जल जंगल ज़मीन दलित

विधायक बांधी ने उद्योग मंत्री के सामने अपनी ही सरकार की मिली भगत को किया उजागर

बिलासपुर . मस्तुरी के विधायक डॉ कृष्ण मूर्ति बांधी ने मानिकचौरी में विश्व आदिवासी सम्मेलन में पूर्व की अपनी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला उन्होने उद्योग मंत्री कवासी लखमा से कहा कि महज दो किमी दूर चिल्हांटी है , जहां के आसपास के करीब साढ़े चार हजार एकड़ जमीन उद्योगपतियों अधिग्रहण किया उस समय हमारी सरकार थी।

हमें धोखे में रखा गया और मिलीभगत कर आपसी समझौते से जमीन की खरादारा हो गई आपसी समझौता का परिणाम यह हुआ कि जिस जमीन की कीमत 18 – 20 लाख रुपए मिलने थे उद्योग स्थापति होने थे भू प्रभावित आदिवासियों के बच्चों को नौकरी मिलनी थी , लेकिन ये सब मिलीभगत कारण नहीं हुआ ग्राम पंचायत मानिकौरी में रविवार को विश्व आदिवासी सम्मेलन का आयोजन किया गया था इसमें मुख्य अतिथि के रूप में उद्योग मंत्री कवासी जखमा शामिल हए समारोह में क्षेत्रीय विधायक डॉ . बांधी भी अतिथि भाषण की शुरुआत कांग्रेस सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए की उन्होंने कहा कि उद्योगपतियों ने बस्तर में जिन आदिवासियों की जमीन ली थी और वहां कुछ काम नहीं किया , उन उद्योगपतियों के हाथों से जमीन छीनकर आदिवासियों को वापस दिलाई गई यह सराहनीय है ऐसा ही मामला मस्तूरी क्षेत्र में है ।

उन्होंने कहा कि इन उद्योगों के खिलाफ हम लड़ाई लड़ें तो आप साथ दीजिएगा । बांधी ने कहा कि आपके नियम में है 2019 औद्योगिक नीति में , जिसमें इस क्षेत्र को औद्योगिक क्षेत्र घोषित करने का यहां पर लाफार्ज मा यहा पर लाफाज , जिंदल , एसीसी , एसकेएस समेत बड़े – बड़े उद्योग हैं । आप यहां पर 25 एकड़ मांग रहे हैं । हम आपको यहां पर 100 एकड़ जमान दन का गारदालतह कार्यक्रम में सांसद अरुण साव पूर्व शिक्षा मंत्री केदार कश्यप , विधायक शैलेष पाण्डेय जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी पूर्व विधायक दिलीप लहरिया , प्रदेश प्रवक्ता अभयनारायण राय लक्ष्मी भार्गव सहित अन्य लोग ।

मांदर की थाप पर झूमे कवासी लखमा

आदिवासी समाज द्वारा कर्मा नृत्य के लिए टीम सदस्यों को बुलाया गया । मांदर की थाप शुरू हुई तो लखमा अपने आप को रोक नहीं पाए और मंच से विधायक शैलेश पाण्डेय और विजय केशरवानी को लेकर कर्मा नृत्य करने पहुंचे । तीनों के सिर में पीला कलर का गमछा बांधा गया । मांदर को दिया गया टीम के साथ तीनों झूमने लगे ।

सामाजिक कम राजनीतिक रहा मंच

कार्यक्रम आदिवासी समाज का था , लेकिन कार्यक्रम पूरी तरह से राजनैतिक था । मंच में कांग्रेस नेता कवासी लखमा , विधायक शैलेश पाण्डेय , पूर्व विधायक दिलीप लहरिया जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी व अभयनारायण राय के अलावा भाजपा से सांसद अरुण साव , पूर्व मंत्री डॉक्टर कृष्ण मूर्ति बांधी , पूर्व शिक्षा मंत्री केदार कश्यप सहित अन्य नेता मौजूद थे । बताया जाता है दो दिन पहले अतिथियों के नाम को लेकर जमकर उठापटक

Related posts

शरद पवार के सपनो की बदरंग सिटी लवासा .

cgbasketwp

5 जूलाई को 24 घंटे का झारखंड बंद ःः आदिवासी जनता के साथ हो रहे सरकारी जुल्म का विरोध करें.

News Desk

त्रिपुरा में वाम मोर्चे के बहाने दलित चेतना और कम्युनिस्ट अन्तर्सम्बन्ध अनुभव के आधार पर . : जगदीश्वर चतुर्वेदी

News Desk