आदिवासी राजनीति सांप्रदायिकता

रायपुर : अजीब निज़ाम हैं : हाथ में बाईबल लेकर प्रार्थना करना भी अपराध हो गया .: बजरंगीयों की झूठी शिकायत पर पहुंची पुलिस ,अखबार में मी दंगाइयों के पक्ष में छपी रिपोर्ट .

 

17.06.2018 / रायपुर

कल एक बार फिर पुलिस ,हिन्दू संगठनों की मिलिभगत का मामला सामने आया है . रायपुर के लालपुर इलाके के एक काम्प्लेक्स में रविवार को करीब 300 लोग बाईबिल को हाथ में लेकर प्रार्थना कर रहे थे ,भाजपा कार्यकर्ता श्याम चावला ने पुलिस को शिकायत कर दी कि बडी संख्या में धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है , और बडे से बडे संगीन मामलों मे चुप्पी लागाये जाने वाली पुलिस हिन्दू सैना की तरह प्रार्थना स्थल पर पहुँच गई साथ में बजरंग दल और भाजपा के लोगों को भी ले गई .

वहाँ जाकर 15 लोगों के बयान लिये गये सबने कहा कि हम अपनी मर्ज़ी से प्रार्थना कर रहे हैं ,सबने यही कहा कि हमारा धर्मान्तरण से कोई लेना देना नहीं है । कृष्णा जांगड़े एस आई राजेन्द्र नगर ने बाद में यह कहा कि वहाँ पर सभी लोग अपनी मर्ज़ी से प्रार्थना करने आये हैं ,इसलिए किसी के खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया गया . हांलाकि साथ में गये बजरंगीयों और भाजपाईयों ने बहुत हुडदंग मचाया और अपमान जनक नारे बाजी भी की .

मीडिया ने भी हिन्दू संगठन बन कर रिपोर्ट की .
**

एक प्रमुख अख़बार ने लिखा है कि वहाँ तीन सौ लोगों को धार्मिक किताब थमाकर प्रार्थना कराई जा रही थी ,आगे वह अखबार यह लिखता है कि आसपास के बच्चों ,महिलाओं और बुजुर्गों को यह कह कर बुलाया गया था कि यदि आप प्रभु की शरण में आओगे तो सभी तकलीफें दूर हो जायेंगी . अखबार की हैडिंग थी कि बच्चों से बुजुर्गों तक का करा रहे थे धर्मान्तरण .

मानों कोई खुद अपनी मर्ज़ी से बाईबल पढ नही सकता उसे बाईबल पकडाई जाती हैं और यह लिखना कि यदि प्रभु की शरण में आओगे तो आपकी सभी तकलीफें दूर हो जायेगी ,यह बात कोन सा धर्म नहीं कहता , सिर्फ़ ईसाई ही कहते हैं . और सबसे बडी बात कि जब पुलिस ने वहाँ कोई मामला तक दर्ज नही किया और यह बयान भी लिया कि वहाँ किसी भी तरह धर्म परिवर्तन नहीं हो रहा था तो भी यह अखबार लिखता है ” बच्चों से बजुर्गों तक का करा रहे थे धर्म परिवर्तन .”
इस तरह की रिपोर्टिंग पूरी तरह भ्रामक और उकसाने वाली हैं .

पुलिस , सरकार ,मीडिया और हिन्दू संगठनों की जुगाली से समाज में ईसाइयों के खिलाफ माहौल बनता है और इसकी फसल भाजपा चुनाव में काटती है.
मजे की बात यह भी है कि इस घटना का धर्म परिवर्तन से कोई संबंध नहीं हैं यह भी उसी रिपोर्ट में लिखा है .
जानबूझकर में कटिंग नही लगा रहा हूं.
**

Related posts

त्रस्त जनता ने “आप” को माना है सबसे बेहतर विकल्प – नम्रता सोनी

News Desk

छत्तीसगढ़ : संदिग्ध माओवादियों के साथ मुठभेड़, सुकमा में 17 जवान शहीद

News Desk

50 से ज्यादा जनसंगठनों ने किया #पोल_खोल_हल्ला_बोल_प्रदर्शन : भोपाल .

News Desk