अदालत आदिवासी आंदोलन किसान आंदोलन जल जंगल ज़मीन पर्यावरण मजदूर महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार राजकीय हिंसा

रावघाट आंदोलन : आंदोलनकारीयों की मांग को रेलवे के डीआरएम ने सही माना ,बिना नौकरी के किसी भी प्रकार से रेल नहीं चलने देंगे . ग्रामीण फिर तम्बू तान कर पटरियों पे बैठे .

 

16.03.2018

कांकेर ,भानुप्रतापपुर 

रावघाट : आंदोलनकारीयों की मांग को रेलवे के डीआरएम ने सही माना ,बिना नौकरी के किसी भी प्रकार से रेल नहीं चलने देंगे . ग्रामीण फिर तम्बू तान कर पटरियों पे बैठे . ट्रेन का विरोध कर रहे किसानों को कल 10 दिन से आंदोलन कर रहे पुलिस 233 आंदोलन कारियों को.जबरन रेल पटरी से हटा दिया था और अस्थाई जेल ले गये थे , शाम को छूटने के बाद फिर उसी जगह पर किसान तम्बू गाड़ कर बैठ गए है , उन्होंने पत्रकारों से साफ कह दिया कि जब तक सभी को नोकरी नहीं मिलेगी तब तक किसी भी स्थिति में रेल नहीं चलने देंगे ।विभाग चाहे तो पटरी उखाड़ कर ले जाये., उन्हें नोकरी भी चाहिये और उचित मुआवज़ा भी देना ही होगा ,इसके बिना न तो आंदोलन बंद होगा और न रेल चल पायेगी .

आज रेलवे के ही डीआरएम ने मांगो से सहमति जताई और कहा कि किसानों की मांग जायज है, हमारी चर्चा उपर के अधिकारियों से हो रही हैं
**

Related posts

पारंपरिक आदिवासी महासभा में पारित हुए छ एतिहासिक प्रस्ताव , महासभा नें रद्द किया किया कुदरगढ़ का ट्रस्ट .

News Desk

भिलाई ःः मजदूर संगठनों ने मनाया शहीद दिवस .

News Desk

जियो कोतवाली पुलिस, लड़की की पढ़ाई का ख़र्च उठाकर निसंदेह आपने पिता की कमी कम की है

News Desk