मानव अधिकार

रायपुर : मेकाहारा अस्पताल में लगातार 25 हफ़्तों से बांट रही है कपड़े लीड 18 प्लस.

इंडोनेशिया से लौटे युवा ने दान किया 50 जोड़ी कपड़ा

शहर में अपने कई सारे कर्यक्रम देखे होंगे कही गाने का कार्यक्रम कही हास्य कार्यक्रम, कई कपड़ों के विज्ञापन भी देखे होंगे और कई बार टीवी एवम पेपर के माध्यम से कपड़ो के विज्ञापनों को सुना होगा । पर आपके ही शहर में एक ऐसी संस्था 25 हफ्ते से कार्य कर रही है जिसके बारे में आपने सुना ही नही होगा । हम बात कर रहे है लीड18+ सामाजिक संस्था की, जो लगातार 25 हफ़्तों से हर शानिवार एवम रविवार को अवकाश होने के बावजूद कड़ी धूप में अपने घरों से निकल कर गरीबों ओर जरूरत मंदो को आपसे ही पुराने नए कपड़े लेकर दान कर रही है । खास बात यह है कि इस संस्था मैं डॉक्टर इंजीनियर एवम उच्च शिक्षित वर्गीय लोग है। जो लगातार समाज में जरूरत मंदो की मदद के लिए तैयार रहते हैं ।


आज अम्बेडकर अस्पताल के परिसर में कपड़ा बैंक के माध्यम से जरूरतमंद लोगों को कपड़ा दान करने इंडोनेशिया में कार्यरत रहे युवा उद्यमी श्री योगेश पुरोहित ने अपने परिवार की ओर से लगभग 50 जोड़ी कपड़ों का दान किया । इसी तरह युवा मेडिकल व्यवसायी साजिद अख्तर ने 20 जोड़ी जीन्स पेंट व शर्ट का दान किया । आज के कार्यक्रम में अंकित जैन, पवन सक्सेना, एम एम हैदरी, अरविंद राठौड़, अज़ीम खान, रानू वर्मा, आकाश सिंह, अमन नवलानी, अन्यतम शुक्ला, संकेत ठाकुर आदि ने योगदान किया ।

युवाओं की सक्रिय भागीदारी के कारण संस्था का नाम लीड 18+ रखा गया है । इनके सदस्यों में से एक साथी अंकित जैन इंजीनियर है जिन्होंने बताया कि जिंदगी में युवाओं को भाग दौड़ और खुद के सपनों को साकार करने की चाहत बनी रहती है, ऐसा न हो कि जब भविष्य में आपकी आने वाली पीढ़ी आपसे पूछे कि आपने इस समाज के लिए क्या किया और हमारे पास उत्तर न रहे । इसी सोच के चलते कुछ युवाओं ने जरूरतमंद लोगों को सहायता उपलब्ध कराने का बीड़ा उठाया । वर्तमान में 200 से ज्यादा सदस्य इस मुहिम से जुड़ चुके है । संस्था के सदस्य प्रति शनिवार-रविवार को मरीन ड्राइव में गाते बजाते कपड़े एकत्रित करते आपको मोर रायपुर आइकॉन के पास मिल जायँगे । इन्होंने ज्यादा से ज्यादा युवाओं को जुड़ने का आह्वाहन किया ।

Related posts

जन-वन अधिकार पर जन-घोषणा पत्र जन- वनाधिकार सम्मेलन, 28-29 अक्टूबर 2018, रायपुर में पारित .

News Desk

बीजापुर भैरमगढ : दो दिन पहले 26 आदिवासियों को जबरिया थाने में बैठाया, तीसरे दिन उनमें से 13 नक्सली बन गये…बना दिए गये.? :- जावेद अख्तर की रिपोर्ट

News Desk

भारतीय न्याय और प्रशासन व्यवस्था लोकतंत्र के उद्देश्यों के हिसाब से ठीक नहीं चल रही है. ःः महाधिवक्ता बनने के बाद कनक तिवारी ने क्या कहा .

News Desk