राम चाम्पा से अतिक्रमण हटाने, सौंदर्यीकरण के नाम पर पानी निकालने पर रोक लगाने एवं न्यायालय, बस स्टैंड हेतु आबंटन रद्द करने हेतु : स्वतः संज्ञान लेने का आग्रह .

 

जांजगीर चांपा के  जयपाल सोनी ने भारत के सर्वोच्च न्यायालय को पत्र लिखा है और निवेदन किया है ,जिसकी प्रति सभी अधिकारीयों और  संस्थाओं को भेजा है ,पत्र मूलरूप से निम्न है ,.

18.05.2018

 

माननीय मुख्य न्यायाधीश,

उच्चतम न्यायालय दिल्ली

विषय :. सुप्रीम कोर्ट के  जगपाल सिंह विरुद्ध स्टेट ऑफ पंजाब में पारित आदेश के अनुपालन में  रामबांधा तालाब ग्राम चाम्पा से अतिक्रमण हटाने, सौंदर्यीकरण के नाम पर पानी निकालने पर रोक लगाने एवं न्यायालय, बस स्टैंड हेतु आबंटन रद्द करने हेतु निवेदन.

महोदय,

आपसे निवेदन है कि जगपाल सिंह एवं अन्य बनाम पंजाब सरकार (सिविल अपील संख्या 1132/2011), एचएल तिवारी बनाम कमला देवी (एआइआर 2001 एससी 3215) आदि विभित्र मुकदमों में सुनवाई के दौरान भारत के उच्चतम न्यायालय ने यह व्यवस्था दी है कि तालाब को भरकर उस पर भवन या उससे संबंधित किसी प्रकार का निर्माण कार्य नहीं किया जा सकता है। ग्रामसभा एवं पंचायत की जमीन को निजी या व्यावसायिक उद्यम के लिए नहीं दिया जा सकता है।

यदि राज्य सरकारें और अन्य प्राधिकार ऐसा करते हैं तो वह पूर्णत: गैरकानूनी है। कोर्ट का मानना है कि तालाब संविधान के अनुच्छेद 21 में प्रदत्त आजीविका के अधिकार को संपोषित करता है। जगपाल सिंह एवं अन्य बनाम पंजाब सरकार मामले की सुनवाई के बाद 28 जनवरी 2011 को उच्चतम न्यायालय ने सभी राज्यों के मुख्य सचिव को निर्देश जारी किया है। इसके तहत राज्यों को तालाबों का अतिक्रमण रोकने के लिए त्वरित एवं कड़ी कार्रवाई करना है। इसके साथ ही समय-समय पर सुप्रीम कोर्ट को यह बताना है कि तालाबों का अतिक्रमण रोकने के लिए उन्होंने क्या-क्या कदम उठाये हैं। 

लेकिन छत्तीसगढ़ राज्य ने आजतक उक्त आदेश का अनुपालन सुनिश्चित नही किया है  बल्कि राज्य में स्थित निस्तारी तालाबो जैसे जांजगीर चाम्पा जिला के चाम्पा ग्राम के रामबंधा तालाब के भूमि को बस स्टैंड, गार्डन, न्यायालय एवं नगरपालिका इत्यादि बनाने हेतु आबंटित कर दिया है एवं माननीय उच्चतम न्यायालय के आदेश की अवहेलना की है । वर्तमान में तालाब के किनारों में निजी एवं सरकारी कार्यालयों ने अवैध कब्जा कर लिया है तथा सौंदर्यीकरण के नाम पर नगरपालिका परिषद तालाब के पानी को निकालकर उसमें रहने वाले जीव जंतुओं को खत्म कर रहे है । तालाब के पानी को निकालने काम तालाब को फोड़कर प्रारंभ किया जा चुका है । 

मेरे शिकायत की प्राप्ति पर तत्कालीन कलेक्टर महोदय ने जगपाल सिंह एवं अन्य बनाम पंजाब सरकार (सिविल अपील संख्या 1132/2011), एचएल तिवारी बनाम कमला देवी (एआइआर 2001 एससी 3215) आदि विभित्र मुकदमों में माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्देशो के प्रकाश में रामबांधा तालाब के भूमि को सिविल न्यायालय भवन निर्माण, बस स्टैंड निर्माण एवं अन्य निर्माण हेतु आबंटन की वैध्यता की जांच नहीं की है और मेरे शिकायत में उठाये गए मुद्दों का गुणदोष के आधार पर निराकरण किये बिना शिकायत को नस्तीबद्ध कर दिया है एवं सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगे जाने पर आधी अधूरी जानकारी दी गयी है |

अतः माननीय उच्चतम न्यायालय, माननीय उच्च न्यायालय एवं राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण से पर्यावरण हित मे निवेदन है कि इस शिकायत से स्वतः संज्ञान लेकर उक्त रामबंधा तालाब के रकबे को अन्य निर्माण कार्य हेतु आबंटन को रद्द करते हुए जगपाल सिंह एवं अन्य बनाम पंजाब सरकार (सिविल अपील संख्या 1132/2011), एचएल तिवारी बनाम कमला देवी (एआइआर 2001 एससी 3215) आदि विभित्र मुकदमों में माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्देशो के प्रकाश में  निस्तारी रामबांधा तालाब में किये गए निर्माण कार्य को तोड़कर रकबे को पुनर्स्थापित करने का आदेश दे, साथ ही साथ पर्यावरण हित में तालाब का गहरीकरण करने का निर्देश जारी कर पर्यावरण संरक्षण सुनिश्चित करने की कृपा करे |

संलग्न : निस्तार पत्रक की प्रति, समाचार पत्र की प्रति,

The Case for Commons Issue 3 August 2014 in which compliance status of judgment is discussed, Details of Work Started in Rambandha Talab and Details of DMF Approval by Collector.

प्रतिलिपि :

जनहित में स्वतः संज्ञान लेकर तत्काल निषेधात्मक कार्यवाही सुनिश्चित करने हेतु सूचनार्थ

1 मुख्य नगरपालिका अधिकारी महोदय चाम्पा
2 तहसीलदार महोदय चाम्पा
3 अनुविभागीय अधिकारी महोदय चाम्पा
4 जिलाधीश जिला जाजंगीर चाम्पा
5 संभागायुक्त महोदय बिलासपुर
6 सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग 
7 मुख्य सचिव छत्तीसगढ़ शासन 
8 माननीय मुख्य न्यायाधीश, उच्च न्यायालय, छत्तीसगढ़
9 माननीय राष्ट्रीय हरित अधिकरण मुख्य बेंच दिल्ली
10 माननीय राष्ट्रीय हरित अधिकरण सेंट्रल जोन भोपाल

**
शिकायतकर्ता

जयगोपाल सोनी
मातेश्वरी मंदिर रोड,
सोनार पारा,चाम्पा
जिला जांजगीर चाम्पा
छत्तीसगढ़

 

Related posts

भिलाई : शहीद दिवस पर रैली शुरू .शहीद स्थल पर मजदूरों ने दी अपने शहीद साथियों को श्रधांजली.

News Desk

” ये कैसा पीएम है जो अपने ही देश की जनता के डर के मारे थर थर कांपता है .” योगी सरकार ने किस तरह का शिष्ट आचरण किया, पढ़िये पूजा जी की जुबानी .

News Desk

पेप्सो का साथ किसानों का विनाश : संजय पराते

News Desk