औद्योगिकीकरण प्राकृतिक संसाधन

सरगुजा : अवैध खदानों से बेखौफ कोल तस्करी ,लालच में जान की बाजी लगा रहे ग्रामीण : जमकर फल – फूल रहा अवैध कारोबार , हादसे में ग्रामीणों की जा रही जान .

पत्रिका न्यूज

अंबिकापुर . अविभाजित सरगुजा में अवैध कोयला खदानों की भरमार है । विशेषकर सुरजपुर जिले के अधिकांश इलाकों में जमीन के नीचे कोयला होने की वजह से यहां संख्या अधिक है । ये अवैध कोयला खदानें तस्करों के लिए सोने की खान की तरह हैं । कोल तस्कर स्थानीय ग्रामीणों को रुपए का लालच देकर अवैध खनन का कार्य कराते हैं । वहीं ग्रामीण भी रुपए के लालच में जान की बाजी लगाकर अवैध खदान से कोयला निकालते हैं । अब तक अवैध खदान धसकने से कई ग्रामीणों की जान भी जा चुकी है । इस गोरखधंधे पर पुलिस का कोई नियंत्रण नहीं है ।

 गौरतलब है कि अविभाजित सगुजा में एसईसीएल की खदानों से सटे ग्रामों में अवैध कोयला खदान की भरमार है। इसके अलावा सूरजपुर जिले के अधिकांश इलाकों में जमीन के नीचे कोयला होने की वजह से यहां भी जगह - जगह अवैध खदान तस्करों द्वारा बना दिए गए हैं । कोयले का अवैध कारोबार एक संगठित गिरोह द्वारा वर्षों से सरगुजा में किया जा रहा है । ऐसे भी आरोप लगते हैं कि स्थानीय थानों के संरक्षण में यह कारोबार जमकर फल - फूल रहा है । कोल तस्कर स्थानीय ग्रामीणों की मदद से अवैध खदानों से कोयला निकलवाते हैं , फिर एक जगह डंप कर उसे अवैध ईंट भट्ठों व डिपो में खपाया जाता है । चोरी के ही कोयले से अविभाजित सरगुजा में अधिकांश ईंट भट्टे सुलग रहे हैं , फिर भी खनिज विभाग द्वारा किसी प्रकार की जाच या कार्रवाई नहीं की जाती है ।

इन स्थानों पर अवैध कोयला खदान

अविभाजित सरगुजा के दुप्पी – चौरा , केंवरा , बगड़ा , पलढा , सपना – सुखरी , बेलढाव , कालापारा , गुमगरा सहित अन्य कई ऐसे इलाके हैं जहां अवैध खदान संचालित है । ये दान । तस्करों के लिए सोने के खान से कम नहीं हैं । दिन – रात यहां से कोयला निकालकर तस्करी की जाती है । ऐसे आरोप भी लगते रहते हैं कि विभिन्न क्षेत्रों में कोयले का अवैध कारोबार स्थानीय पुलिस की मिलीभगत से ही हो रहा है । हर माह एक तय कमीशन पुलिस का भी बंधा रहता है ।

जान की परवाह नही करते ग्रामीण

कोल तस्कर ग्रामीणों को रुपए का लालच देकर इनसे अवैध कोयला खदानों में खनन का काम करते हैं । ग्रामीण भी लालच में अपनी जान की परवाह किए बगैर अवैध खदानों से दिन – रात कोयला निकालते हैं , फिर बोरियों में भरकर तस्करों द्वारा बताई गई जगह पर डंप कर देते हैं । प्रति बोरी के हिसाब से तस्कर उन्हें रुपए दे देते हैं । अभी कुछ दिन पूर्व ही उदयपुर ब्लॉक के बेलढाथ में । कोयला निकालने के दौरान दबकर एक युवक की मौत हो गई थी । पूर्व में भी ऐसे कई हादसे हो चुके हैं ।

सभी थाना प्रभारियों व अधिकारियों को कोयले के अवैध कारोबार के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं । जब भी शिकायत मिलती है , त्वरित कार्रवाई की जाती है ।

केसी अग्रवाल , आईजी , सरगुजा रेंज

Related posts

रायगढ : जेएसडब्ल्यू नहीं करेगा जिंदल के पावर प्लांट का अधिग्रहण . करीब तीन साल तक चलती रही बातचीत बेनतीजा , 6500 करोड़ में होने वाली थी डील.

News Desk

नया प्लांट लगाने की तैयारी में बाल्को : पहले ही दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित इलाकों में एक है कोरबा, पूरे प्रदेश में बढ़ेगा प्रदूषण

कोल इंडिया के एसईसीएल कंपनी : सिंचाईका पानी नहीं तो नहीं चलेगी कोयला खदान_भी.

News Desk