आंदोलन औद्योगिकीकरण जल जंगल ज़मीन पर्यावरण

सरकार बदलने से जंगल जमीन खनिज की कारपोरेट लूट खत्म नही होती.:, संदर्भ सरगुजा परसा केते

सरकार बदलने से जंगल जमीन खनिज की कारपोरेट लूट खत्म नही होती। पर्यावरण का विनाश करने पर भी अडानी जैसी कंपनियो पर प्रशासन मेहरबान बना ही रहता हैं ।
सरगुजा में अडानी द्वारा संचालित परसा ईस्ट केते बासन कोयला खदान से साल्ही नाला जो अटेम नदी से हसदेव में मिलता हैं। उसमे छोड़ा गया कोल बाशरी का काला प्रदूषित पानी ।

साल भर बहने वाले इस प्राकृतिक नाले का अस्तित्व अब खत्म से हो गया हैं क्योंकि कैचमेंट में खदान में आ गया हैं । अब गर्मी में सूखा रहता हैं और कभी कभी अदानी की मेहरबानी से बहने लगता हैं वह भी इस तरह से ।
ये घटना अब सामान्य बात हैं पहले ग्रामीणों शिकायत पर सरगुजा के क्षेत्रीय अधिकारी जाँच और खानापूर्ति के लिए आ जाते थे लेकिन हमारे साल्ही के साथी रामलाल बता रहे थे कि क्षेत्रीय अधिकारी ने अब उनके फोन को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया हैं।

आलोक शुक्ला की वाल से 

Related posts

ग्राम सभा से पहले 14 गांव के लोगों ने 11 बिंदुओं पर बनाया प्रस्ताव, बिना अनुमति पुल सडक निर्माण पर भी रोक. गोंडेरास की ग्राम सभा में बुरगुम ,पोटली कैम्प का होगा विरोध

News Desk

अरपा नदी के उद्गम स्थल होगा अतिक्रमण से मुक्त , कलेक्टर बिलासपुर ने दिये आदेश.

News Desk

सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन कर दलित बुद्धिजीवी प्रो. आनंद तेलतुंबड़े गिरफ्तार

News Desk