अभिव्यक्ति आंदोलन जल जंगल ज़मीन महिला सम्बन्धी मुद्दे मानव अधिकार

रायपुर : अंतर्रष्ट्रिय मेहनतकश महिला दिवस का हुआ आयोजन

छत्तीसगढ़ महिला अधिकार मंच व विभिन्न महिला संगठन द्वारा अंतर्रष्ट्रिय मेहनतकश महिला दिवस का हुआ आयोजन

7 मार्च 2020 को छत्तीसगढ़ महिला अधिकार मंच व विभिन्न महिला संगठन द्वारा अंतरराष्ट्रीय मेहनतकश महिला दिवस का कार्यक्रम नगर निगम गार्डन रायपुर में रखा गया। 

इस कार्यक्रम को छत्तीसगढ़ महिला अधिकार मंच, जमात-ए-इस्लामी हिंद रायपुर महिला संगठन, महिला मुक्ति मोर्चा, घरेलू कामगार कल्याण संघ, दलित आदिवासी महिला मोर्चा, W S S छत्तीसगढ़ व अन्य महिला संगठन ने मिलकर आयोजित किया।

रायपुर भिलाई बलौदा बाज़ार बस्तर कांकेर जशपुर व छत्तीसगढ़ के कई जगहों से लगभग 500 महिलाएँ सभा में शामिल हुईं। 

वक्ताओं में बिलासपुर उच्च न्यायालय के वकील व दलित आंदोलन से जुड़े गायत्री सुमन, आदिवासियों के हक़ों के लिए लड़ने वाले सामाजिक कार्यकर्ता व आदिवासी नेत्रि सोनी सोरी, डॉक्टर अम्बेडकर के नवायना बुद्धिस्म को महिलावादी नज़रिए से प्रकाश डालने वाले दलित आंदोलन से जुड़े भनते सुनीति व विजया मैत्रिया जी, रायपुर से मदिहा, सफ़ाई कर्मचारी यूनियन की साथी खेमीन साहू व अनुष्का, बलौदा बाज़ार से गंगोत्री साहू, घरेलू कामगार यूनियन से रितु हरपल, जशपुर से सामाजिक कार्यकर्ता ममता कुजूर, पिथौडा से सामाजिक कार्यकर्ता राजिम तांडी, रायपुर से सामाजिक कार्यकर्ता दुर्गा झा व महिला पादरी अर्चना एड्गर, जमाते इस्लामी रायपुर महिला संगठन के फ़ाख़रा तबस्सुम आदि उपस्थित रहे। नुज़हत आब्दा और नीरा डहरिया ने कार्यक्रम का संचालन किया।

महिला आंदोलन, मज़दूर आंदोलन, दलित आंदोलन व छत्तीसगढ़ के सिविल सोसाइटी से जुड़े कई लोग कार्यक्रम में शामिल हुए। 

महिलाओं पर शोषण, दमन व हिंसा के ख़िलाफ़, उनके संवैधानिक हुक़ूक़ के लिए, नगरिकता व संविधान पर किए जा रहे हमलों के ख़िलाफ़, मुस्लिम महिलाओं के अस्मिता व अधिकारों के लिए, कॉर्पोरेट घरानों द्वारा आदिवासियों की बेदख़ली और छत्तीसगढ़ के जल जंगल ज़मीन की लूट, मज़दूर महिलाओं के शोषण के ख़िलाफ़ व देश में बढ़ती नफ़रत से लड़ने के लिए यहां एक बुलंद आवाज़ उठायी गयी।

Related posts

बिलासपुर : लॉकडाउन के बीच पुलिस की दादागिरी, पेट्रोल पम्प कर्मचारी पर बरसाए डंडे

News Desk

नफ़रत की उम्र छोटी होती है. मोहब्बत की कहानियाँ आने वाली पीढियां याद रखती हैं. : हिमांशु पांडे

News Desk

रावघाट आंदोलन : आंदोलनकारीयों की मांग को रेलवे के डीआरएम ने सही माना ,बिना नौकरी के किसी भी प्रकार से रेल नहीं चलने देंगे . ग्रामीण फिर तम्बू तान कर पटरियों पे बैठे .

News Desk