आदिवासी

वन प्रबंधन एवं पर्यावरण सरक्षण हेतु पहल ःः मलमेटा 

8.12.2018

अंतागढ़ जिला कांकेर , मलमेटा 

अनुसूचित जनजाति और अन्य परम्परागत वन निवासी ( वन अधिकारों की मान्यता ) अधिनियम 2006  के अंतर्गत सामुदायिक दावा करने की प्रक्रिया के तहत वनाधिकार समीति ग्राम मलमेटा के द्वारा दावा पत्र तैयार करने हेतु प्रयासरत है । वन अधिकार समीति के अध्यक्ष मयाराम नुरेटी ने बताया कि, पारंपरिक वन संसाधन के सरक्षण एवम संवर्धन हेतु ग्रामवासी लगातार वन अधिकार कानून के क्रियान्वयन को लेकर सजग है जिसके लिए वे लगातार विभिन्न ग्रामवासियो के साथ काम किया जा रहा है,.

आज दिनांक 06.12.18 को समय सुबह 10 बजे से सामुदायिक दावा सत्यापन के लिये बैठक रखा गया था जिसमें शासन दो विभाग राजस्व एवं वन विभाग को नोटिस भेज मौका सत्यापन हेतु बुलाया था जिसमे मलमेटा के सभी ग्राम वासियों मे महिला-पुरुषों के साथ तहसीलदार महोदय अंतागढ़ व हल्का नं १६ के पटवारी , ग्राम पंचायत के सचिव ,शिवनाथ उसेंडी के अलावा पडोसी गांव से बुजुर्ग भी आये थे परंतु वन विभाग से कोई भी अधिकारी के उपस्थित नही रहने के कारंण CFR दावा सत्यापन कार्य नही हो सका जिसे स्थगित कर दोबारा नोटिस देने का निर्णय वनाधिकार समीति और गांव सभा ने लिया है ।

सामुदायिक दावा कराने के इस काम मे दिशा संस्था की तरफ से श्री राजाराम कोरेटी एवं श्री रामकुमार दररो द्वारा ग्रामवासियो एव सामाजिक संघठनो को आदिवासियों के आजीविका के साधन को सुरक्षित करने एवम जल जंगल जमीन को सुरक्षित करने पहल किया जा रहा है।

**

Related posts

पत्थरगढ़ी पर टूटा कहर : जय श्री राम , भारत माता की जय ,वन्दे मातरम के नारे लगाते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं ने आदिवासियो की परंपरागत पत्थल गढ़ी को तोड़ दिया .आदिवासियो ने अधिकारीयों को घेरा .स्थिति बन गई थी तनावपूर्ण .

News Desk

? पांचवी अनुसूचित क्षेत्र में पेसा कानून 1996 की धज्जियां उड़ाकर बिना ग्रामसभा की सहमति के भूमि-अर्जन की प्रक्रिया शुरु हो गई ,: सरगुजा छतीसगढ

News Desk

कोयला संसाधन एक जन-संपदा हैं जिनका उपयोग केवल जन–हित में होना चाहिए न कि निजी मुनाफे के लिए : केंद्र सरकार का यह निर्णय वनों  व पर्यावरण के भारी विनाश के साथ आदिवासियों के विस्थापन को बढाएगा – छतीसगढ बचाओ आंदोलन .

News Desk