Covid-19 अभिव्यक्ति कला साहित्य एवं संस्कृति छत्तीसगढ़ ट्रेंडिंग नीतियां बिलासपुर रायपुर

सरकार अद्भुत है…

Fotot : Appu Navrang

सरकार अद्भुत है…

हमारी सेहत की चिंता में दुबली हुई जा रही छत्तीसगढ़ सरकार ने 4 मई से शराब दुकानें खोल दीं हैं. निर्देश दिया कि सोशल और पर्सनल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मदिरा बेचीं जाए. हालांकि शराब दुकानों में पर्सनल डिस्टेंसिंग के बारे में सोचना, सपने में करोडपति हो जाने की तरह है…पर सरकारें ऐसा सोच सकती हैं और हमें भी सोचने को कह सकती हैं, यही तो उनका हुनर है.

घर में रहें शुरक्षित रहें का विज्ञापन करने वाली सरकारों को यकायक ब्रह्मज्ञान प्राप्त हुआ कि भूखों को पिलानी चाहिए.

सरकार हमारी भयानक चिंता करती है. खाना और दवाइयां नहीं दे पा रही है तो क्या हुआ…पिला पिला के वो हमें गम के दरिया से निकाल लेना चाहती है.

कैसे कह सकते हो भाई कि सरकार कुछ नहीं कर रही…परोपकार की हद देखिए जनाब…हमारे घर तक बोतल पहुचाने इंतज़ाम कर दिया उसने. सरकार अद्भुत है…

लॉकडाउन में प्रदेश के ज़रुरतमंदों को ढंग का खाना पहुचाने की इच्छाशक्ति दिखाते हुए सरकार ने कोई आसान सा, त्वरित काम करने वाला ढांचा बनाया हो, ऐसी जानकारी तो मेरे पास नहीं है…मेरे बाप के पास भी नहीं है….हां, सरकार के पास ज़रूर हो सकती है. सरकार कुछ भी जान-बता सकती है. सरकार…अद्भुत है…

क्या है कि सरकार चाहे तो हर एक को पौष्टिक आहार दे सकती है, इम्यून सिस्टम को मज़बूत बना सकती है, पर वो जानबूझकर ऐसा नहीं कर रही है. क्योंकि सरकार हमारी चिंता करती है…भयानक चिंता करती है. रोग प्रतिरोधक शक्ति जैसी आलतू फ़ालतू चीज़ों पर समय बर्बाद करने की बजाए, सरकार हमारी मानसिक सहन शक्ति बढ़ाने का काम कर रही है…मैंने कहा न…सरकार अद्भुत है

ये बात अलग है कि खाने के इंतज़ाम के लिए लोग अब भी भटक रहे हैं लेकिन किसी को शराब के लिए भटकते देखना…उफ़…बड़ा तकलीफदेह होता है. माननी पड़ेगी सरकार की संवेदनशीलता. मदिरा बुकिंग के लिए उसने अलग एक वेबसाईट बना डाली…जैसे बाहुबली में शिवा माँ के पास शिवलिंग उठाकर ले आता है.

http://csmcl.in इस वेबसाईट पर जाइए वो भी नहीं है तो मोबाइल पर CSMCL APP डाउनलोड कर लीजिए. सारी शराब दुकानों को गूगल मैप से जोड़ दिया गया है. अपना मोबाइल नम्बर, आधार कार्ड और पता भरकर पंजीयन कर लीजिए एक ओ.टी.पी. आएगा उससे ऑर्डर पक्का कर दीजिए. बैठे बैठे 5 मिनट में 5000ML दारु बुक कर लीजिए.

इससे बढ़िया और इससे त्वरित, कोई इंतज़ाम होता कभी देखा है तुमने?

मैं पी के पेयाला मस्त रहूँ उस मौत का मंज़र अद्भुत है…

Related posts

आलोचना का लोकधर्म : आलोचना की लोकदृष्टि – अजय चंन्द्रवंशी ,कवर्धा.

News Desk

The protest programme at Parliament Street in Delhi by Campaign Against State Repression on Rights Activists saw the participation of over four thousand people.

News Desk

रमणिका गुप्ता का जाना एक हादसा है ःः संजीव खुदशाह

News Desk