आंदोलन औद्योगिकीकरण जल जंगल ज़मीन पर्यावरण

सरकार बदलने से जंगल जमीन खनिज की कारपोरेट लूट खत्म नही होती.:, संदर्भ सरगुजा परसा केते

सरकार बदलने से जंगल जमीन खनिज की कारपोरेट लूट खत्म नही होती। पर्यावरण का विनाश करने पर भी अडानी जैसी कंपनियो पर प्रशासन मेहरबान बना ही रहता हैं ।
सरगुजा में अडानी द्वारा संचालित परसा ईस्ट केते बासन कोयला खदान से साल्ही नाला जो अटेम नदी से हसदेव में मिलता हैं। उसमे छोड़ा गया कोल बाशरी का काला प्रदूषित पानी ।

साल भर बहने वाले इस प्राकृतिक नाले का अस्तित्व अब खत्म से हो गया हैं क्योंकि कैचमेंट में खदान में आ गया हैं । अब गर्मी में सूखा रहता हैं और कभी कभी अदानी की मेहरबानी से बहने लगता हैं वह भी इस तरह से ।
ये घटना अब सामान्य बात हैं पहले ग्रामीणों शिकायत पर सरगुजा के क्षेत्रीय अधिकारी जाँच और खानापूर्ति के लिए आ जाते थे लेकिन हमारे साल्ही के साथी रामलाल बता रहे थे कि क्षेत्रीय अधिकारी ने अब उनके फोन को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया हैं।

आलोक शुक्ला की वाल से 

Related posts

सुकमा कलेक्टर व SP से मिलकर घायल महिला सोयम रामे के परिवार के तरफ तरफ आवेदन देकर रामे का इलाज कराए जाने की मांग, : सोनी सोरी मिली अधिकारियों से

News Desk

The protest programme at Parliament Street in Delhi by Campaign Against State Repression on Rights Activists saw the participation of over four thousand people.

News Desk

सुप्रीम कोर्ट का निर्णय ःः आदिवासियों की बेदखली के खिलाफ़ राजनांदगांव में किसान संघ का धरना प्रदर्शन .रायपुर में भारी प्रदर्शन का एलान .

News Desk